इस तथ्य के बावजूद कि उनके बांस उत्पादों को ओडीओपी सूची में शामिल किया गया है और हुनर हाट में प्रदर्शन के लिए रखा गया है, कलाकार भुखमरी की हद तक पीड़ित हैं।
इस तथ्य के बावजूद कि उनके बांस उत्पादों को ओडीओपी सूची में शामिल किया गया है और हुनर हाट में प्रदर्शन के लिए रखा गया है, कलाकार भुखमरी की हद तक पीड़ित हैं।

आम चुनाव 2024ः मिर्जापुर के 'बांस शिल्प हुनरमंदों' को क्यों अस्तित्व बचाने के लिए करना पड़ रहा संघर्ष ?

बेनवंशी धाकड़ समुदाय सबसे अधिक उपेक्षित और पिछड़ा, सामाजिक विकास मानक और अनुसूचित जातियों में भी निचले पायदान पर।

मिर्जापुर (उत्तर प्रदेश)। चुनाव प्रचार के दौरान किए गए वादे और बड़े-बड़े दावे पूर्वी उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले के बेनवंशी धाकड़ समुदाय के लिए महज दिखावा बनकर रह गए हैं। लगभग भुला दिए गए इस अनुसूचित जाति (एससी) समाज के लोगों को इतना तिरस्कृत और अपमानित किया जाता है कि उन्हें कृषि क्षेत्रों में काम करने की भी मनाही है। मान्यता है कि उनके स्पर्श से कृषि उपज 'अशुद्ध' हो जाएगी।

हालाँकि, वे जो बांस के उत्पाद बनाते हैं उनका उपयोग पूजा-अनुष्ठानों में किया जाता है। समाज के लोग झौआ, भौका और टोकरी (विभिन्न आकार की बांस की टोकरियाँ), सूप (रसोईघर में खाद्यान्न से भूसी और कंकड़ों को अलग करने के लिए उपयोग किया जाता है), और हाथ के पंखे जैसे बांस के उत्पाद बनाते हैं.

इस सच के बावजूद कि उनके उत्पाद भारत और विदेशों में लोकप्रिय हैं, वे सामाजिक और आर्थिक रूप से हाशिए पर हैं और अत्यधिक गरीबी में रहने को मजबूर हैं। कई दिनों की कड़ी मेहनत और हस्त कौशल से, वे रोज का अधिकतम 200 रुपये कमाते हैं, और वह भी हर दिन नहीं। भारतीय बाजार में चीनी उत्पादों की भरमार के बाद, स्थानीय उत्पाद धीरे-धीरे अपनी चमक खो रहे हैं।

पूरे जिले में बेनवंशी धाकड़ समुदाय की लगभग 10,000 की आबादी है। अमोई, मलुआ, रायकाल, कन्हाईपुर, रामपुर, संत नगर और पटेहरा गांवों में इनका बाहुल्य है।

रोटी, कपड़ा और मकान नहीं

40 वर्षीय सीमा और उनके 45 वर्षीय पति समरू अपने तीन छोटे बच्चों का भरण-पोषण करने के लिए अपनी पारंपरिक बांस की टोकरियाँ (टोकड़ी) बनाने में लगे हुए हैं। तीन दिनों की कड़ी मेहनत के बाद, वे एक बड़ी टोकरी बनाते हैं, जिसे उनका 15 वर्षीय इकलौता बेटा पड़ोस के बाजार में 200 रुपये में बेचता है.

“लोग हमारे उत्पादों की मामूली कीमत भी चुकाना नहीं चाहते हैं। महंगाई के इस युग में हम जो कीमतें तय करते हैं, वे कुछ भी नहीं हैं। क्योंकि हम बाजार से खाली हाथ वापस नहीं आना चाहते हैं, कभी-कभी हमें इसे हमारी मजदूरी की लागत पर बेचना पड़ता है, जो लगभग 150 रुपये के करीब बैठती है."- पटेहरा ब्लॉक के नेवढि़या गांव निवासी व्यक्ति ने द मूकनायक को बताया।

सीमा ने कहा कि -"हमें मजबूरी में कम दामों में बांस उत्पाद बेचना पड़ता है क्योंकि पैसे के बिना लौटने का मतलब है घर पर चूल्हा नहीं जलना।" सीमा के जाति के लोगों की संख्या काफी कम हैं, जो कथित तौर पर उन्हें राजनीतिक रूप से महत्वहीन और अदृश्य बना देती है।

