बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर एकसाथ जनता का अभिवादन करते हुए
बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर एकसाथ जनता का अभिवादन करते हुए द मूकनायक

नई पार्टी BAP लांच: दारू-मुर्गा और नोट, अब नहीं खरीद सकेगा आदिवासी का वोट!

अपने राष्ट्रीय नेतृत्व के अनावरण के साथ, भारत आदिवासी पार्टी (बीएपी) ने बड़ी घोषणा की- आगामी विधानसभा चुनाव और 2024 लोकसभा चुनाव में पार्टी स्थापित राजनीतिक दिग्गजों, कांग्रेस और भाजपा के लिए महत्वपूर्ण चुनौतियां पेश करेगी। यह एलान किया गया था कि BAP भारत के स्वदेशी समुदायों की दमदार आवाज़ के रूप में मुखरित होगी।

डूंगरपुर: आदिवासी बाहुल राज्यों राजस्थान और मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनावों से ठीक पहले मूलनिवासियों के हुकूक की बात लेकर एक नई राजनीतिक पार्टी भारत आदिवासी पार्टी (BAP) का उदय हुआ है। गुजरात की भारतीय ट्राइबल पार्टी के टिकट पर 2018 में जीते राजस्थान के दो विधायक राजकुमार रोत और रामप्रसाद ढिंढोर अब बीएपी का प्रमुख हिस्सा हैं। बीएपी ने एलान किया है एमपी और राजस्थान की सभी एसटी आरक्षित सीटों पर पार्टी चुनाव लड़ेगी। यह भी एलान किया है कि बीएपी ना तो इंडिया ना ही एनडीए गठबंधनों से हाथ मिलाएगी। इस लॉन्च ने जनजातीय आबादी में आशा की लहर दौड़ा दी है, उद्देश्य की एक नई भावना प्रज्वलित की है।  

रविवार को राजस्थान के डूंगरपुर जिले के गैंजी घाटा मैदान में जब बाप की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर उतरी और एकस्वर में भारत के तमाम आदिवासी समुदायों को एक प्लेटफॉर्म पर संगठित करने की प्रतिबद्धता जाहिर की, डेढ़ लाख लोगों की उपस्थिति में सभास्थल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। नवगठित पार्टी के प्रमुख नेताओं ने एलान किया, " अब दारू-मुर्गा या नोट, नहीं खरीद सकेगा आदिवासी का वोट। जयपुर-भोपाल या दिल्ली में एयर कंडीशन दफ्तरों में गैर आदिवासी नेता नहीं तय करेंगे कि राजस्थान और मध्यप्रदेश में कौन एसटी सीटों पर चुनाव लड़ेगा। यह हमारे लोग जाजम पर बैठकर तय करेंगे कि उनका नेता कौन बनेगा?" सभा में एमपी, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और बिहार से भी आदिवासी समुदायों के प्रतिनिधि शामिल हुए। किसी प्रमुख राजनीतिक दल की चुनावी रैली से भी ज्यादा भीड़ इस सभा में थी जो राजनीतिक दिग्गजों के माथे पर शिकन की लकीरें लाने के लिए पर्याप्त मानी जा सकती हैं। 

यह शामिल हुए राष्ट्रीय कार्यकारिणी में

मोहनलाल रोत को राष्ट्रीय अध्यक्ष, जितेंद्र आसलकर को राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया। कांतिलाल रोत, विधायक रामप्रसाद डिंडोर, विधायक राजकुमार रोत, राजूभाई वलवई, प्रो. जितेंद्र मीणा, सचिन गामड़ झाबुआ, दिलीप वसावा भरूच, हीरालाल गोदा, प्रो. मणिलाल गरासिया, हीरालाल दामा, विजय भाई भमात, कविता भगोरा, माया कलासुआ, विक्रम सोलंकी, मितेश र वसावा को राष्ट्रीय सदस्य के रूप में शामिल किया। अलग-अलग राज्यों से प्रतिनिधि लिए गए हैं।

द मूकनायक ने बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों से बात की और यह जानने का प्रयास किया कि आखिर यह नई पार्टी किस तरह दिग्गज राजनीतिक दलों भाजपा, कांग्रेस सहित अन्य दलों से मुकाबला करेगी? क्यों आदिवासी पंजा, कमल, ऑटोरिक्शा आदि को छोड़कर इनका साथ देगी? 

