मध्य प्रदेश: ओबीसी आरक्षण मामले की सुनवाई न्यूट्रल बेंच से कराने की मांग, सुप्रीम कोर्ट ने लगाया 50 हजार का जुर्माना!

ओबीसी नेता लोकेन्द्र गुर्जर ने एससी/एसटी या मायनॉरिटी के जजों की बेंच में शामिल करने की लगाई थी अर्जी, सुप्रीम कोर्ट ने जताई नाराजगी
सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्टफाइल फोटो

भोपाल। सुप्रीम कोर्ट ने जबलपुर हाईकोर्ट में ओबीसी आरक्षण की निष्पक्ष जांच के लिए एससी/एसटी या मायनॉरिटी के जज नियुक्त करने की मांग करने पर ओबीसी नेता लोकेंद्र गुर्जर पर 50 हजार रुपए जुर्माना लगाते हुए याचिका खारिज कर दी। सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने कहा कि ओबीसी आरक्षण मामले में निष्पक्ष रूप से जांच हो सके इसके लिए हाईकोर्ट जबलपुर में अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग की जजों की बैंच का गठन हो। इस पर सुप्रीम कोर्ट के जज भड़क गए और याचिका को न्यायपालिका की अव्हेलना बताते हुए उपरोक्त जुर्माना लगाया है।

द मूकनायक से बातचीत करते हुए ओबीसी नेता लोकेंद्र गुर्जर ने बताया कि जबलपुर हाईकोर्ट में ओबीसी आरक्षण के मामले में विशेष बैंच गाठित करने की मांग की थी। उन्होंने कोर्ट से मांग की थी ओबीसी आरक्षण की सुनवाई के लिए एससी/एसटी के जजों की बैंच गठित की जाए जो हाईकोर्ट में ओबीसी आरक्षण से सम्बंधित 80 लम्बित मामलों पर प्रतिदिन सुनवाई करे और निष्पक्ष तरीके से ओबीसी आरक्षण मामले पर फैसला हो सके।

लोकेंद्र गुर्जर ने बताया हाईकोर्ट में इस याचिका को खारिज कर दिया गया, जिसकी अपील हमने सुप्रीम कोर्ट में की थी, लेकिन जज याचिका देख कर भड़क गए और मुझ पर जातिवाद फैलाने का आरोप लगा कर 50 हजार का जुर्माना लगा दिया।

ओबीसी नेता लोकेंद्र गुर्जर
ओबीसी नेता लोकेंद्र गुर्जर

10 लाख गया था जुर्माना

द मूकनायक से बातचीत करते हुए लोकेंद्र गुर्जर ने कहा कि याचिका देख कर भड़के जज ने हमारी एक भी बात नहीं सुनी और मेरे अधिवक्ता द्वारा मांग करने पर जुर्माना बढाते रहे। कोर्ट ने 10 लाख का जुर्माना लगाया जो कि सुप्रीम कोर्ट न्यूज पोर्टल पर भी प्रसारित किया गया। लेकिन बाद में जब पूरे प्रदेश में कोर्ट के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूटा तब आदेश में सिर्फ 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया।

इस मामले में याचिकाकर्ता के अधिवक्ता को नहीं सुना गया। सुनवाई के दौरान अधिवक्ता वरूण कुमार चौपड़ा ने अपना वकालतनामा वापस ले लिया। तब सुप्रीम कोर्ट ने उक्त याचिका लगाए जुर्माने कि वसूली के लिए आगामी तारीख नियत कर दी। ओबीसी एडवोकेट वेलफेयर एसोसिएशन के अधिवक्ता उदय कुमार का कहना है कि उक्त आदेश के विरूद्ध रिव्यू तथा क्यूरेटिव पिटिशन दाखिल की जाएगी।

समाज से एक-एक रुपए किया एकत्र

ओबीसी आरक्षण मामले में स्पेशल बैंच के गठन की मांग पर लगे जुर्माने की भरपाई के लिए लोकेन्द्र गुर्जर ने सोशल मीडिया के माध्यम से पिछड़ा वर्ग समाज से एक रुपए की मदद करने की अपील की थी। गुर्जर की अपील के बाद उन्हें जुर्माने से भी अधिक आर्थिक मदद मिली है।

हाईकोर्ट ने लगा दी थी रोक

मध्यप्रदेश सरकार ने 2018 में 27 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण प्रस्ताव कैबिनेट में पारित कर लागू किया था। जिसके खिलाफ और पक्ष में 64 याचिकाएं दायर की गई थीं। मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने 27 प्रतिशत आरक्षण पर स्टे दे दिया। फिलहाल मध्य प्रदेश में ओबीसी आरक्षण 14 प्रतिशत है।

पूरा साक्षात्कार यहां देखें-

यह भी पढ़ें-
सुप्रीम कोर्ट
राजस्थान: विरोध के बीच खेजड़ी पर कुल्हाड़ी का वार!
सुप्रीम कोर्ट
उत्तर प्रदेश: सीतापुर में दलित युवक की चाकू घोपकर हत्या, मेरठ में दलित महिला को गला दबाकर मारा
सुप्रीम कोर्ट
दिल्ली: मणिपुर हिंसा पर स्त्रीवादियों का फूटा गुस्सा, जिम्मेदारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com