सुरक्षित बचपन: 65 हजार स्कूलों में 63.15 लाख लोगों ने सीखा 'गुड टच-बेड टच' का सबक

शिक्षा विभाग के शासन सचिव आईएएस नवीन जैन का बनाया प्रशिक्षण मॉडल ' गुड टच, बेड टच ' के मामले में देश में सबसे सरल, सहज और बच्चों को समझाने के लिए बेहद कारगर साबित हो रहा है। महज चार चार्ट के जरिए इस महत्वपूर्ण विषय को आसानी से समझाया जा सकता है।
प्रदेश भर के विद्यालयों में एक साथ गुड टच-बेड टच प्रशिक्षण आयोजित कर अनूठा रिकार्ड कायम किया।
प्रदेश भर के विद्यालयों में एक साथ गुड टच-बेड टच प्रशिक्षण आयोजित कर अनूठा रिकार्ड कायम किया।

उदयपुर। राजस्थान सरकार तथा स्कूल शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में सुरक्षित बचपन की मुहिम को विस्तार देते हुए शनिवार को प्रदेश भर के विद्यालयों में एक साथ गुड टच-बेड टच प्रशिक्षण आयोजित कर अनूठा रिकार्ड कायम किया। इसमें 65 हजार से ज्यादा स्कूलों में 63.15 लाख से अधिक विद्यार्थियों, अभिभावकों व स्टाफ ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। राजस्थान के आईएएस अधिकारी ने स्कूली बच्चों को 'अच्छे स्पर्श, बुरे स्पर्श' के बारे में जागरूक करने के लिए अभियान शुरू किया है.


कक्षा एक से 8 तक की श्रेणी के बच्चों को इस महत्त्वपूर्ण विषय पर प्रशिक्षित करने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग के शासन सचिव नवीन जैन का बनाया प्रशिक्षण का मॉडल ' गुड टच, बेड टच ' के मामले में देश में सबसे सरल, सहज और बच्चों को समझाने के लिए बेहद कारगर साबित हो रहा है। महज चार चार्ट के जरिए इस महत्वपूर्ण विषय को आसानी से समझाया जा सकता है।

26 अगस्त को स्कूलों में नो बैग डे श्रृंखला के तहत स्कूलों में चार स्लाइड वाली यह सूचना बड़े-बड़े बैनर्स के जरिए बच्चों के लिए चस्पा की गई तथा विषय विशेषज्ञों तथा प्रशिक्षित शिक्षकों ने बच्चों को इसकी जानकारी दी। इसी शिक्षा सत्र में यह प्रशिक्षण तीन और बार बच्चों को दिया जाना प्रस्तावित है। विभागीय अधिकारियों के अनुसार प्रदेश के 65162 विद्यालयों में प्रशिक्षण कार्यक्रम हुए। इसमें 63 लाख 15 हजार से अधिक विद्यार्थियों, स्टाफ और अभिभावकों ने भाग लिया।

अभियान को लेकर उदयपुर जिले में भी खासा उत्साह नजर आया। जिले के सभी विद्यालयों में प्रशिक्षण कार्यक्रम हुए। इसमें लगभग 3 लाख 77 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने भाग लिया। समस्त अधिकारियों ने प्रशिक्षण में उपस्थित होकर सेशन को और प्रभावशाली बनाया गया। फ्लेक्सी शीट, स्पर्श मूवी के साथ ही कुछ विद्यालय में छोटे-छोटे नाटक  एवं अन्य गतिविधियों से सुरक्षित एवं असुरक्षित स्पर्श के बारे में जानकारी दी गई। स्पर्श वॉलंटियर डॉ सोफिया नलवाया, श्रद्धा मुर्डिया, राधिका अग्रवाल ने भी इन प्रशिक्षणों में उपस्थिति देकर महत्वपूर्ण विषय को बच्चों के बीच सांझा किया। मुख्य जिला शिक्षाधिकारी आशा माण्डावत, एडीईओ ललितकुमार दक ने विभिन्न विद्यालयों में कार्यक्रम का निरीक्षण किया।

ऐसे हुई स्पर्श अभ्यान की शुरुआत

शासन सचिव जैन बच्चों के शारीरिक शोषण और उत्पीड़न पर समाचारों से चिंतित हुए जिसने उन्हें कुछ करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने दिल्ली में एक एनजीओ चलाने वाली ज्योति आनंद से संपर्क किया और उनसे जयपुर आने और बच्चों को शारीरिक शोषण से बचाने के लिए आवश्यक कदमों के बारे में बताने का अनुरोध किया। जैन के कहने पर एनजीओ ने शहर के चार स्कूलों में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए।

तब से जैन ने राजस्थान में भाषा और स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार जागरूकता सामग्री में बदलाव करते हुए आगे बढ़ने का फैसला किया। अधिकारी ने 'सेटरडे फॉर सोसाइटी' साप्ताहिक मॉडल को चुना। इस तरह वह सप्ताह में पाँच दिन अपनी सरकारी नौकरी कर सकते थे और शनिवार को इस उद्देश्य के लिए समर्पित कर सकते थे।


2001 बैच के आईएएस अधिकारी जैन ने 'स्पर्श एक पहल' नाम से एक फेसबुक पेज बनाया। उन्होंने सलाहकार प्रियंका और विक्रम के साथ मिलकर काम किया और अपना पहला कार्यक्रम घर के पास एक सरकारी गर्ल्स स्कूल में आयोजित किया और कई अन्य स्कूलों में भी इसी तरह के कार्यक्रम आयोजित किए।

