सर्वपल्ली राधाकृष्णन या सावित्री बाई फुले: शिक्षक के रूप में किसका योगदान है महत्वपूर्ण?

कई बहुजन संगठन सावित्री बाई फुले की जयंती को शिक्षक दिवस के रूप में मनाते है।
सर्वपल्ली राधाकृष्णन और सावित्री बाई फुले
सर्वपल्ली राधाकृष्णन और सावित्री बाई फुले

आप में से कई लोग सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने की परंपरा के आदी हैं। यह एक ऐसा दिन है जब हम शिक्षकों को उपहार देकर और छात्रों को उनके सपनों को हासिल करने में राधाकृष्णन के अमूल्य योगदान को बताकर उनकी सराहना व्यक्त करते हैं। हालांकि, हाल के दिनों में, सोशल मीडिया की शक्ति के माध्यम से एक अलग दृष्टिकोण सामने आया है। हाशिए पर रहने वाले बहुजन बुद्धिजिवियों का तर्क है कि 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाना झूठे नायकों का उत्सव है जो कि बहुजन हित के वास्तविक नायकों की उपेक्षा है।

इन गुमनाम नायकों को तमाम चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिनमें उनको पत्थर मारे गए और उनपर गोबर तक फेंका गया, क्योंकि उन्होंने खुद को समाज के हाशिए पर रहने वाले वर्गों, विशेष रूप से बहुजनों और महिलाओं के उत्थान के लिए समर्पित कर दिया था। इन उल्लेखनीय शख्सियतों में एक अग्रणी महिला सावित्री बाई फुले भी थीं, जिन्होंने अपने मिशन को आगे बढ़ाने के लिए रूढ़िवादी हिंदू समाज के तीव्र विरोध का सामना किया। उन्हें अपने पति ज्योतिबा राव फुले का भरपूर समर्थन मिला। साथ में, उन्होंने एक मिशन शुरू किया जिसके कारण 1848 और 1852 के बीच 18 स्कूलों की स्थापना हुई, प्रत्येक का उद्देश्य उन लोगों को शिक्षा प्रदान करना था जिन्हें बहुत लंबे समय से शिक्षा से वंचित किया गया था। हालाँकि, उनके कट्टरपंथी प्रयासों को ब्राह्मणों के तीव्र प्रतिरोध का सामना करना पड़ा, जिन्होंने उन्हें उनके ही घर से बेदखल करने की साजिश रची।

यह वैकल्पिक दृष्टिकोण शिक्षक दिवस के पारंपरिक मान्यता को चुनौती देता है और इस बात के पुनर्मूल्यांकन की मांग करता है कि हम शिक्षा के क्षेत्र में किसे सच्चा नायक माने।

सर्वपल्ली राधाकृष्णनः एक अनुकरणीय शिक्षक नहीं थे

सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने 1962 में राजेंद्र प्रसाद के बाद देश के दूसरे राष्ट्रपति के रूप में पदभार संभाला। अपने करियर की शुरुआत में, उन्होंने एक शिक्षक के रूप में काम किया, उन्होंने मद्रास प्रेसीडेंसी कॉलेज में पढ़ाया और बाद में मैसूर विश्वविद्यालय के तहत महाराजा कॉलेज, मैसूर में दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर के रूप में चुने गए। 1921 में, उन्हें कलकत्ता विश्वविद्यालय में दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किया गया। हालाँकि, यह किसी को एक अनुकरणीय शिक्षक मानने के लिए पर्याप्त नहीं है।

इसके अलावा, उनसे जुड़ा एक विवाद एक शिक्षक और विद्वान के रूप में उनकी छवि पर गंभीर संदेह पैदा करता है। 1928 में, उनके पूर्व छात्र जदुनाथ सिन्हा ने द मॉडर्न रिव्यू के संपादक को एक पत्र भेजा, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि राधाकृष्णन के इंडियन फिलॉसफी (1927 में प्रकाशित) के दूसरे खंड में बिना किसी श्रेय उनका डॉक्टरल थीसिस चोरी कर लगा दिया गया था। उन्होंने अपने दावे के समर्थन में 70 साक्ष्य भी उपलब्ध कराए। मामला अदालत में गया। कई वर्षों के बाद, विवाद अंततः अदालत के बाहर मध्यस्थता के माध्यम से सुलझाया गया। यह प्रकरण राधाकृष्णन को एक अनैतिक शिक्षक के रूप में प्रस्तुत करता है और उनके आलोचकों के पक्ष को मजबूत करता है जो एक प्रेरणादायक शिक्षक के रूप में उनकी छवि पर प्रश्नचिन्ह लगाते हैं.