हाल ही में पंजीकृत बीएपी ने राजस्थान और मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में सभी एसटी सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की
हाल ही में पंजीकृत बीएपी ने राजस्थान और मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में सभी एसटी सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कीद मूकनायक

बीटीपी टिकट से 2019 में बांसवाड़ा लोकसभा सीट से चुनाव लड़े कांतिलाल रोत ने द मूकनायक से विस्तृत बातचीत की।  रोत ने कहा " आजादी के इतने वर्षों बाद भी  हम आदिवासियों को अपना संवैधानिक अधिकार नहीं मिला है। भाजपा या कांग्रेस दोनों ने हमें लूटा है , हम अपने ही जल-जंगल और जमीनों से बेदखल किये गए जबकि मूलनिवासी प्रकृति रक्षक और वनों के वासी हैं। इन दलों ने हमें केवल वोटर्स के रूप में ही देखा है और हम इन्हें चुनाव के समय ही याद आते हैं। इन पार्टियों में हमारे ही आदिवासी भाई जो हमारे वोट लेकर विधायक और सांसद बन जाते हैं, जीतने के बाद हमारे हुकूक की बात नहीं करते। वे पार्टी अध्यक्ष/हाई कमांड के प्रति उत्तरदायी हो जाते हैं जबकि उनकी जवाबदेही मतदाताओं के प्रति होनी चाहिए।

जमीनी स्तर पर लोकतंत्र और आदिवासी सशक्तिकरण के प्रति प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए  कांतिलाल रोत ने कहा, "अब आदिवासी टिकट दिल्ली, जयपुर या भोपाल से तय नहीं किए जाएंगे। हम समुदाय के साथ जाजम पर बैठेंगे, और हमारे लोग तय करेंगे कि उनका प्रतिनिधित्व करने के लिए उपयुक्त उम्मीदवार कौन होगा।"

भारत के चुनाव आयोग द्वारा हाल ही में पंजीकृत बीएपी ने राजस्थान और मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने के अपने इरादे की घोषणा की, विशेष रूप से आदिवासी समुदायों के लिए आरक्षित सभी सीटों और आदिवासी वोटों को प्रभावित करने वाले आदिवासी क्षेत्रों से सटे सीटों को लक्षित किया। पार्टी के नेताओं ने कांग्रेस और भाजपा जैसे प्रमुख राजनीतिक खिलाड़ियों के प्रति गहरा असंतोष व्यक्त किया और उन पर स्वदेशी समुदायों को केवल मतदाता के रूप में देखने और उनकी वाजिब मांगों  को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाया।

कांतिलाल रोत ने आदिवासी समुदाय की भावना अभिव्यक्त करते हुए बताया कि "कांग्रेस और भाजपा पार्टियों ने हमेशा हमें मतदाता के रूप में देखा है और चुनाव या चयन (भर्ती) में कभी भी हमारा हक नहीं दिया है। इनमें आदिवासी नेता शामिल हैं पार्टियों ने भी कभी समुदाय की परवाह नहीं की, बल्कि अपने हितों के लिए काम किया, और इसलिए, आदिवासियों ने जो कुछ भी हासिल किया है, वह हमारे पूर्वजों के कठोर संघर्षों के माध्यम से प्राप्त किया है।"

भारत आदिवासी पार्टी का मुख्य एजेंडा 'भील प्रदेश' नामक एक नए राज्य का निर्माण है
भारत आदिवासी पार्टी का मुख्य एजेंडा 'भील प्रदेश' नामक एक नए राज्य का निर्माण हैद मूकनायक

कोर एजेंडा- एक भील प्रदेश

भारत आदिवासी पार्टी का मुख्य एजेंडा "भील प्रदेश" नामक एक नए राज्य के निर्माण पर केंद्रित है, जो राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में महत्वपूर्ण संख्या में रहने वाली भील आदिवासी आबादी के लिए एक अलग पहचान और प्रशासन प्रदान करेगा। रोत ने अपनी पैतृक भूमि, जंगलों, जल संसाधनों और पर्यावरण पर अधिकार सुरक्षित करने के महत्व पर जोर दिया, जिसका मुख्यधारा की पार्टियों ने शोषण किया है। "अंग्रेजों ने हमें भील देश का एक नक्शा दिया था जिसे हमने 'भील प्रदेश' के रूप में संशोधित किया है क्योंकि यह भारत का हिस्सा लगता है जबकि भील देश एक अलग इकाई जैसा लगता है।"

