आंध्र प्रदेश: हर प्राइमरी स्कूलों में अंग्रेजी माध्यम शिक्षा लागू करने वाले सीएम पर अमित शाह ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप, क्या है हकीकत?

रविवार को धर्मावरम विधानसभा क्षेत्र में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने आंध्र प्रदेश के सीएम जगन मोहन रेड्डी पर राज्य में भ्रष्टाचार, रेत और भूमि माफिया और अपराध को बढ़ावा देने का आरोप लगाया। वहीं अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा का जिक्र करते हुए जगन मोहन रेड्डी ने आरोप लगाया कि एनडीए नेताओं ने इस कदम का विरोध किया, क्योंकि उनका उद्देश्य यह देखना था कि केवल अमीर तबके के बच्चे ही अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में पढ़ें।
केन्द्रीय मंत्री अमित शाह और आंध्र प्रदेश सीएम जगन मोहन रेड्डी
केन्द्रीय मंत्री अमित शाह और आंध्र प्रदेश सीएम जगन मोहन रेड्डीग्राफिक- द मूकनायक

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी और उनकी पार्टी वाईएसआर कांग्रेस पर हमला बोलते हुए उन पर "राज्य में भ्रष्टाचार, रेत और भूमि माफिया और आपराधिक गतिविधियों को बढ़ावा देने" का आरोप लगाया। उन्होंने श्री सत्यसाई जिले के धर्मावरम विधानसभा क्षेत्र में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की।

आपको बता दें कि राज्य में विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव साथ हो रहे हैं। दोनों के लिए 13 मई को मतदान होना है. भाजपा राज्य में एन. चंद्रबाबू नायडू की तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) और अभिनेता-राजनेता पवन कल्याण की जनसेना के साथ गठबंधन में है।

शाह ने अपने संबोधन में कहा, “जगन मोहन रेड्डी ने विकास की गाड़ी को पटरी से उतार दिया है। विकास शून्य है, निवेश स्थिर है और बेरोजगारी चरम पर है। बुनियादी ढांचा परियोजनाएं रुकी हुई हैं लेकिन भू-माफियाओं का उद्योग पूरे जोरों पर चल रहा है.”

टीडीपी को राज्य के लिए विकल्प और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को केंद्र की पसंद के रूप में पेश करते हुए, शाह ने कहा कि वह राज्य में "भ्रष्टाचार, अपराध, माफिया और धर्मांतरण" के खिलाफ भाजपा-टीडीपी-जन सेना गठबंधन की लड़ाई को ताकत देने के लिए राज्य में हैं।

शाह ने कहा, "हमने राज्य में गुंडों और अपराधियों के शासन, बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार और रेत माफिया को खत्म करने और अमरावती को एक बार फिर आंध्र प्रदेश की राजधानी बनाने के लिए यह गठबंधन बनाया है।"

उन्होंने कहा, "पूरे देश ने मोदी को तीसरी बार प्रधानमंत्री बनाने का फैसला किया है।" उन्होंने कहा, "राहुल गांधी सहित INDIA ब्लॉक के नेता देश का नेतृत्व करने के लिए अयोग्य हैं।"

आंध्र प्रदेश में प्रचार अभियान के दौरान शाह ने मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं, खासकर अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण पर चर्चा किये। उन्होंने कहा, ''यह कांग्रेस...अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को रोकने के लिए कई वर्षों से साजिश रच रही है। लेकिन आपके आशीर्वाद से, नरेंद्र मोदी ने अपना दूसरा कार्यकाल जीतने के बाद, अयोध्या में एक सुंदर राम मंदिर का निर्माण किया।”

केंद्रीय गृह मंत्री ने चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व में पोलावरम परियोजना में तेजी लाने का भी वादा किया, और मतदाताओं से इसके तेजी से पूरा होने के लिए एनडीए का समर्थन करने का आग्रह किया।

“पोलावरम को पूरा करना हमारी पूरी ज़िम्मेदारी है, क्योंकि यह आंध्र के लोगों की जीवनधारा है। जबकि हम लोगों को पीने का पानी और सिंचाई का पानी उपलब्ध कराने का प्रयास करते हैं, वाईएस जगन मोहन रेड्डी इस परियोजना की प्रगति में बाधा डालकर करोड़ों रुपये का गबन कर रहे हैं,” शाह ने कहा।

ज्ञात हो कि पोलावरम परियोजना, एलुरु और पूर्वी गोदावरी जिलों में गोदावरी नदी पर एक निर्माणाधीन बहुउद्देश्यीय सिंचाई परियोजना, आंध्र के विकास के लिए अत्यधिक महत्व रखती है।

सीएम का पलटवार

मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी ने गुरुवार को पलटवार करते हुए कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह तेलुगु देशम पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू पर "दोहरी बातचीत" का सहारा ले रहे हैं।

अन्नामय्या जिले के राजमपेटा के पास रेलवे कोदुर रोड जंक्शन पर चुनावी सभा को संबोधित करते हुए जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सत्तावादियों का एक समूह है, जबकि वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) हमेशा दलित वर्गों के कल्याण के लिए खड़ी है।

“यह हास्यास्पद है कि नायडू, मोदी, अमित शाह और ‘दत्तपुत्रुडु’ (पवन कल्याण) को प्रचार के लिए ला रहे हैं। मोदी और अमित शाह वही बोल रहे हैं जो नायडू उनसे बोलना चाहते हैं। दोनों नेताओं के सार्वजनिक बैठकों के लिए आने से आंध्र प्रदेश के लोगों को उम्मीद थी कि वे विशेष राज्य का दर्जा देने की घोषणा करेंगे, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ", जगन मोहन रेड्डी ने कहा.

