दिल्ली: कंझावाला हिट एंड रन केस को पूरे हुए 1 साल, क्या अंजली को मिलेगा इंसाफ?

कंझावाला हिट एंड रन केस के बाद भी थम नहीं रहे महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले।
दिल्ली: कंझावाला हिट एंड रन केस को पूरे हुए 1 साल, क्या अंजली को मिलेगा इंसाफ?

नई दिल्ली। 1 साल पहले 1 जनवरी 2023 व 31 दिसंबर 2022 की दरम्यानी रात को अंजली को वह दर्दनाक मौत मिली थी, जिसके बारे में सुनकर हर किसी की रूह कांप उठी थी। बेरहम नजर आए वह लोग जो 20 वर्षीय अंजली को कार के नीचे फंसा देखने के बाद भी गाड़ी को 13 किलोमीटर तक चलाते रहे। सुर्खियों में रहे इस केस में कार चालकों के खिलाफ हत्या का मुकदमा चल रहा है। अदालत अभियोजन के साक्ष्य व गवाहों के बयान दर्ज कर रही है।

800 पेज की दायर हुई थी चार्जशीट

अंजली की मौत करीब 500 मीटर तक घसीटे जाने पर ही हो गई थी। रोहिणी कोर्ट में दायर किए गए 800 पेज के आरोपपत्र में ये बात सामने आई थी। आरोपपत्र में सहेली निधि, कॉल करने वाले व अन्य लोगों के के बयान का भी जिक्र हैं। कुल 120 लोगों को गवाह बनाया गया था। दिल्ली की रोहिणी कोर्ट ने आरोपी मनोज मित्तल, अमित खन्ना, कृष्ण और मिथुन पर आईपीसी की धारा 302 (हत्या), 201 (साक्ष्य नष्ट करना), 212 (अपराधी को शरण देना), 120बी (आपराधिक साजिश) के तहत आरोप लगाए हैं।

सबसे अहम निधि का बयान

27 जुलाई को अदालत ने आरोपी अमित मिथुन, मनोज और कृष्ण के खिलाफ हत्या का आरोप तय करने का आदेश दिया। आरोपियों ने कार के नीचे किसी के फंसे होने के बारे में जानकारी से मना कर दिया। वहीं बयान दिया कि उनकी मंशा किसी की जान लेने की नहीं थी। सेशन जज ने माना कि अभियोजन ने तमाम गवाहों के जरिए आरोपियों की अपराध को लेकर कथित मंशा साबित करने की कोशिश की है। जिसमें सबसे अहम निधि का बयान रहेगा।

नहीं कबूला अपना अपना जुर्म

मृतक अंजली की दोस्त ने कहा कि देखकर भी आरोपी कार चलाते रहे। नीचे फंसी अंजली को घसीटते रहे। जबकि वह रो रही थी, चिल्ला रही थी। 23 अगस्त 2023 को तय किए गए आरोपों से आरोपियों को अवगत कराया गया। सातों में से किसी ने अपना अपराध नहीं कबूला। इसके बाद अदालत ने 21 सितंबर से मुकदमा शुरू कर दिया था।

क्या है कंझावाला केस?

कंझावला केस साल 2023 के पहले दिन का मामला था। दिल्ली के कंझावला में अंजली की मौत 31 दिसंबर और 1 जनवरी की रात को हुई थी। सामने आया था कि अंजली के शव को दिल्ली की सड़कों पर 13 किलोमीटर तक घसीटा गया था। 1 जनवरी की तड़के एक राहगीर ने कार के पीछे लाश घिसटती देखी थी। उसी शख्स ने पुलिस को करीब 3.24 बजे कॉल की. दीपक नाम के युवक ने बताया था कि वह लगभग 3.15 बजे दूध की डिलीवरी का इंतजार कर रहा था, तभी उसने एक कार को आते देखा।

