यूपी: अकबरनगर ध्वस्त, ढह गया मंदिर-मस्जिद और शिवाला,वीरान हुआ इलाका!

अवैध निर्माण गिराने की अनुमानित लागत 50 लाख, मलबा बेचकर एलडीए करेगा रकम की वसूली.
अकबर नगर में अवैध निर्माण गिरती लखनऊ विकास प्राधिकरण और नगर निगम लखनऊ की टीम.
अकबर नगर में अवैध निर्माण गिरती लखनऊ विकास प्राधिकरण और नगर निगम लखनऊ की टीम. तस्वीर- द मूकनायक

लखनऊ। यूपी की राजधानी लखनऊ के रिहायशी इलाके गोमती नगर से जुड़ा अकबरनगर पूरी तरह ध्वस्त हो गया। कभी यहां चहल-पहल रहती थी। तड़के सुबह नमाज तो सूरज उगते ही मंदिर में आरती और भजन हुआ करता था। जिंदगी आबाद थी। लेकिन सरकारी कागजों में बस्ती अवैध तरीके से बसी थी। अंततः इसे ढहा दिया गया। मंगलवार देर रात तक सभी अवैध निर्माण ध्वस्त कर दिए गए। धार्मिक स्थलों को भी गिरा दिया गया। ध्‍वस्‍तीकरण अभियान आठ दिन तक चला।

लखनऊ में गैरकानूनी ढंग से बसाए गए अकबरनगर का अंतत: अंत हो गया। आठ दिन के अभियान में अकबरनगर के सभी 1240 मकान, काम्प्लेक्स और दुकानें गिरा दी गईं। मौके पर पांच-पांच मंजिला मकानों और दुकानों की जगह अब केवल मलबा ही बिखरा है। एलडीए उपाध्यक्ष डॉ. इंद्रमणि त्रिपाठी ने इसकी पुष्टि की है। कुकरैल नदी की जमीन पर कब्जा कर लोगों ने काम्प्लेक्स, शोरूम, दुकानें तथा बड़ी संख्या में मकान बना लिए थे। शासन के निर्देश पर कुकरैल का सुन्दरीकरण किया जाना है। इसके लिए सर्वे हुआ तो पता चला कि पूरा अकबर नगर प्रथम व द्वितीय नदी की जमीन पर ही बसा है।

लखनऊ विकास प्राधिकरण ने इसके लिए पिछले वर्ष इनके निर्माणों को ध्वस्तीकरण की नोटिस दी थी। कोई भी भवन स्वामी जमीन के मालिकाना हक का दस्तावेज नहीं दिखा पाया था। जिसके बाद प्राधिकरण के विहित प्राधिकारी ने इनके ध्वस्तीकरण का आदेश पारित किया था। एलडीए के आदेश के खिलाफ लोग हाईकोर्ट गए। हाईकोर्ट से राहत नहीं मिली तो सुप्रीम कोर्ट पहुंचे। सुप्रीम कोर्ट ने भी अवैध कब्जेदारों को राहत नहीं दी।

अदालत के आदेश के अनुपालन में एलडीए ने 10 जून को ध्वस्तीकरण की कार्रवाई शुरू कराई। 18 जून को सभी निर्माण ध्वस्त कर दिए गए। बीच में एक दिन 17 जून को केवल कार्रवाई रुकी। बाकी लगातार सुबह से देर रात तक चली। मंगलवार को सुबह छह बजे से फिर दस्ते ने ध्वस्तीकरण शुरू कराया। रात के आठ बजे तक सभी निर्माण ध्वस्त करा दिए गए। रात में तीन धार्मिक स्थल बचे थे। उन्हें भी देर रात ढहाना शुरू कर दिया गया। अकबर नगर प्रथम में कई धार्मिक स्थल बने थे। लेकिन एलडीए और नगर निगम के दस्ते ने इन्हें भी ध्वस्त करा दिया। केवल अकबर नगर द्वितीय के ही तीन निर्माण रात में बचे थे। जिन्हें गिराया जा रहा था। बाकी कोई धार्मिक स्थल नहीं छूटा।

मलबे से निकाला जाएगा तोड़फोड़ का खर्च

एलडीए यहां का मलबा भी हटवाएगा। इसके लिए टेण्डर कराया गया है। टेण्डर में एलडीए को इसका पैसा भी मिलेगा। जो भी इसे लेगा निर्धारित रकम एलडीए में जमा करनी होगी। इसके बाद वह मलबा हटाएगा। एलडीए मकानों को तोड़ने का खर्च इसी से निकालेगा। यहां 50 लाख के खर्च का अनुमान है।

अकबरनगर में बुधवार को भी सुबह छह से ध्वस्तीकरण अभियान की समाप्ति तक ट्रैफिक डायवर्जन लागू रहेगा। इस बीच पॉलीटेक्निक और आईटी की ओर से अकबरनगर की ओर आवागमन करने वाले वाहन वैकल्पिक मार्गों से आ-जा सकेंगे। पॉलीटेक्निक से आने वाले वाहन अकबरनगर की तरफ नहीं जा सकेगा।

अकबर नगर में अवैध निर्माण गिरती लखनऊ विकास प्राधिकरण और नगर निगम लखनऊ की टीम.
"विरासतों को सहेजा जाता है, उनसे नफ़रत नहीं की जाती…उन्हें उजाड़ा नहीं जाता", महरौली में मस्जिद उजाड़ने पर बोले इमरान प्रतापगढ़ी
अकबर नगर में अवैध निर्माण गिरती लखनऊ विकास प्राधिकरण और नगर निगम लखनऊ की टीम.
यूपीः मुस्लिम बाहुल्य अकबरनगर बस्ती पर चल रहा बुलडोजर, 1100 मकान होंगे धराशायी!
अकबर नगर में अवैध निर्माण गिरती लखनऊ विकास प्राधिकरण और नगर निगम लखनऊ की टीम.
यूपी: अकबरनगर प्रथम में बुलडोजर की कार्रवाई का जमकर विरोध, पुलिस ने खदेड़ा
अकबर नगर में अवैध निर्माण गिरती लखनऊ विकास प्राधिकरण और नगर निगम लखनऊ की टीम.
उत्तर प्रदेश: मुस्लिम बाहुल्य अकबरनगर बस्ती को तोड़ने के लिए बुल्डोजर तैयार, कोर्ट के आदेश का इन्तजार- ग्राउंड रिपोर्ट

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com