वाईएसआरसीपी सरकार के दौरान अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा का जिक्र करते हुए जगन मोहन रेड्डी ने आरोप लगाया कि एनडीए नेताओं ने इस कदम का विरोध किया, क्योंकि उनका उद्देश्य यह देखना था कि केवल अमीर तबके के बच्चे ही अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में पढ़ें।

डीबीटी योजनाओं पर विस्तार से बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर एनडीए आंध्र प्रदेश में सत्ता में आता है, तो इससे सभी मौजूदा कल्याणकारी योजनाएं समाप्त हो जाएंगी।

स्थानीय मुद्दों का जिक्र करते हुए जगन ने कहा कि अगर वाईएसआरसीपी फिर से जीतती है तो राजमपेटा को एक विश्वविद्यालय और एक मेडिकल कॉलेज मिलेगा।

आंध्र प्रदेश की स्थिति और सीएम रेड्डी

2019 के चुनावों में, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेता वाई एस जगन मोहन रेड्डी 175 में से 151 सीटें जीतकर शानदार जनादेश के साथ मुख्यमंत्री बने। उन्होंने सरकार और नागरिकों के बीच की दूरी को मिटाने के लिए 2019 में आंध्र प्रदेश में गांव और वार्ड स्वयंसेवकों की प्रणाली की शुरुआत की। प्रत्येक स्वयंसेवक यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार है कि सरकार के कल्याणकारी कार्यक्रम जैसे सामाजिक सुरक्षा पेंशन और अन्य सामाजिक लाभ योजनाएं जरूरतमंदों तक पहुंचे। यहां 2,62,483 स्वयंसेवक हैं और प्रत्येक स्वयंसेवक को 5,000 रुपये का मासिक मानदेय दिया जाता है। उन्होंने कोविड के दौरान घरेलू स्वास्थ्य सर्वेक्षण करने, मास्क वितरित करने और मरीजों को अस्पतालों तक पहुंचाने की सुविधा प्रदान करने जैसी स्वयंसेवी सेवाओं के द्वारा प्रदेश के हर वर्ग के दिलों में जगह बना ली।

यहां यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि सरकार स्वास्थ्य देखभाल पर राज्य के बजट का 7.3% खर्च कर रही है, जबकि देश में यह औसतन 4 से 4.5 प्रतिशत ही है।

2011 की जनगणना के अनुसार, राज्य में प्रमुख धार्मिक बहुसंख्यक समूह हिंदू (90.89%), मुस्लिम (7.30%), और ईसाई (1.38%) हैं। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस-5) 2019-21 डेटा परिवारों की आर्थिक और स्वास्थ्य स्थिति के बारे में जानकारी प्रदान करता है, जो बताता है कि राज्य में 85% परिवारों के पास पक्के मकान हैं। 76% परिवारों (59% शहरी, 83% ग्रामीण) के पास अपना घर है।

राज्य भारत में कुल मछली उत्पादन में 10% और झींगा उत्पादन में 70% से अधिक का योगदान देता है। उद्योगों के वार्षिक सर्वेक्षण 2019-20 के अनुसार, 681,224 कर्मचारियों के साथ कारखानों की संख्या 12,582 थी। शीर्ष 4 रोजगार प्रदाता खाद्य उत्पाद (25.48%), गैर-धातु खनिज (11.26%), कपड़ा (9.35%), और फार्मास्यूटिकल्स (8.68%) हैं। औद्योगिक क्षेत्र द्वारा योगदान किया गया सकल मूल्य वर्धित (GVA) 55,035 करोड़ रुपए (US$6.9 बिलियन) है, जिसमें से खाद्य उत्पाद (18.95%), फार्मास्यूटिकल्स (17.01%), और गैर-धात्विक खनिज (16.25%) शीर्ष 3 योगदानकर्ता हैं। 

जबकि, खनन क्षेत्र ने 2021-22 के दौरान राज्य के राजस्व में 3,390 करोड़ रुपए (US$420 मिलियन) का योगदान दिया। 2021-22 में राज्य से सूचना प्रौद्योगिकी निर्यात का मूल्य 926 करोड़ रुपए (US$120 मिलियन) था, जो भारत से आईटी निर्यात का 0.14% है।

केन्द्रीय मंत्री अमित शाह और आंध्र प्रदेश सीएम जगन मोहन रेड्डी
लोकसभा चुनाव के बीच जारी हुआ हिन्दुओं की आबादी में गिरावट और अल्पसंख्यकों की बढ़ोतरी वाला सर्वे रिपोर्ट, प्रमाणिकता पर उठे सवाल!
केन्द्रीय मंत्री अमित शाह और आंध्र प्रदेश सीएम जगन मोहन रेड्डी
क्या धर्म के आधार पर अल्पसंख्यकों को दिया जा सकता है आरक्षण? क्या कहता है भारतीय संविधान?
केन्द्रीय मंत्री अमित शाह और आंध्र प्रदेश सीएम जगन मोहन रेड्डी
बेरोजगारी दर 8.1 फीसदी पहुंची, सबसे ज्यादा मार ग्रामीण क्षेत्रों पर, सुनिए युवाओं ने क्या कहा?

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com