यह मांग सबसे पहले भील समाज सुधारक और आध्यात्मिक नेता गोविंद गुरु ने 1913 में मानगढ़ नरसंहार की दुखद घटना के बाद उठाई थी। 17 नवंबर 1913 को राजस्थान और गुजरात की सीमा पर स्थित पहाड़ियों में मानगढ़ नरसंहार हुआ था। ब्रिटिश सेना ने मूलनिवासी समुदाय भीलों के सैकड़ों लोगों की बेरहमी से हत्या कर दी। 1919 में कुख्यात जलियांवाला बाग हत्याकांड के संदर्भ में इस क्रूर घटना को कभी-कभी "आदिवासी जलियांवाला" कहा जाता है। इस प्रस्तावित राज्य का गठन चार राज्यों, अर्थात् गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के 43 जिलों से किया जाएगा।

लोगों के प्रति जवाबदेही, 'हाईकमान' या पार्टी अध्यक्षों के प्रति नहीं 

मौजूदा भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) के साथ गठबंधन करने के बजाय एक अलग पार्टी बनाने के बीएपी के फैसले पर बीएपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहनलाल रोत ने बताया कि कांग्रेस, भाजपा और यहां तक कि बीटीपी सहित अधिकांश राजनीतिक दल अपने मतदाताओं के मुकाबले अपने पार्टी नेतृत्व के प्रति जवाबदेही को प्राथमिकता देते हैं। इसके विपरीत, बीएपी ने प्रतिज्ञा की है कि उसके प्रतिनिधि सीधे तौर पर उन लोगों के प्रति जिम्मेदार होंगे जो उन्हें चुनते हैं, न कि पार्टी आलाकमानों के प्रति।

बीएपी के व्यापक फोकस पर मोहनलाल कहते हैं कि आदिवासी समुदायों के लिए ही नहीं बल्कि अल्पसंख्यकों, मुसलमानों और समाज के कमजोर वर्गों सहित सभी हाशिए के समूहों के लिए भी बीएपी प्रतिबद्ध है। उन्होंने विशेषकर राजस्थान में अल्पसंख्यकों और दलितों के खिलाफ बढ़ते अत्याचारों पर गहरी चिंता व्यक्त की और इन मुद्दों का समाधान करने का संकल्प लिया।

बीएपी ने प्रतिज्ञा की है कि उसके प्रतिनिधि सीधे तौर पर उन लोगों के प्रति जिम्मेदार होंगे जो उन्हें चुनते हैं, न कि पार्टी आलाकमानों के प्रति।
बीएपी ने प्रतिज्ञा की है कि उसके प्रतिनिधि सीधे तौर पर उन लोगों के प्रति जिम्मेदार होंगे जो उन्हें चुनते हैं, न कि पार्टी आलाकमानों के प्रति।द मूकनायक

लंबे समय से उपेक्षित जनजातीय मुद्दों पर काम करेगी बीएपी

सामाजिक कार्यकर्ता और दिल्ली विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर डॉ. जितेंद्र मीणा ने चार आदिवासी राज्यों पर बीएपी के संभावित प्रभाव पर प्रकाश डाला। द मूकनायक से बातचीत में उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि भारत में लगभग 14 करोड़ आदिवासी लोग हैं और आजादी के 75 साल बाद अब तक किसी भी राजनीतिक दल ने उनकी जरूरतों पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया है। मीना ने चुनाव अभियानों के दौरान आदिवासी समुदायों के शोषण की आलोचना की, जहां उन्हें शराब, मांस और पैसे की पेशकश की जाती है जबकि उनके संसाधनों को लूटा जाता है।

वे कहते हैं "आदिवासी पारंपरिक रूप से वनों में रहते आये हैं, और दक्षिण राजस्थान में प्रचुर प्राकृतिक संसाधनों के बावजूद, बिल्डरों, ठेकेदारों, राजनेताओं और व्यापारियों ने सभी लाभ उठाए हैं, जिससे आदिवासियों को बुनियादी सुविधाओं और सम्मानजनक अधिकार के अभाव में पूरी तरह से गरीबी में छोड़ दिया गया है।"

डॉ. मीणा ने आगे इस बात पर जोर दिया कि आदिवासी कल्याण की रक्षा के लिए बनाई गई भारतीय संविधान की 5वीं और 6वीं अनुसूची के प्रावधानों की गंभीर रूप से उपेक्षा की गई है। उन्होंने पेसा अधिनियम के कार्यान्वयन की कमी की ओर इशारा किया, जो ग्राम सभाओं (ग्राम परिषदों) को अपने मामलों का प्रबंधन करने की शक्ति प्रदान करता है, और कई राज्यों में अनिवार्य जनजातीय सलाहकार परिषदों की अनुपस्थिति पर नाराजगी जाहिर की।

