लोकसभा चुनाव के लिए टिकट में हिस्सेदारी के लिए मुखर हुआ ट्रांसजेंडर समुदाय

समुदाय के लोग आगामी लोकसभा चुनावों के लिए टिकटों में बड़ी हिस्सेदारी और 'ट्रांस शक्ति' की मान्यता की मांग कर रहे हैं।
दिल्ली क्वीर प्राइड 2022
दिल्ली क्वीर प्राइड 2022फोटो- द मूकनायक

नई दिल्ली: आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर देश में अब हलचल बढ़ चुकी है। राजनीतिक पार्टियां अब तैयारी में जुट गई हैं। चुनावी माहौल में इस बार ट्रांसजेंडर समुदाय ने भी चुनाव में बढ़-चढ़ कर भाग लेने की ख्वाहिश जाहिर की है। ट्रांसजेंडर्स ने लोकसभा चुनाव में चुनाव लड़ने की मांग की है। समुदाय के लोग आगामी लोकसभा चुनावों के लिए टिकटों में बड़ी हिस्सेदारी और 'ट्रांस शक्ति' की मान्यता की मांग कर रहे हैं।

बीजू महिला जनता दल की उपाध्यक्ष मीरा परिदा ने द मूकनायक को बताया कि, "हम तो अपने अधिकारों के लिए कब से लड़ रहे हैं। मैंने राजनीतिक चीजों में भी भाग लिया है। वहां पर मुझे बहुत सम्मान मिला। जब अपने ट्रांसजेंडर को हक देने की बात कर रहे हैं, हमें हर जगह पर यह अधिकार दीजिए। कितने सारे ऐसे ट्रांसजेंडर हैं, जिन्होंने चुनाव जीते हैं. छत्तीसगढ़ की मेयर मधु बाई जिन्होंने 5 साल तक मेयर की कुर्सी को संभाला है। पता नहीं कितने ऐसे ट्रांसजेंडर हैं जो राजनीति में भी हैं। 2014 अप्रैल को जब नालसा जजमेंट आया तो उसके अनुसार सबको बराबर अधिकार मिलना चाहिए। जब समानता की बात हो रही है तो हमें भी समान ही समझें। जब कई जगह रिजर्वेशन के लिए हम लड़ रहे हैं तो राजनीति में भी हमें टिकट मिलने का अधिकार होना चाहिए."

"जब सेलिब्रिटी लोग राज्यसभा जा रहे हैं, तो ट्रांसजेंडर्स क्यों नहीं जा सकते..! बॉलीवुड, स्पोर्ट्स पर्सन सभी राजनीति में जा रहे हैं, तो ट्रांसजेंडर चुनाव क्यों नहीं लड़ सकते हैं। यहां बात संख्या की नहीं है कि ट्रांसजेंडर की संख्या कितनी है। बात यहां समानता की और अधिकारों की है। सबको बराबरी का हक मिलना चाहिए," मीरा परिदा ने कहा.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, आम आदमी पार्टी के नेताओं और दिल्ली नगर निगम की पहली ट्रांसजेंडर किरदार बॉबी किन्नर ने देश की राजनीति में ट्रांसजेंडर लोगों के प्रतिनिधित्व और उन्हें शामिल करने की अनिवार्यता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले लोग चुप थे कि ट्रांसजेंडर कुछ नहीं कर सकता। हालाँकि, यह सच नहीं है। पुरुष और महिलाएं जो कुछ भी कर सकते हैं, हम भी कर सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि देश के राजनेता अपने संघर्षों को सम्मान के रूप में प्रदर्शित करना पसंद करते हैं, लेकिन इन कई ट्रांसजेंडर लोगों द्वारा सामना किए गए आयामों की तुलना में काफी कम हैं।

दिल्ली क्वीर प्राइड 2022
मध्य प्रदेश: भोपाल में 386 घरों पर चला प्रशासन का बुलडोजर, मीडिया के प्रवेश पर रोक- ग्राउंड रिपोर्ट
दिल्ली क्वीर प्राइड 2022
मध्य प्रदेश: हरदा ब्लास्ट पीड़ितों को न्याय के लिए शुरू हुई भूख हड़ताल, जानिए क्या हैं मांगें?
दिल्ली क्वीर प्राइड 2022
यूपी: काम दिलाने के बहाने दलित युवती के साथ गैंगरेप, दस दिन बाद दर्ज हुआ मुकदमा

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com