दलित विचारधारा शिक्षा को मुक्ति के सबसे महत्वपूर्ण साधनों में से एक के रूप में देखती है और ब्राह्मणवाद को शिक्षा की प्राप्ति में प्राथमिक विरोधाभास के रूप में। वे एक ऐसे ब्राह्मण की जयंती पर शिक्षक दिवस मनाने का विरोध करते हैं जिस पर तुलनात्मक धर्म के विद्वान के रूप में हिंदू धर्म व ब्राह्मणवाद का समर्थक होने का आरोप है।

5 सितंबर- शिक्षक दिवस की सरकारी स्मृति और 3 जनवरी जनमानस स्मृति है

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एन. सुकुमार ने द मूकनायक से बात की, वे कहते हैं, सावित्री बाई फुले एक सच्ची लोकतांत्रिक शिक्षाविद् हैं। उन्होंने हाशिए पर रहने वाले वर्गों और विशेष रूप से महिलाओं के लिए शिक्षा का लोकतंत्रीकरण किया। उन्होंने स्कूल शुरू किए और शिक्षा की वकालत की। इसीलिए 3 जनवरी को सच्चे शिक्षक दिवस के रूप में माना जाना चाहिए। फिर भी, शैक्षणिक संस्थान, चाहे स्कूल, मध्य या उच्च, सभी विशिष्ट हैं और भेदभाव का अभ्यास करते हैं। क्या राधाकृष्णन ने कभी समावेशी शिक्षा के बारे में बात की थी? 5 सितंबर एक शिक्षक दिवस की सरकारी स्मृति है, लेकिन 3 जनवरी शिक्षक दिवस की जनमानस स्मृति है। राधाकृष्णन दृढ़ रूप से हिंदू दर्शन में विश्वास करते थे, जो दलितों और महिलाओं के लिए शिक्षा के खिलाफ है। हम इस दिन को शिक्षक दिवस के रूप में कैसे मना सकते हैं?

सोशल मीडिया के आगमन से बहुजन प्रतिवाद में तीव्रता आयी है

यह दलित पैंथर ही था जिसने सावित्रीबाई फुले का जन्मदिन मनाना शुरू किया। ऐसा कहा जाता है कि दलित पैंथर 1972 में अपने गठन के बाद से ही उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाता आ रहा है।

21वीं सदी में, 3 जनवरी को शिक्षक दिवस के रूप में घोषित करने की मांग वर्ष 2007 में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के एक छात्र संगठन, बहुजन स्टूडेंट फ्रंट ने की। संगठन ने सावित्री बाई फुले की जयंती को शिक्षक दिवस के रूप में मनाना शुरू किया। बाद में, 2012 में, हैदराबाद विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान विभाग के एक शोध विद्वान एस स्वरूप सिरपांगी ने ब्लॉग के द्वारा यह बताया कि राधाकृष्णन के विपरीत, सावित्री बाई फुले एक वास्तविक शिक्षक के रूप में मान्यता की हकदार थीं। वह, अपने पति ज्योतिबा फुले के साथ, उन्नीसवीं सदी के मध्य में ही, विशेषकर महिलाओं और निचली जातियों के लिए शिक्षा फैलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

2014 के बाद सोशल मीडिया के आगमन के बाद एक सच्चे बहुजन शिक्षक के रूप में सावित्री बाई फुले की पहचान को बल मिला और तब से, कई बहुजनों ने अपने द्वारा संचालित शैक्षणिक संस्थानों में इसे मनाने की पहल की है।

दलित छात्रों के कड़वे अनुभवों ने शिक्षक दिवस के महत्व को विवादित कर दिया है

बुन्देलखण्ड दलित अधिकार मंच से जुड़े कार्यकर्ता कुलदीप कुमार बौद्ध कहते हैं-शिक्षकों के साथ दलित छात्रों का अनुभव हमेशा सुखद नहीं होता है। ग्रामीण इलाकों में शिक्षक जाति के आधार पर भेदभाव करते हैं। वह जालौन जिले के क्योलारी गांव के एक स्कूल की हालिया घटना का हवाला देते हैं, जहां एक लड़की को शौचालय के उपयोग से मन किया गया, पीने के पानी का उपयोग करने से मना कर दिया गया था और शिक्षक द्वारा जातिवादी गालियां दी गईं क्योंकि वह वाल्मिकी समुदाय से थी।

यह भी पढ़ें-
सर्वपल्ली राधाकृष्णन और सावित्री बाई फुले
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: “किताबें और यूनिफॉर्म जल गए, हम फिर से अपने घर और स्कूल लौटना चाहते हैं”
सर्वपल्ली राधाकृष्णन और सावित्री बाई फुले
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: आदिवासियों को 'बाहरी' बताने का नैरेटिव और पहाड़ी में बसे लोगों का सच
सर्वपल्ली राधाकृष्णन और सावित्री बाई फुले
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: चुराचांदपुर में प्रवेश के लिए सिर्फ मुस्लिम ड्राइवर ही क्यों?
सर्वपल्ली राधाकृष्णन और सावित्री बाई फुले
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: रिलीफ कैंपों के कम स्पेस में करवटों में दिन गुजारती गर्भवती महिलाएं, नवजातों की जिंदगियां दांव पर

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com