वह आगे कहते हैं कि कानूनी खनन अनुसूचित क्षेत्रों में होने वाली सबसे बड़ी धोखाधड़ी है। 25 साल पहले पेसा कानून बनने के बावजूद राजस्थान में इसे लागू नहीं किया जा सका है. अनुसूचित क्षेत्र के लिए निर्धारित संविधान प्रावधानों का खुलेआम उल्लंघन करने वाली सभी फर्जी गतिविधियां तभी रुकेंगी जब ग्राम सभाएं सशक्त बनेंगी और इनकी प्रक्रिया का पालन किया जाएगा। अवैध तरीकों से संसाधनों का यह दोहन न केवल कानून का उल्लंघन करता है बल्कि इन संसाधनों के असली मालिकों को उनके लाभों से भी वंचित करता है। उनका यह भी कहना है, भील समुदाय भारतीय संविधान के अनुच्छेद 244(1) के तहत इस अलग राज्य के गठन की मांग कर रहा है, जो भारत में कुछ जनजातियों के लिए एक स्वायत्त राज्य के निर्माण का प्रावधान करता है। "

"बीएपी जनता के बीच आशा की एक नई भावना को प्रज्वलित करने के लिए तैयार है। हमारा अटल रुख स्पष्ट है: हम मौजूदा पार्टियों के साथ गठबंधन नहीं करेंगे, जबकि यह सुनिश्चित करेंगे कि हाशिए पर पड़े लोगों की आवाज न सिर्फ सुनी जाए बल्कि उन्हें वह महत्व दिया जाए जिसके वे हकदार हैं।" .

बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर एकसाथ जनता का अभिवादन करते हुए
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: आदिवासियों को 'बाहरी' बताने का नैरेटिव और पहाड़ी में बसे लोगों का सच

बीटीपी का बिखराव

गुजरात स्थित भारतीय ट्राइबल पार्टी ने 2018 के चुनावों के दौरान दक्षिण राजस्थान में सफलतापूर्वक प्रवेश किया था। हालांकि, पार्टी के भीतर आंतरिक कलह चल रही थी, जो मुख्य रूप से 2020 में राज्य में राजनीतिक संकट के दौरान सत्तारूढ़ कांग्रेस का समर्थन करने में मतभेदों से उपजी थी। बीटीपी विधायक (चोरासी) राजकुमार रोत और विधायक रामप्रसाद डिंडोर ने बीएपी बनाने के लिए बीटीपी से संबंध तोड़ दिए। रोत ने कहा कि राजस्थान में स्थानीयता की बजाय केंद्रीय नेतृत्व को तरजीह, गुजरात की राजनीति और राष्ट्रीय महत्वाकांक्षाओं पर ध्यान केंद्रित करना, अलगाव का प्राथमिक कारण था।

डिंडोर ने राजस्थान इकाई के अलग होने के फैसले के लिए बीटीपी के प्रदेश नेतृत्व को दोषी ठहराया। उन्होंने केंद्रीय नेतृत्व द्वारा सीधे हस्तक्षेप के उदाहरणों का हवाला दिया, विशेष रूप से कांग्रेस में राजनीतिक संकट और 2020 में राज्यसभा चुनावों के दौरान। डिंडोर ने इस बात पर प्रकाश डाला कि केंद्रीय नेतृत्व ने उन पर अपने फैसले थोप दिए थे, जबकि उनका इरादा विभिन्न सामाजिक आदिवासी निकायों के साथ जुड़ने का था जिससे क्षेत्र में उनका समर्थन आधार बना। कान्तिलाल रोत ने बताया कि 2018 के चुनाव में बीटीपी आदिवासी परिवार और दर्जनभर अन्य सामाजिक और युवा संगठनों की वजह से जीता है और ये अभी संगठन वर्तमान में बीएपी के साथ हैं। 