“हम (पत्नी-पति की जोड़ी) बिना भोजन के सोना बर्दाश्त कर सकते हैं, और हमें ऐसा अक्सर करना पड़ता है। लेकिन एक माँ होने के नाते मैं अपने बच्चों को बिना खाना खाए कैसे सोते हुए देख सकती हूँ? उन्हें भले संतुलित आहार न मिले, लेकिन कम से कम दो वक्त नमक रोटी तो नसीब हो."- मायूस होकर सीमा ने कहा।

सीमा से कुछ मीटर की दूरी पर, महदेई अपने टूटे-फूटे, फूस के घर के सामने मिट्टी के फर्श पर बैठकर गाँव की अन्य महिलाओं से बात कर रही थीं। द मूकनायक प्रतिनिधि के साथ अनौपचारिक बातचीत करते हुए, वह उठी, अपनी एक कमरे की झोपड़ी के अंदर गई और एक चारपाई (खाट) खींच ली। झिझक के साथ उस पर बैठने का अनुरोध किया।

उसी खाट पर बैठने के लगातार अनुरोध के बावजूद, महदेई ने विनम्रता से इनकार कर दिया और फर्श पर बैठ गईं। “हम निचली जाति से हैं। मैं तुम्हारे बगल में खाट पर कैसे बैठ सकती हूँ, जबकि तुम लगभग मेरे बेटे के बराबर ही उम्र के हो?” उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा.

जब उनसे (महदेई) से पूछा गया कि सब कुछ कैसा है, तो उन्होंने आश्चर्य से जवाब दिया, “क्या सरकार और समाज के लिए भी हमारा कोई अस्तित्व है? कोई भी, यहां तक कि पत्रकार भी, कभी हमारे पास नहीं आते। मुझे खुशी है कि किसी ने हमारे होने को स्वीकार किया और हमारे मुद्दों के बारे में जानने के लिए इस सुदूर गांव तक पहुंचने का कष्ट उठाया."

लगभग 110 घरों वाले इस गांव को किसी भी सरकारी कार्यक्रम या योजना से लाभ नहीं मिला है। यहां के निवासी भूमिहीन हैं। उनके पास कोई पक्का घर नहीं है। होना ये था कि प्रधान मंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत प्राथमिकता के आधार पर सभी कच्चे घरों को पक्का बनाया जाना चाहिए था। उल्लेखनीय है कि योजना के तहत गरीब ग्रामीण निवासियों को घर के निर्माण के लिए 1.3 लाख रुपए प्रदान किए जाते हैं।

इस तथ्य के बावजूद कि उनके उत्पाद भारत और विदेशों में लोकप्रिय हैं, वे अत्यधिक गरीबी में रहने को मजबूर हैं।
इस तथ्य के बावजूद कि उनके उत्पाद भारत और विदेशों में लोकप्रिय हैं, वे अत्यधिक गरीबी में रहने को मजबूर हैं।

इस तथ्य के बावजूद कि उनके उत्पाद भारत और विदेशों में लोकप्रिय हैं, वे अत्यधिक हाशिए पर हैं और अत्यधिक गरीबी में रहने को मजबूर हैं।

“हमें मुफ्त राशन के अलावा सरकार से कुछ नहीं मिलता है। जब भी हमारे उत्पाद नहीं बिकते, तो हमें अन्य वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए पैसे जुटाने के लिए (सार्वजनिक वितरण प्रणाली या पीडीएस के तहत) मिलने वाला गेहूं और चावल बेचना पड़ता है, ” एक शारीरिक रूप् से कमजोर महिला ने कहा।

अपने चार लड़कों के साथ, 55 वर्षीय महिला भी सूप और टोकरियाँ बनाती है। हालाँकि, वे प्रतिदिन मुश्किल से 100 रुपये भी कमा पाते हैं। “लोग अक्सर राशन के बदले हमारे उत्पाद लेते हैं। इससे जीवन चलाना और मुश्किल हो गया है,” महिला के चेहरे से गहरी निराशा झांक रही थी।

महदेई के घर के सामने सड़क के दूसरी ओर बाबू नंदन बांस की टोकरी बनाने में व्यस्त थे। वह भी भ्रष्टाचार और प्रशासनिक अनदेखी की शिकायतें बताते हुए बातचीत में शामिल हो गए।

