अब तक की ख़बरें: महाराष्ट्र के नांदेड़ हॉस्पिटल में सात और मौतें

अब तक की ख़बरें: महाराष्ट्र के नांदेड़ हॉस्पिटल में सात और मौतें

देश भर में बीते कुछ घंटों में तमाम बड़ी घटनाएँ और अपराध से जुड़े मामले सामने आये हैं. पेश है द मूकनायक की मार्निंग ब्रीफ में यह प्रमुख ख़बरें:

नांदेड़ में बच्चों की मौतों का सिलसिला जारी

महाराष्ट्र के नांदेड़ में मौतों (Nanded Hospital Deaths) का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अस्पताल में 4 बच्चों समेत सात और मरीजों की मौत हो गई है। पिछले 48 घंटे में अबतक 31 लोगों की जान जा चुकी है। पिछले 48 घंटों में सरकारी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में मरने वालों कां आंकड़ा अब 31 पहुंच गया है, इनमें 16 बच्चे शामिल हैं। अस्पताल में बड़ी संख्या में हो रही मौतों से हेल्थ सिस्टम पर सवाल खड़ा हो रहा है। आखिर इन मौतों की वजह क्या है ये अब तक साफ नहीं हो सका है। हालांकि, इन मौतों के लिए लोग लचर सरकारी तंत्र को जिम्मेदार मान रहे हैं। यह मामला नांदेड़ के शंकरराव चव्हाण सरकारी अस्पताल का है।

अस्पताल में हो रही मौतों पर शंकरराव चव्हाण सरकारी अस्पताल के डीन का बयान भी आया था। उन्होंने कहा था कि ज्यादातर मौतें सांप के काटने की वजह से और बाकी की बीमारियों की वजह से हुई हैं। आलम यह है कि मौतों का मामला थामने का नाम नहीं ले रहा है। इन आंकड़ों में लगातार इजाफा होता जा रहा है।

असम में मुस्लिम समुदाय का सर्वे

असम सरकार ने मंगलवार को कहा कि वह राज्य के पांच मूल जनजातीय मुस्लिम समुदाय की सामाजिक आर्थिक स्थिति का सर्वे करेगी इसका मकसद समुदाय की बेहतरी के लिए कदम उठाना है। मुख्यमंत्री ऑफिस में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक पर लिखा "जनता भवन में एक मीटिंग के दौरान मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को असम के मूल जनजातीय मुस्लिम समुदाय (गोरिया, मौर्य, देशी, सैयद और जोल्हा) की सामाजिक आर्थिक स्थिति का सर्वे करने का निर्देश दिया है"।

MP: मां ने 12 साल की बेटी की कुल्हाड़ी से काटकर कर दी हत्या

मध्य प्रदेश के छतरपुर में एक मां ने अपनी 12 साल की बेटी की हत्या कर दी। हत्या की खबर फैलते ही इलाके में सनसनी फैल गई। आस-पास के लोग दहशत में आ गए। घटना भगवा थाना क्षेत्र की है। रिपोर्ट के अनुसार, जब वारदात हुई तो बच्ची के पिता घर पर नहीं थे। मां पर आरोप है कि उसने कुल्हाड़ी से काटकर बच्ची को मार डाला। मामले की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है। मां मानसिक रूप से अस्वस्थ है। मामले की जांच कर रहे छतरपुर एसपी अमित सांघी के अनुसार, "भगवा थाना क्षेत्र में एक मां ने अपनी 12 साल की बच्ची की कुल्हाड़ी से वार कर हत्या कर दी। बच्ची के पिता काम करने के लिए दिल्ली गए हुए थे। महिला मानसिक रूप से अस्वस्थ बताई जा रही है। जिसका इलाज भी चल रहा था। इस मामले में मां को गिरफ्तार कर लिया गया है और जिस कुल्हाड़ी से हत्या की गई थी वो भी ज़ब्त कर ली गई है।" फिलहाल आगे की कार्रवाई की जा रही है।

सफदरजंग अस्पताल में शुरू हुई शाम की ओपीडी

नई दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मंगलवार से शाम की ओपीडी सुविधा शुरू हो गई। पहले दिन 150 मरीज इलाज करवाने पहुंचे। इनमें से कई मरीजों को आपातकालीन विभाग से शाम की ओपीडी में भेजा गया। स्पोर्ट्स इंजरी सेंटर के पास कोविड के पुराने सेंटर में शुरू हुई इस ओपीडी में फिलहाल तीन विभागों की सुविधा मिल रही है जिसे आने वाले दिनों में बढ़ाया जाएगा।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मंगलवार को पहले दिन अस्पताल की चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर वंदना तलवार भी इस ओपीडी में पहुंचीं और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ सुविधाओं का जायजा लिया। साथ ही पंजीकरण केंद्र पर कंप्यूटर से पहले मरीज की पर्ची भी बनाकर दी। इस मौके पर डॉक्टर तलवार ने कहा कि शाम को ओपीडी सेवा के लिए पंजीकरण सुबह 11:30 बजे से लेकर शाम 5:30 बजे तक होगा। यह ओपीडी कोरोना के इलाज के लिए बने मेक शिफ्ट सेंटर में दोपहर 12 बजे से शाम छह बजे तक चलेगी। शुरुआत में मेडिसिन, सर्जरी और पीडियाट्रिक विभाग की ओपीडी सेवा शुरू की गई है। इसके कुछ दिन बाद अन्य विभागों के डॉक्टर भी शाम को ओपीडी में मरीजों को परामर्श देंगे।

अब तक की ख़बरें: महाराष्ट्र के नांदेड़ हॉस्पिटल में सात और मौतें
दिल्ली: मंदिर में चढ़ाए गए प्रसाद को उठाने पर मुस्लिम की मॉब-लिंचिंग का क्या है पूरा मामला, पढ़िए ग्राउंड रिपोर्ट
अब तक की ख़बरें: महाराष्ट्र के नांदेड़ हॉस्पिटल में सात और मौतें
मध्य प्रदेशः नहीं बन रहे ट्रांसजेंडर्स के आधार कार्ड, पहचान की समस्या बरकरार, क्या हैं नुकसान?-Ground Report
अब तक की ख़बरें: महाराष्ट्र के नांदेड़ हॉस्पिटल में सात और मौतें
माई सोशल फिलॉसफी: राष्ट्रवाद पर डॉ. भीमराव आंबेडकर के क्या विचार थे?

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com