2018 के विधानसभा चुनावों में, दो सीटों पर बीटीपी की जीत के साथ-साथ अन्य निर्वाचन क्षेत्रों में प्रथम उपविजेता के रूप में उभरने का श्रेय आदिवासी परिवार, भील प्रदेश मुक्ति मोर्चा, भील प्रदेश विद्यार्थी मोर्चा जैसे संबद्ध संगठनों के समर्थन को दिया गया। आदिवासी कर्मचारी महासंघ ये फ्रंटल निकाय शुरू में स्वतंत्र रूप से एक संयुक्त आदिवासी समूह के रूप में चल रहे थे, और इसके बैनर तले चुनाव लड़ने की बीटीपी की पेशकश सशर्त थी, जो गठबंधन के एक जटिल जाल को दर्शाती थी, जिसने अंततः पार्टी के भीतर दरार पैदा कर दी। अब ये फ्रंटल संगठन बीएपी के लिए मिलकर काम करेंगे।

भारत की जनजाति : एक जनसांख्यिकीय अवलोकन

भारत, जो अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विविधता के लिए जाना जाता है, दुनिया की सबसे बड़ी आदिवासी आबादी का घर है। 1991 की जनगणना के अनुसार, देश में लगभग 6.7 करोड़ अनुसूचित जनजातियां (ST) थीं, जो कुल जनसंख्या का 8.08 प्रतिशत थीं। हालाँकि, यह जनसांख्यिकीय परिदृश्य पिछले कुछ वर्षों में महत्वपूर्ण रूप से विकसित हुआ है।

2001 की जनगणना के अनुसार, भारत की जनजातीय आबादी बढ़कर 8.43 करोड़ हो गई थी। एक दशक बाद, 2011 की जनगणना के अनुसार, यह संख्या बढ़कर 10.42 करोड़ हो गई, जो देश की कुल जनसंख्या का 8.6 प्रतिशत है।

दिलचस्प बात यह है कि अनुसूचित जनजातियों के वितरण में क्षेत्रीय भिन्नताए हैं। कुछ क्षेत्रों में, उनकी उपस्थिति विशेष रूप से स्पष्ट है, जबकि अन्य में, वे उल्लेखनीय रूप से अनुपस्थित हैं। उदाहरण के लिए, पंजाब और हरियाणा में, न ही दिल्ली, चंडीगढ़ और पुडुचेरी के केंद्र शासित प्रदेशों में कोई जनजाति निर्धारित नहीं की गई है। इसके विपरीत, मिजोरम और लक्षद्वीप जैसे राज्यों में एक महत्वपूर्ण जनजातीय आबादी प्रदर्शित होती है, जहां उनकी कुल आबादी का 94.43 प्रतिशत और 94.79 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति से संबंधित है।

क्षेत्रीय गतिशीलता की गहराई से जांच करने पर, 15 प्रमुख राज्यों में से, छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति आबादी का सबसे बड़ा अनुपात वाला राज्य बनकर उभरता है, जो इसकी जनसांख्यिकीय संरचना का 30.62 प्रतिशत है। झारखंड 26.21 प्रतिशत के साथ सबसे पीछे है। ये आंकड़े विशिष्ट भौगोलिक क्षेत्रों में आदिवासी समुदायों की एकाग्रता पर जोर देते हैं, जहां उनकी अनूठी संस्कृतियां और परंपराएं पनपती रहती हैं।

भारत की अनुसूचित जनजातियों की 71 प्रतिशत आबादी मुख्य रूप से छह राज्यों में केंद्रित है: मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, गुजरात, राजस्थान और झारखंड। ये राज्य भारत के स्वदेशी समुदायों के लिए सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक परिदृश्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

यह भी पढ़ें -

बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर एकसाथ जनता का अभिवादन करते हुए
मध्य प्रदेश: आदिवासी छात्रा ने हॉस्टल में लगाई फांसी, वार्डन और पुलिस पर टॉर्चर करने के आरोप!
बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर एकसाथ जनता का अभिवादन करते हुए
छत्तीसगढ़: सुकमा में दो आदिवासियों की मुठभेड़ में मौत पर क्यों मची है रार?
बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर एकसाथ जनता का अभिवादन करते हुए
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: रिलीफ कैम्प में गंभीर बीमारियों से जूझ रहीं ये कुकी महिलाएं, तीन लाख आबादी के बीच एक सरकारी अस्पताल
बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर एकसाथ जनता का अभिवादन करते हुए
ओडिशा: पुलिस के दमन के खिलाफ मूलनिवासी समाजसेवक संघ ने खोला मोर्चा
बीएपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मंच पर एकसाथ जनता का अभिवादन करते हुए
गुजरात: सरकार की अनदेखी से 62 बौद्ध गुफाओं के अस्तित्व पर संकट!

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com