फ्लेक्सी शीट, स्पर्श मूवी के साथ ही कुछ विद्यालय में छोटे-छोटे नाटक  एवं अन्य गतिविधियों से सुरक्षित एवं असुरक्षित स्पर्श के बारे में जानकारी दी गई।
फ्लेक्सी शीट, स्पर्श मूवी के साथ ही कुछ विद्यालय में छोटे-छोटे नाटक एवं अन्य गतिविधियों से सुरक्षित एवं असुरक्षित स्पर्श के बारे में जानकारी दी गई।

“जब मैं स्वास्थ्य सचिव था, मैंने कन्या भ्रूण हत्या रोकने के लिए बहुत प्रयास किए। मेरा मानना है कि मैं एक ऐसा व्यक्ति हूं जो बच्चों के साथ होने वाले गंभीर अन्याय के सामने चुप नहीं रह सकता,'' जैन कहते हैं। ऐसे संवेदनशील मुद्दे पर लोगों को शामिल करना आसान नहीं है. “बच्चों के साथ इस विषय पर चर्चा करते समय हमें बेहद सावधान रहना होगा; हमें बाल मनोविज्ञान को ध्यान में रखकर कार्य करना होगा। उदाहरण के लिए, जब बच्चे बहुत छोटे होते हैं, तो हमें 'बुरे स्पर्श' के बारे में सीधे तौर पर बात करने की ज़रूरत नहीं है। इसके बजाय, हम उन्हें शरीर के चार अंगों के बारे में बताते हैं और बताते हैं कि अगर घर का या बाहर का कोई सदस्य इन अंगों को जबरदस्ती छूता है, तो उन्हें विरोध करना चाहिए और अपने माता-पिता को सूचित करना चाहिए। यही बात डिजिटल बैड टच के लिए भी लागू होती है,'' जैन कहते हैं।आमतौर पर, 45 मिनट के सत्र में, जैन और उनका समूह 4 से 12 वर्ष की आयु के बच्चों का चयन करते हैं। प्रत्येक सत्र में 200 से अधिक बच्चे नहीं हों।

परामर्शदाता व्यक्तिगत सुरक्षा नियमों का वर्णन करते हैं, बच्चों को सलाह देते हैं कि अजनबियों, घर के नौकरों, बस कंडक्टरों, कोरियर और माली से कैसे निपटें। उन्हें यह भी बताया जाता है कि अगर कोई उन्हें अकेला पाकर 'बैड टच' की कोशिश करता है तो तीन चरणों में उससे कैसे बचा जाए। "बच्चों को 'नहीं, जाओ, बताओ' (No, Go & Tell) रणनीति अपनाने के लिए कहा जाता है जो 'नहीं' चिल्लाने, भागने और अनुभव साझा करने के लिए किसी को बुलाने के इर्द-गिर्द घूमती है। यदि माता-पिता आसपास नहीं हैं, तो बच्चों को चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर 109 के बारे में भी बताया जाता है।

प्रदेश भर के विद्यालयों में एक साथ गुड टच-बेड टच प्रशिक्षण आयोजित कर अनूठा रिकार्ड कायम किया।
अब तक की मुख्य खबरें: 2022 से स्कूल के लिए निकली नाबालिगों को होटल ले जाकर किया जा रहा था रेप

50 प्रतिशत बच्चों के साथ कभी न कभी दुर्व्यवहार

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़े चिंताजनक स्थिति दर्शाते हैं। देश में लगभग 50 प्रतिशत बच्चों को कभी न कभी दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ता है। साइबर और जघन्य अपराध भी तेजी से बढ़ रहे हैं।

डेटा से पता चलता है कि 100 में से 53 मामलों में लड़के पीड़ित होते हैं, लड़कियां नहीं और 83 प्रतिशत मामलों में, संदिग्ध पीड़ितों को जानते हैं। आईएएस नवीन जैन ने अपनी टीम के सदस्यों के साथ मिलकर कक्षा 9 से 12 तक पढ़ने वाले बच्चों के लिए एक अलग मॉडल तैयार किया है, जिसमें उन्हें पॉक्सो एक्ट और निर्भया मामले के बारे में आगाह किया गया है। वह हाई स्कूल के छात्रों को यह भी सलाह देते हैं कि "साइबरस्पेस से कुछ भी नहीं हटाया जाता है।" उनका मानना है कि अगर बच्चों को बुनियादी टिप्स दिए जाएं तो 80 फीसदी मामलों से बचा जा सकता है।

प्रदेश भर के विद्यालयों में एक साथ गुड टच-बेड टच प्रशिक्षण आयोजित कर अनूठा रिकार्ड कायम किया।
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: चुराचांदपुर में प्रवेश के लिए सिर्फ मुस्लिम ड्राइवर ही क्यों?
प्रदेश भर के विद्यालयों में एक साथ गुड टच-बेड टच प्रशिक्षण आयोजित कर अनूठा रिकार्ड कायम किया।
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: रिलीफ कैंपों के कम स्पेस में करवटों में दिन गुजारती गर्भवती महिलाएं, नवजातों की जिंदगियां दांव पर
प्रदेश भर के विद्यालयों में एक साथ गुड टच-बेड टच प्रशिक्षण आयोजित कर अनूठा रिकार्ड कायम किया।
उत्तर प्रदेश: लखीमपुर में नाबालिग युवक दोषी करार, अंतिम सांस तक रहेगा जेल में..

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com