पले खाकर जमींदारों का जूठन, निवालों के लिए ये विख्यात दलित चिंतक कुत्तों से भी जूझे!

प्रसिद्ध मलयाली अर्थशास्त्री, शिक्षाविद और दलित विचारक एम कुंजमन रविवार शाम अपने आवास पर मृत पाए गए। प्रथम दृष्टया मामला जहर खाकर आत्महत्या का माना जा रहा है।
पले खाकर जमींदारों का जूठन, निवालों के लिए ये विख्यात दलित चिंतक कुत्तों से भी जूझे!

तिरुवनंतपुरम: प्रसिद्ध अर्थशास्त्री और दलित मुक्ति विचारक डॉ एम  कुंजमन का निधन हो गया। वह 75 वर्ष के थे. वह केरल विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग में प्रोफेसर थे। कुंजमन का बचपन बेहद गरीबी में गुजरा जबकि बड़े होने के बाद जातिगत भेदभाव के साथ जूझते हुए उनका जीवन बीता. 1974 में अर्थशास्त्र में एमए में पहली रैंक हासिल कर कुंजमन राष्ट्रपति केआर नारायणन के बाद पोस्ट-ग्रेजुएशन में रैंक हासिल करने वाले दूसरे दलित बन गए। लेकिन गरीबी का यह आलम था कि उन्हें स्वर्ण पदक प्रदान किए जाने के एक दिन बाद ही अपने घर के लिए किराने का सामान खरीदने के लिए अपना गोल्ड मेडल बेचना पड़ा.

कुंजमन रविवार को अपने श्रीकार्यम स्थित निवास पर अकेले थे और डाइनिंग हॉल के पास मृत पाए गए। उनकी पत्नी एसटी विकास विभाग की उपनिदेशक डॉ. रोहिणी का मलप्पुरम में कैंसर का इलाज चल रहा है। उनके दो बच्चे हैं। सबसे बड़ी बेटी अनिला की 20 साल पहले मौत हो गई। छोटी बेटी अंजना गूगल में इंजीनियर है और अमेरिका में है। उनके दामाद दर्शन नंदी चेन्नई में आईटी मैनेजर हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री वीएस अच्युतानंदन के पीएस  केएम शाहजहां कुंजमन के दोस्त थे। कुंजमन ने शाहजहाँ को शनिवार की दोपहर को फोन कर मिलने को बुलाया था लेकिन व्यस्तता के कारण शाहजहाँ ने  रविवार को मिलने की बात कही और उसी के अनुसार वे शाम को कुंजमन के घर अपने दोस्त प्रसाद सोमराजन के साथ पहुंचे। रास्ते में उसने दोनों नंबरों पर फोन किया लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।

शाहजहाँ  जब उनके घर पहुंचे तो बाहर की लाइट जल रही थी। सामने का दरवाज़ा बंद था. शयनकक्ष में रोशनी और पंखा भी चल रहा था। बरामदे पर अखबार और जूते थे। काफी देर तक दरवाजा खटखटाने के बाद भी कोई प्रतिक्रिया नहीं मिलने पर आसपास के रेजिडेंट असोसिएशन के पदाधिकारियों को बुलाया गया। उन्होंने ही श्रीकार्यम पुलिस को सूचना दी।
पुलिस के निर्देश पर दरवाजा खोला गया, कुंजमन अंदर मृत मिले।
पुलिस ने कमरे की तलाशी ली तो एक सुसाइड नोट मिला जिसमें लिखा था, "मैं कुछ समय से इस बारे में सोच रहा था। मेरी मौत में किसी का हाथ नहीं है।" पत्र पर दो दिसंबर की तारीख लिखी है। उन्होंने 15 साल पहले आत्महत्या का प्रयास किया था।

श्रीकार्यम पुलिस ने जांच कार्यवाही पूरी कर उनके शरीर को मेडिकल कॉलेज अस्पताल की मोर्चरी में स्थानांतरित किया। पुलिस के प्रारंभिक निष्कर्ष में मौत की वजह जहर खाने से होना माना जा रहा है, पोस्टमार्टम के बाद ही पुख्ता जानकारी हो सकेगी.