“हमने पीएमएवाई के तहत घर के लिए तीन से अधिक बार आवेदन किया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। हमारे आवेदनों को आगे बढ़ाने के लिए प्रधान (ग्राम प्रधान) से बार-बार अनुरोध किया पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। जब भी हमने उनसे संपर्क किया, उन्होंने हमसे दस्तावेज जमा करने के लिए कहा, लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ। हम संभवतः संख्या के हिसाब महत्वपूर्ण नहीं हैं, इसीलिए ऐसा हो रहा है। नेता हमें हल्के में लेते हैं। उनका मानना है कि शराब के बदले में हमारे वोट पा जाएंगे - जो मतदान के दिन से एक रात पहले वितरित की जाती है." 45 वर्षीय व्यक्ति ने अपनी आपबीती बताते हुए आरोप लगाया।

उन्होंने हाथ जोड़कर समस्या को सरकार तक पहुंचाने का अनुरोध किया ताकि उनके लिए कुछ सहायता सुनिश्चित की जा सके। “हमें एक ऐसी जगह की जरूरत है जहां हम अपने शिल्प कौशल का प्रदर्शन कर सकें और उत्पाद बेच सकें। सरकारी सहायता के अभाव में, हम अपने अस्तित्व के लिए और इस कला को जीवित रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं,” उन्होंने कहा।

उपेक्षा की एक अंतहीन कथा

28 वर्षीय विनोद कुमार के अनुसार, उनके समुदाय के सदस्यों ने 2019 के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को वोट दिया था, जो राज्य के साथ-साथ केंद्र में भी शासन कर रही है, इस उम्मीद के साथ कि वह उनके उत्थान के लिए कुछ करेगी. जब उनसे पूछा गया कि मौजूदा चुनाव में वे किसे चुनेंगे तो उन्होंने कहा कि अभी तक इस संबंध में कोई निर्णय नहीं किया है।

“हम आम तौर पर यहां स्थानीय समाज की पसंद से चलते हैं। हम यहां प्रभावशाली उच्च जाति के लोगों की इच्छाओं के खिलाफ नहीं जा सकते क्योंकि हमें यहीं रहना है और अपने बच्चों का भरण-पोषण करना है। उन्होंने दावा किया कि कोई भी राजनेता चुनावों में उनके समर्थन के लिए कभी उनके पास नहीं पहुंचा।"

उन्होंने आगे कहा, "हमें बताया गया है कि एक विशेष पार्टी हमारे समर्थन के साथ या उसके बिना भी जीतेगी और इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा कि हम उसे वोट देते हैं या नहीं।"

पटेहरा ब्लॉक के पड़ोसी गांव रामपुर निवासी 70 वर्षीय छांगुर और उनके तीन बेटे जीविकोपार्जन के लिए मजदूरी करते हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें प्रति माह 1,000 रुपए कमाने के लिए संघर्ष करना पड़ता है। काम के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा-"अगर हमारे बनाए उत्पाद बिकते हैं, तो हमको दो जून की रोटी मिलती है। नहीं तो भूखे रहना पड़ता है।"

वह अपने गांव के एकमात्र व्यक्ति हैं जिनके पास एक कमरे का पक्का घर है। उन्होंने कहा, मैंने आवास योजना के तहत सरकार से मिले 1.2 लाख रुपये से यह घर बनवाया है।

ग्रामीणों ने दावा किया कि त्योहारी सीजन उनके व्यवसाय में मदद करता है और बाजार में प्लास्टिक उत्पादों की बाढ़ से उनकी आय के स्रोत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। उन्होंने कहा, "इससे हाथ से बने बांस उत्पादों की मांग में काफी कमी आई है."

कड़ी मेहनत और अपर्याप्त आय के कारण बड़ी संख्या में कलाकारों ने यह पेशा छोड़ दिया है।
कड़ी मेहनत और अपर्याप्त आय के कारण बड़ी संख्या में कलाकारों ने यह पेशा छोड़ दिया है।

30 वर्षीय सूरज प्रसाद ने शिकायत करते हुए कहा,- "सरकार की उपेक्षा के कारण हमारे सदियों पुराने पेशे पर विलुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है। उन्होंने दावा किया कि वे अपने कौशल का उपयोग करके और इससे विभिन्न प्रकार की वस्तुएं बनाकर बांस को जीवन देते हैं।"

