The Mooknayak - आवाज़ आपकी

भारतीय मजदूर
Rajan Chaudhary
4 min read
भारतीय श्रमिक इज़राइल में, इज़राइल-हमास के बीच हुए संघर्ष के दौरान ध्वस्त हुए भवनों और घरों के निर्माण कार्य में मदद करेंगे.
ईप्सा शताक्षी व रूपेश.
दलित महिला शिक्षक हेमलता बैरवा (गोले में).
लोकसभा चुनाव 2024: पानी में आर्सेनिक, गुर्दे में पथरी से परेशान मिर्जापुर के लोग, समस्या चुनावी मुद्दा नहीं!
सहरिया जनजाति पिछड़ी जनजातियों में से एक है. वर्तमान में इनकी शून्य जनसंख्या वृद्धि है और यह सर्वाधिक कुपोषित जनजाति है।
जलकर राख हुई झोपड़ी
मीडियाकर्मी को मामले की सूचना देते दलित वेटरनरी चिकित्सक।
सांकेतिक फोटो।
अलवर जिले में एक छात्र की सिर्फ इसलिए बुरी तरह पिटाई कर दी क्योंकि वह छोटी जाति का है.
पीड़ित दलित छात्र
दलित उत्पीड़न
पिटाई
थाने में दी गई तहरीर और पीड़ित युवती
बिहार में मुसहरों को अभी भी उनके लिए विशेष रूप से निर्धारित बस्तियों को छोड़कर कहीं भी रहने की अनुमति नहीं है।
सांकेतिक फोटो.
दलित युवक के साथ मारपीट. सांकेतिक फोटो
यूपी: कोर्ट के आदेश पर 10 महीने बाद दर्ज हुआ दलित एक्ट में केस, जानिए क्या है पूरा मामला ?
Read More
आंबेडकर जयंती विशेष: बाबा साहब व महात्मा गांधी के बीच क्यों थी असहमति ?
By
Sonia Makwana
6 min read
महात्मा गांधी और बाबासाहेब अंबेडकर दोनों ने समाज सुधार के लिए अथक प्रयास किए। लेकिन कई मुद्दों पर इनके विचार काफी अलग थे। सबसे बड़ा मतभेद यह था कि गांधीजी जाति व्यवस्था से छुआछूत मिटाना चाहते थे, जबकि ...
फाउंडेशन संचालक रामकुमार दृष्टिहीन लड़कियों के साथ।
By
Sonia Makwana
4 min read
बैटल फॉर ब्लाइंड्स फाउंडेशन के संचालक दृष्टिहीन लड़कियों को पढ़ाने में करते है मदद, ज्यादातर लाभार्थी लड़कियां अनुसूचित जाति से हैं।
जेएनयू छात्रसंघ चुनाव BAPSA से अध्यक्ष पद के प्रत्याशी बिश्वजीत मिंजी.
By
Saumya Raj
3 min read
मिंजी अपनी यात्रा का श्रेय माता-पिता के साथ बाबा साहेब अंबेडकर को देते हैं। वे कहते हैं, "चीज़ों को लेकर जो मेरी समझ बनी है वो बाबा साहब के संविधान की वजह से है, मैं यहाँ तक अपने माता-पिता की मेहनत के ...
ढाबा संचालक महिला और उसकी बेटी।
By
Hassam Tajub
4 min read
59 वर्षी आशा देवी की 15 वर्ष की आयु में शादी हो गई थी. उनके माता-पिता पंजाब के रहने वाले थे, शादी के बाद वह अपने ससुराल आईं तो खाना बनाना नहीं आता था. जिसके लिए ससुराल वाले ज़लील करने में कोई कसर नहीं ...
संत रविदास.
By
Saumya Raj
5 min read
संत रविदास का नाम भारत के उन महान संतों में गिना जाता है, जिन्होंने पूरा जीवन समाज सुधार के कार्य करते हुए व्यतीत किया। वो ईश्वर को पाने का एक ही मार्ग जानते थे और वो है- ‘भक्ति’। उनका एक मुहावरा आज भ ...
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री, कर्पूरी ठाकुर
By
Rajan Chaudhary
5 min read
हाल ही में बिहार की राजनीति में एक सबसे चर्चित सामाजिक न्याय की लड़ाई के लिए पहचाने जाने वाले नेता कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देने की जानकारी सामने आई है. इसमें सबसे खास बात यह है कि कर्पूरी ठाकुर दूसर ...
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com