कुंजमन का जन्म पालाक्काड के पास वदानमकुरुस्सी मेंअय्यप्पन और चेरोना के घर हुआ था। पनान समुदाय के डॉ. कुंजमन का बचपन गरीबी और जातिगत भेदभाव के कड़वे अनुभवों से भरा था। उन्होंने पालाक्काड के विक्टोरिया कॉलेज से अर्थशास्त्र में प्रथम रैंक के साथ एमए किया। उन्होंने सीडीएस, तिरुवनंतपुरम से एमफिल और कोचीन विश्वविद्यालय से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने अर्थशास्त्र के क्षेत्र में कई प्रसिद्ध रचनाएँ लिखी हैं।
उन्होंने केरल विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र संकाय, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के सदस्य और टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस (टीआईएसएस) के तुलजापुर परिसर में प्रोफेसर के रूप में कार्य किया।

2021 में, उनकी आत्मकथा 'एथिरु' को केरल साहित्य अकादमी द्वारा सर्वश्रेष्ठ आत्मकथा के रूप में चुना गया था। लेकिन कुंजमन ने यह सम्मान लेने से इनकार कर दिया।
2021 में, उनकी आत्मकथा 'एथिरु' को केरल साहित्य अकादमी द्वारा सर्वश्रेष्ठ आत्मकथा के रूप में चुना गया था। लेकिन कुंजमन ने यह सम्मान लेने से इनकार कर दिया।

जाति उत्पीड़न और गरीबी से लंबा संघर्ष

कुंजमन का जीवन स्वतंत्र भारत के शुरुआती दौर में जाति उत्पीड़न और गरीबी के बीच एक दलित से एक प्रसिद्ध शिक्षाविद् बनने की एक उल्लेखनीय यात्रा है।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने अपने शोक संदेश में कहा, “कुंजमन एक अर्थशास्त्री रहे हैं जिनका केरल के विकास के प्रति अपना दृष्टिकोण था। उनकी आत्मकथा ' एथिरु' जीवन की वास्तविकताओं का सच्चा प्रतिबिंब थी। उनका निधन केरल के लिए एक बड़ी क्षति है।”

उनके माता-पिता खेतिहर मजदूर थे। वह अत्यंत गरीबी में रहते थे। उनकी पूरी यात्रा में ज़ुल्म का साया बना रहा.अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए कुंजमन ने एक बार बताया था कि कैसे उन्हें दैनिक भोजन के लिए कुत्तों से जूझना पड़ता था। वे अमीर जमींदारों का बचा हुआ खाना खाकर बड़े हुए। कुंजमन ने उच्च शिक्षा के लिए कठिन संघर्ष किया, जबकि उनके समुदाय में साथियों के लिए प्रारंभिक शिक्षा दुर्लभ थी।

कुंजमन ने कोचीन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। सामान्य कोटा के तहत मेरिट सूची में शीर्ष स्कोरर के रूप में उभरने के बावजूद कुंजमन को शुरू में शिक्षक की नौकरी से वंचित कर दिया गया था। दलित होने के कारण उन्हें नौकरी देने से इनकार कर दिया गया। लेकिन शुभचिंतकों ने दलित युवाओं में प्रतिभाशाली शिक्षाविद की पहचान की, जिन्होंने 1979 में केरल विश्वविद्यालय से अपना करियर शुरू किया।
उन्होंने 27 वर्षों तक अर्थशास्त्र विभाग में एक संकाय के रूप में कार्य किया। कुछ समय के लिए वह यूजीसी के सदस्य रहे। 2006 में, उन्होंने केरल विश्वविद्यालय छोड़ दिया और TISS में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर के रूप में शामिल हो गए।

2021 में, उनकी आत्मकथा 'एथिरु' को केरल साहित्य अकादमी द्वारा सर्वश्रेष्ठ आत्मकथा के रूप में चुना गया था। लेकिन कुंजमन ने यह सम्मान लेने से इनकार कर दिया।
कुंजमन ने अपनी आत्मकथा में केरल के दलित जीवन का चित्रण किया है। उन्होंने भूमि सुधार, आरक्षण और दलित संकट पर कई अध्ययन लिखे थे। उनके प्रमुख कार्यों में 'आदिवासी अर्थव्यवस्था का विकास, भारत में राज्य स्तरीय योजना, वैश्वीकरण: एक निम्नवर्गीय परिप्रेक्ष्य, आर्थिक विकास और सामाजिक परिवर्तन' शामिल हैं।

कुंजमन को केरल के शैक्षणिक और नियोजन क्षेत्रों में कई पदों के लिए विचार किया गया था, लेकिन जाति स्पष्ट रूप से एक बड़ी बाधा बनी।

पले खाकर जमींदारों का जूठन, निवालों के लिए ये विख्यात दलित चिंतक कुत्तों से भी जूझे!
जीत जाती कांग्रेस लेकिन CM ने किया फरेब! हार से आहत OSD ने जानिये और क्या लगाये अशोक गहलोत पर आरोप
पले खाकर जमींदारों का जूठन, निवालों के लिए ये विख्यात दलित चिंतक कुत्तों से भी जूझे!
मध्य प्रदेश में लाडली बहना योजना के असर से शून्य हो गई सत्ता विरोधी लहर!
पले खाकर जमींदारों का जूठन, निवालों के लिए ये विख्यात दलित चिंतक कुत्तों से भी जूझे!
Rajasthan Election Results: दलित-आदिवासी मतदाताओं में भाजपा ने ऐसे लगाया सेंध

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com