उत्तर प्रदेश: महिला शिक्षक ने मुस्लिम छात्र को सहपाठी छात्रों से पिटवाया, वीडियो वायरल होने के बाद मचा सियासी घमासान

उत्तर प्रदेश: महिला शिक्षक ने मुस्लिम छात्र को सहपाठी छात्रों से पिटवाया, वीडियो वायरल होने के बाद मचा सियासी घमासान

मुजफ्फरनगर। यूपी के मुजफ्फरनगर में गत शुक्रवार को शर्मसार करने वाला वीडियो सामने आया है। राजनीति से उपजी साम्प्रदायिकता ने आमजन में धर्म विरोधी सोच पैदा कर दी है। मुजफ्फरनगर जिले में एक स्कूल की महिला शिक्षक ने टेबल याद नहीं करने पर मुस्लिम बच्चे को उसके ही चचेरे भाई के सामने सहपाठियों से थप्पड़ लगवाए। आरोप है कि महिला शिक्षक ने खास तौर से हिन्दू बच्चों को साथी छात्र को पीटने के लिए प्रेरित किया। वहीं समुदाय विशेष को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी भी की है। वहां मौजूद एक सख्स ने इसका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया जो वायरल हो गया।

वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने महिला की आलोचना शुरू कर दी। वहीं उसकी गिरफ्तारी की मांग की। इस मुद्दे पर राजनीति भी गरमा गई है। इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी है।

जानिए क्या है पूरा मामला?

यूपी के मुजफ्फरनगर जिले के मंसूरपुर थाना क्षेत्र में खुब्बापुर गांव निवासी 45 वर्षीय कमाल (बदला हुआ नाम) ने द मूकनायक प्रतिनिधि से बातचीत करते हुए बताया, "मैं ट्रैक्टर मकैनिक का काम करता हूँ। मेरे तीन बच्चे हैं। मेरा बेटा राहील (बदला हुआ नाम) नेहा पब्लिक स्कूल में आठवीं का छात्र है। वह पिछले दो साल से उसमें पढ़ाई कर रहा है। यह घटना 24 अगस्त 2023 दोपहर की है। मेरा भतीजा किसी काम से स्कूल गया हुआ था। टीचर उसे पहचान नहीं पाई और मेरे भतीजे के सामने ही मेरे बेटे को पिटवाती रही साथ ही मेरे धर्म को लेकर अभद्र टिप्पणी भी करती रही। उसने यह सब देखा तो पूरी घटना कैमरे में कैद कर ली।"

जानिए क्या है वीडियो में?

सोशल मीडिया पर आग की तरह वायरल हुए वीडियो में साफ दिख रहा है। एक टीचर एक बच्चे को सभी बच्चों से बारी-बारी पिटवा रही है। वह यह भी बोल रही है, "मैंने ये डिक्लेयर किया है कि जिन मोहम्मडन बच्चों की माँ, बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान नहीं देती है। उन बच्चों की पढ़ाई का नाश हो जाता है।" इस दौरान लगातार दूसरे बच्चे छात्र को आकर बारी-बारी से थप्पड़ मार रहे हैं। टीचर बीच-बीच में यह भी कहती है कि, "इतना धीरे क्यों मार रहे हो थोड़ा तेज मारो!" अन्य छात्रों की मार से पीड़ित मुस्लिम छात्र क्षुब्ध व सहमा नजर आ रहा है।

कमाल ने द मूकनायक प्रतिनिधि को जानकारी देते हुए बताया, "मेरे भतीजे ने घर आकर मुझे बताया कि आपके बेटे को मैथ्स और अंग्रेजी की टीचर तृप्ता त्यागी सभी बच्चों से 5 का टेबल याद नहीं करके जाने पर पिटवा रही है। इसके साथ ही हमारी कौम को लेकर भी उल्टा-सीधा बोल रही है।"

मैंने इस मामले में पुलिस से एफआईआर दर्ज करने के लिए लिखित शिकायत की है। मेरी मांग है कि आरोपी शिक्षक पर सख्त कार्रवाई हो। साथ ही भविष्य में किसी भी छात्र के साथ ऐसी घटना नहीं कारित की जाए।

बेसिक शिक्षा अधिकारी शुभम शुक्ला ने द मूकनायक प्रतिनिधि को बताया कि एक बच्चे को कक्षा के अन्य छात्र थप्पड़ मार रहे थे। इस वीडियो में दो लोग भी हैं, जिनमें से एक शिक्षक है, जबकि दूसरा व्यक्ति कौन है यह स्पष्ट नहीं है। दोनों शिक्षकों और स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी कार्रवाई शुरू की जाएगी। जब उनसे पूछा गया कि क्या जिस बच्चे को पीटा जा रहा है वह मुस्लिम है और उसे पीटने वाले हिंदू हैं तो शुक्ला ने कहा अभी हम यह नहीं कह सकते हैं और यह जांच का विषय है। हमारी टीम इसकी जांच करेगी।