बांस के उत्पाद बनाने में कई चरण शामिल होते हैं। सबसे पहले, इसे इसकी लंबाई के अनुसार टुकड़ों में काटा जाता है। इन टुकड़ों को फिर से पतले स्लाइस में काटा जाता है। अब इसे कई दिनों तक सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है. लाल और हरे रंग का उपयोग आमतौर पर लंबी और पतली स्लाइस को रंगने के लिए किया जाता है। अंत में, स्लाइस को एक निश्चित डिजाइन में वस्तुओं के अनुसार बुना जाता है।

“ उत्पाद बनाने की प्रक्रिया श्रमसाध्य और जटिल है, लेकिन उत्पाद से मिलने वाली राशि अपर्याप्त है। परिणामस्वरूप, बड़ी संख्या में लोगों ने यह पेशा छोड़ दिया है। हम में से बहुत से लोग अब निर्माण मजदूरों के रूप में काम करते हैं, जिन्हें अगर काम पर रखा जाता है, तो कम से कम हम इन उत्पादों से जितना कमाते हैं, उससे अधिक पैसा कमाते हैं, ” उन्होंने कहा।

समुदाय की महिलाएं मिट्टी के चूल्हे का उपयोग जारी रखती हैं और उन्हें सांस संबंधी बीमारियों का खतरा हमेशा बना रहता है। बहुप्रचारित प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई), जिसका उद्देश्य गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) परिवारों की महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन देना है, का यहां कोई मतलब नहीं है।

ऐसा प्रतीत होता है कि स्वच्छ भारत अभियान (स्वच्छ भारत मिशन) से उन ग्रामीणों के लिए स्वच्छता और सुरक्षा में सुधार नहीं हुआ है जो अभी भी शौचालयों के अभाव में खुले में शौच करते हैं। 2 अक्टूबर, 2019 तक खुले में शौच मुक्त भारत का लक्ष्य हासिल करने के लिए 2014 में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मेगा स्वच्छता अभियान शुरू किया गया था।

आगे का रास्ता

यह समुदाय सबसे अधिक उपेक्षित और पिछड़ा है, यहां तक कि अनुसूचित जाति के बीच भी, सभी संकेतकों में सबसे निचले स्थान पर है। समुदाय से आने वाले पत्रकार योगेश कुमार बेनबंशी ने सामाजिक और आर्थिक पिछड़ेपन के बारे में बताया।

“हमारा संख्यात्मक महत्व नगण्य है। वर्तमान में पूरे राज्य में हमारी संख्या लगभग 1 लाख है। अशिक्षा, जागरूकता की कमी और अत्यधिक गरीबी के कारण हम अपने अधिकारों के लिए आवाज नहीं उठाते हैं। परिणामस्वरूप, हम मीडिया, राजनीतिक हस्तियों और सरकार का ध्यान आकर्षित करने में असमर्थ हैं, ” उन्होंने द मूकनायक को बताया।

प्रयागराज के ऊंचडीह के मूल निवासी कुमार अपने समुदाय के दूसरी पीढ़ी के शिक्षित व्यक्ति हैं। वह कानून और पत्रकारिता की पढ़ाई इसलिए कर सके क्योंकि उनके पिता मुंबई में एक निजी फर्म में अकाउंटेंट के रूप में काम करते हैं और उन्हें वेतन के रूप में अच्छी रकम मिलती है। वह अपने गांव के उन तीन युवाओं में से एक हैं जिन्होंने उच्च शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय में दाखिला लिया है।

उनके अनुसार जो प्रयास उनके समुदाय को मुख्यधारा के समाज के साथ एकीकृत कर सकते हैं, उनमें अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए एक अलग आयोग की स्थापना करना, कलाकारों को उनके व्यवसाय का विस्तार करने में मदद करने के लिए विशेष वित्तीय सहायता प्रदान करना और शिक्षा के लिए विशेष व्यवस्था करना शामिल होगा।

द मूकनायक ने बेनवंशी धाकड़ समुदाय की पीड़ाओं, आर्थिक चुनौतियों और सरकारी योजनाओं से वंचित होने के संबंध में सभी संबंधित अधिकारियों से बात की, लेकिन उनमें से कोई भी रिकॉर्ड पर आने के लिए सहमत नहीं हुआ। जिला मजिस्ट्रेट ने भी लागू आदर्श आचार संहिता का हवाला देते हुए कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

