माई सोशल फिलॉसफी: राष्ट्रवाद पर डॉ. भीमराव आंबेडकर के क्या विचार थे?

आज ही के दिन, 3 अक्टूबर, 1954 को डॉ. बीआर अंबेडकर ने ऑल इंडिया रेडियो पर पहला भाषण दिया था, जिसका शीर्षक था "माई सोशल फिलॉसफी।" आज के इस खास दिन पर हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि डॉ. अंबेडकर का राष्ट्रवाद पर क्या विचार थे। जो आज भी बहुत ही प्रासंगिक हैं।
डॉ. बी. आर. अंबेडकर
डॉ. बी. आर. अंबेडकर

"माई सोशल फिलॉसफी" शीर्षक वाले भाषण में, अम्बेडकर ने स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के सिद्धांतों पर आधारित एक न्यायपूर्ण और न्यायसंगत समाज के लिए अपना दृष्टिकोण रखा था। ऑल इंडिया रेडियो पर अम्बेडकर का भाषण भारतीय इतिहास में एक ऐतिहासिक घटना थी। यह पहली बार था कि किसी प्रमुख सार्वजनिक हस्ती ने स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के सिद्धांतों के आधार पर एक न्यायपूर्ण और न्यायसंगत समाज के लिए एक दृष्टिकोण व्यक्त किया था। अम्बेडकर का भाषण आज भी प्रासंगिक है, क्योंकि हम एक सच्चे लोकतांत्रिक और समतावादी समाज को प्राप्त करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

अगर हम राष्ट्रवाद की बात करें तो, राष्ट्रवाद पर डॉ. बी. आर. अम्बेडकर ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन (British colonial rule) से भारत की आजादी के प्रबल समर्थक थे, लेकिन वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रमुख राष्ट्रवादी विचारधारा के भी आलोचक थे।

अम्बेडकर का मानना था कि कांग्रेस का राष्ट्रवाद राजनीतिक स्वतंत्रता प्राप्त करने पर बहुत अधिक केंद्रित था, और यह भारतीय समाज के भीतर मौजूद सामाजिक और आर्थिक असमानताओं को पर्याप्त रूप से संबोधित नहीं करता था।

अम्बेडकर ने तर्क दिया कि सच्चा राष्ट्रवाद स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए। उनका मानना था कि सभी भारतीयों को, उनकी जाति, धर्म या सामाजिक स्थिति की परवाह किए बिना, समान अधिकार और अवसर मिलने चाहिए। उन्होंने तर्क दिया कि कोई राष्ट्र वास्तव में स्वतंत्र नहीं हो सकता यदि उसके नागरिक सामाजिक और आर्थिक उत्पीड़न से मुक्त नहीं हैं। वह विशेष रूप से जाति व्यवस्था के आलोचक थे, जिसे वे आंतरिक उपनिवेशवाद के रूप में देखते थे।

उन्होंने यह भी तर्क दिया कि राष्ट्र-राज्य को सामाजिक न्याय और गरीबों और हाशिये पर पड़े लोगों के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए।

अम्बेडकर का राष्ट्रवाद पर दृष्टिकोण समावेशी और बहुलवादी था। उन्होंने इस विचार को खारिज कर दिया कि एक एकल अखंड भारतीय पहचान हो सकती है। इसके बजाय, उनका मानना था कि भारत संस्कृतियों और परंपराओं की समृद्ध विविधता वाला एक विविध देश है।

उन्होंने तर्क दिया कि राष्ट्र-राज्य किसी विशेष धार्मिक या सांस्कृतिक पहचान के बजाय लोकतांत्रिक मूल्यों और सामाजिक न्याय के प्रति साझा प्रतिबद्धता पर आधारित होना चाहिए। 

अंबेडकर का राष्ट्रवाद का दृष्टिकोण एक धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक भारत के विचार पर आधारित था जहां सभी नागरिकों को समान अधिकार और अवसर होंगे। उनका मानना था कि इस प्रकार का राष्ट्रवाद एक मजबूत और समृद्ध भारत के निर्माण के लिए सबसे अच्छा आधार होगा।