हादसे वाली रात चौकन्नी नहीं दिखी थी दिल्ली पुलिस

दिल्ली पुलिस के पुख्ता सुरक्षा दावों के बीच अंजली ने सड़क पर ही दम तोड़ दिया था। कंझावाला में 1 जनवरी की सुबह एक राहगीर ने कार के पीछे लाश घिसटती देखी थी। इसके बाद उसने पुलिस को करीब 3.24 बजे कॉल की थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार दीपक नाम के युवक ने बताया था कि वह लगभग 3.15 बजे दूध की डिलीवरी का इंतजार कर रहा था, तभी उसने एक कार को आते देखा। पीछे के पहियों से जोर की आवाज आ रही थी। इसके बाद उसने पुलिस को कार के पीछे शव लटके होने की जानकारी पुलिस को दी थी। दीपक ने कहा था कि वो सुबह 5 बजे तक पुलिस के संपर्क में रहा। मगर, कोई भी मौके पर नहीं आया। उसने बेगमपुर तक कार का पीछा किया।

पुलिस रही मुस्तैद

इस बार कंझावाला जैसा कांड ना हो। इसलिए दिल्ली पुलिस पूरी तरह से अलर्ट रहीं। पिकेट पर तैनात लोकल ट्रैफिक और पीसीआर स्टाफ हर गाड़ी पर नजर बनाए रखा। थोड़ा सा भी शक होने पर गाड़ी को रोका गया और जांच की गई। महिलाओं की सुरक्षा के मद्देनजर भीड़भाड़ वाले इलाकों में देर रात तक पेट्रोलिंग चली। कोई भी गाड़ी संदिग्ध लगने पर उसको रोका गया और छानबीन की गई। माल रेस्टोरेंट होटल जैसे भीड़भाड़ इलाकों में पुलिस की पेट्रोलिंग रही। महिलाओं की सेफ्टी का खास ध्यान रखा गया। शराब पीकर हुड़दंग करने वालों पर सख्ती बरती गई।

17 साल की नाबालिग का अपहरण कर रेप

महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले थम नहीं रहे है। कंक्षावाला केस के बाद भी स्थिति जस की तस है। यूपी के भदोही जिले के कोइराना थाना अंतर्गत कॉलेज जा रही 17 वर्षीय एक किशोरी का अपहरण कर दूसरे जिले ले जाकर 10 दिनों तक बलात्कार करने की घटना सामने आई है। पुलिस ने पीडि़ता को मुक्त कराने के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने इस मामले में पास्को सहित अपहरण की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

भदोही जिले के कोइराना थाना क्षेत्र में रहने वाली 17 साल की नाबालिग के साथ यह घटना हुई है। इस मामले में थाना प्रभारी कोइराना गीता राय ने द मूकनायक को जानकारी देते हुए बताया कि 18 दिसंबर की सुबह लड़की कॉलेज के लिए निकली, लेकिन देर शाम तक घर नहीं लौटी। परिजनों द्वारा किशोरी की तलाश करने पर वह नहीं मिली, जिसके बाद किशोरी की मां ने 19 दिसंबर की शाम थाने में एक शिकायत दर्ज कराई।

पुलिस ने प्रयागराज जिले के मांडा पुलिस थाना अंतर्गत एक गांव में एक घर में दबिश दी, जहां किशोरी को बरामद किया गया। राय ने बताया कि किशोरी का अपहरण करके उसके साथ कई दिनों तक बलात्कार करने के आरोप में राजेश दूबे (30) को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि प्राथमिकी में 376 के साथ ही पॉक्सो अधिनियम की धारा भी जोड़ी गई है।

दिल्ली: कंझावाला हिट एंड रन केस को पूरे हुए 1 साल, क्या अंजली को मिलेगा इंसाफ?
भीमा कोरेगांव युद्ध: जब बहादुर महार सैनिकों ने पेशवाओं की जातीय क्रूरता और भेदभाव को परास्त किया
दिल्ली: कंझावाला हिट एंड रन केस को पूरे हुए 1 साल, क्या अंजली को मिलेगा इंसाफ?
UP: अकबरनगर इनसाइड स्टोरी- दूसरों के घर बर्तन मांजकर पेट पालने वाले कहाँ से लाएंगे क़िस्त के पैसे?
दिल्ली: कंझावाला हिट एंड रन केस को पूरे हुए 1 साल, क्या अंजली को मिलेगा इंसाफ?
भाजपा के आईटी सेल पदाधिकारियों ने साथ मिलकर किया था बीएचयू की छात्रा से गैंगरेप, खुले ये राज..

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com