आंकड़ों पर नजर

चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा बांस उत्पादक देश है। 136 प्रजातियों और 23 श्रेणी के साथ, सदाबहार बारहमासी फूल वाले पौधे की खेती देश में 13.96 हेक्टेयर भूमि पर होती है। भारत सरकार के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय का अनुमान है कि यहां हर साल 3.23 मिलियन टन बांस का उत्पादन होता है।

फिर भी, पर्याप्त उत्पादन के बावजूद, दुनिया के बांस व्यापार और वाणिज्य में देश का योगदान मुश्किल से 4 प्रतिशत है। जैसा कि कलाकारों को अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष करना जारी है, ऐसा प्रतीत होता है कि केंद्र की एक जिला एक उत्पाद पहल - जिसका उद्देश्य सभी क्षेत्रों में समग्र सामाजिक आर्थिक विकास को सक्षम करने के लिए देश के प्रत्येक जिले से कम से कम एक उत्पाद का चयन, ब्रांड और प्रचार करना है - जमीनी स्तर पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ रहा है.

इस तथ्य के बावजूद कि उनके बांस उत्पादों को ओडीओपी सूची में शामिल किया गया है और हुनर हाट में प्रदर्शन के लिए रखा गया है, कलाकार भुखमरी की हद तक पीडि़त हैं।इन लोगों के लिए यह उत्साहजनक होता यदि राजनीतिक दलों को विश्वास होता कि इस समूह की चिंताएँ इतनी महत्वपूर्ण हैं कि उनके घोषणापत्रों में इसका उल्लेख किया जा सकता है।

मिर्जापुर की राजनीति

देश में 18वीं लोकसभा चुनने के लिए 19 अप्रैल से 1 जून तक (सात चरणों में) मतदान होगा। उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर मतदान सातवें चरण में 1 जून को होगा, जिसमें मिर्जापुर भी शामिल है.

समाजवादी पार्टी (सपा) ने 21 मार्च को मिर्जापुर में सहयोगी अपना दल (कमेरावादी) या अपना दल-(क) के खिलाफ राजेंद्र एस बिंद को अपना उम्मीदवार घोषित किया। हालाँकि, सपा और अपना दल-के दोनों कांग्रेस के नेतृत्व वाले इंडिया गठबंधन सदस्य हैं - जिसका गठन भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाले मौजूदा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से मुकाबला करने के लिए किया गया है.

एसपी के फैसले से निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा विरोधी वोटों के बंटने की संभावना है। यह पल्लवी पटेल के नेतृत्व वाली पार्टी द्वारा मिर्जापुर, फूलपुर और कौशांबी सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा करने के बाद आया है। ये सभी सीटें 2019 के आम चुनावों में भाजपा की झोली में गई थीं.

पूर्वी उत्तर प्रदेश की अहम सीटों में से एक मानी जाने वाली मिर्जापुर लोकसभा सीट पर फिलहाल बीजेपी की सहयोगी पार्टी अपना दल (सोनीलाल) या अपना दल (एस) का कब्जा है. पिछले दो चुनावों (2014 और 2019) से पार्टी प्रमुख अनुप्रिया पटेल इस सीट से सांसद हैं.

वर्तमान में, केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री, उन्होंने यह सीट 2 लाख से अधिक के भारी अंतर से जीती थी। बीजेपी ने यह सीट एक बार फिर अपना दल (एस) के लिए छोड़ दी है. जिले के सभी पांच विधानसभा क्षेत्रों पर एनडीए का कब्जा है.

अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद-अरुण कुमार वर्मा।

इस तथ्य के बावजूद कि उनके बांस उत्पादों को ओडीओपी सूची में शामिल किया गया है और हुनर हाट में प्रदर्शन के लिए रखा गया है, कलाकार भुखमरी की हद तक पीड़ित हैं।
MP: भोपाल गैस कांड पीड़ित 153 परिवारों के सिर पर छत की जगह तिरपाल! जानिए क्या है कारण?-ग्राउंड रिपोर्ट
इस तथ्य के बावजूद कि उनके बांस उत्पादों को ओडीओपी सूची में शामिल किया गया है और हुनर हाट में प्रदर्शन के लिए रखा गया है, कलाकार भुखमरी की हद तक पीड़ित हैं।
दलित-आदिवासी सरकारी कर्मचारियों को पदोन्नति नहीं देना चाहती MP सरकार, जानिए क्या है कारण?

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com