उन्होंने आगे कहा कि पुलिस ने भी इस मामले का संज्ञान लिया है। मामले की जांच की जा रही है। उधर इस मामले को लेकर राजनीति गरमा गई है।

एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने सोशल मीडिया के माध्यम से लिखा कि उत्तर प्रदेश के एक स्कूल में टीचर एक मुसलमान बच्चे को क्लास के बाकी बच्चों से पिटवा रही है और इस पर खुश भी हो रही है। बाकी जगह तो ऐसी वीडियो पर तुरंत एक्शन लिया जाता है, लेकिन यहां क्या हो गया? एक नोटिस तक जारी नहीं किया।

ओवैसी ने कहा कि बच्चों पर जुल्म हो रहे हैं, लेकिन पुलिस आरोपी को जाने देती है। ऐसे में पुलिस पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई? मध्य प्रदेश सरकार ने एक छोटी सी बात पर एक स्कूल पर बुलडोजर चला दिया था। यहां एक बच्चे को उसके मजहब की बुनियाद पर पीटा जा रहा है और एक कड़ी निंदा वाला ट्वीट तक नहीं आता।

भाजपा का फैलाया वही केरोसिन

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोशल मीडिया माध्यम से कहा कि मासूम बच्चों के मन में भेदभाव का जहर घोलना, स्कूल जैसे पवित्र स्थान को नफरत का बाजार बनाना एक शिक्षक देश के लिए इससे बुरा कुछ नहीं कर सकता। यह भाजपा का फैलाया वही केरोसिन है जिसने भारत के कोने-कोने में आग लगा रखी है। बच्चे भारत का भविष्य है- उनको नफरत नहीं, हम सबको मिलकर मोहब्बत सिखानी है।

बाल आयोग ने जांच के आदेश दिए

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने इस घटना को लेकर कहा कि उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक महिला शिक्षक द्वारा कक्षा में बच्चे को अन्य बच्चों से पिटवाए जाने की घटना की जानकारी मिली है। संज्ञान ले कर कार्यवाही हेतु निर्देश जारी किए जा रहे हैं। सभी से निवेदन है कि बच्चे का वीडियो शेयर न करें। इस तरह की घटना की जानकारी ईमेल द्वारा दें, बच्चों की पहचान उजागर कर अपराध के भागी न बनें।

क्या कहती है पुलिस?

वायरल वीडियो के सम्बंध अपर पुलिस अधीक्षक मुजफ्फरनगर ने द मूकनायक प्रतिनिधि को बताया, “स्कूल के प्रिंसिपल से बात की गई तो ये तथ्य प्रकाश में आया कि महिला टीचर द्वारा ये डिक्लेयर किया गया कि जिन मोहम्मडेन बच्चों की माँ, बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान नहीं देती है उन बच्चों की पढ़ाई का नाश हो जाता है जो वीडियो बना रहा है, वह शख्स इसकी पुष्टि करता है। इस संबंध में बीएसई को अवगत करा दिया गया है और बच्चों के द्वारा जो मारपीट की जा रही है, उस संबंध में संबंधित टीचर के खिलाफ विभागीय कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।”

यह भी पढ़ें-
उत्तर प्रदेश: महिला शिक्षक ने मुस्लिम छात्र को सहपाठी छात्रों से पिटवाया, वीडियो वायरल होने के बाद मचा सियासी घमासान
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: रिलीफ कैंपों के कम स्पेस में करवटों में दिन गुजारती गर्भवती महिलाएं, नवजातों की जिंदगियां दांव पर
उत्तर प्रदेश: महिला शिक्षक ने मुस्लिम छात्र को सहपाठी छात्रों से पिटवाया, वीडियो वायरल होने के बाद मचा सियासी घमासान
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: चश्मदीद का आरोप, BJP कार्यकर्ता ने घर की मेढ़ पर कुकी व्यक्ति की काटकर लगाई थी गर्दन!
उत्तर प्रदेश: महिला शिक्षक ने मुस्लिम छात्र को सहपाठी छात्रों से पिटवाया, वीडियो वायरल होने के बाद मचा सियासी घमासान
Ground Report मणिपुर हिंसा: स्थिति सामान्य फिर भी डर क्यों है बरकरार ?

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com