राष्ट्रवाद पर अम्बेडकर के विचार एक दलित के रूप में उनके अपने अनुभवों से आकार लेते थे। क्योंकि, उन्होंने जाति व्यवस्था के तहत दलितों द्वारा झेले जाने वाले भेदभाव और उत्पीड़न का प्रत्यक्ष अनुभव किया था।

इससे उनमें सामाजिक न्याय और समानता के प्रति गहरी प्रतिबद्धता विकसित हुई। उनका मानना था कि राष्ट्रवाद भलाई के लिए एक शक्तिशाली शक्ति हो सकता है, लेकिन केवल तभी जब इसका उपयोग केवल विशेषाधिकार प्राप्त कुछ लोगों के लिए नहीं, बल्कि सभी भारतीयों के अधिकारों के लिए लड़ने के लिए किया जाए।

अम्बेडकर का यह भी मानना था कि राष्ट्रवाद को नागरिक पहचान की साझा भावना पर आधारित होना चाहिए। उन्होंने इस विचार को खारिज कर दिया कि राष्ट्रवाद केवल खून और मिट्टी का मामला है। इसके बजाय, उन्होंने तर्क दिया कि राष्ट्रवाद एक सामाजिक और राजनीतिक निर्माण है जिसे सक्रिय रूप से विकसित किया जाना चाहिए।

राष्ट्रवाद पर अम्बेडकर के विचारों (Ambedkar's views on nationalism) के कुछ विशेष उदाहरण 

  • अम्बेडकर का मानना था कि राष्ट्रवाद स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए। उन्होंने तर्क दिया कि ये सिद्धांत एक न्यायपूर्ण और न्यायसंगत समाज के निर्माण के लिए आवश्यक थे।

  • अम्बेडकर ने इस विचार को खारिज कर दिया कि राष्ट्रवाद सामाजिक न्याय के साथ असंगत था।

  • उन्होंने तर्क दिया कि राष्ट्र-राज्य की यह सुनिश्चित करने की ज़िम्मेदारी है कि सभी नागरिकों को समान अधिकार और अवसर मिले।

  • अम्बेडकर का मानना था कि राष्ट्रवाद समावेशी और बहुलवादी होना चाहिए। उन्होंने एकल अखंड भारतीय पहचान के विचार को खारिज कर दिया। इसके बजाय, उन्होंने तर्क दिया कि भारत संस्कृतियों और परंपराओं की समृद्ध विविधता वाला एक विविध देश है।

  • उनका मानना था कि, राष्ट्रवाद की जड़ें लोगों में होनी चाहिए, राज्य में नहीं। "राष्ट्रवाद कोई ऐसी चीज़ नहीं है जो ऊपर से थोपी जाती है। यह ऐसी चीज़ है जो नीचे से बढ़ती है।"

  • उनका मानना था कि राष्ट्रवाद में हाशिये पर मौजूद सभी समुदायों को शामिल किया जाना चाहिए। उन्होंने हिंदू-केंद्रित होने और दलितों और मुसलमानों की दुर्दशा की अनदेखी करने के लिए भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में राष्ट्रवाद की प्रमुख धारा की आलोचना की।

  • अंबेडकर का मानना था कि राष्ट्रवाद का इस्तेमाल केवल कुछ विशेषाधिकार प्राप्त लोगों के लिए नहीं, बल्कि सभी भारतीयों के अधिकारों के लिए लड़ने के लिए किया जा सकता है। उन्होंने तर्क दिया कि राष्ट्रवाद का उपयोग गरीबों और हाशिये पर पड़े लोगों के उत्थान के लिए और अधिक न्यायपूर्ण और न्यायसंगत समाज बनाने के लिए किया जाना चाहिए।

अम्बेडकर का राष्ट्रवाद का दृष्टिकोण तत्कालीन समय से भी बहुत आगे का था। उन्होंने माना कि जाति की समस्या वास्तव में एकजुट और लोकतांत्रिक भारत के निर्माण में एक बड़ी बाधा थी। उन्होंने यह भी समझा कि राष्ट्रवाद संकीर्ण धार्मिक या क्षेत्रीय पहचान पर आधारित नहीं हो सकता। इस तरह राष्ट्रवाद पर अम्बेडकर के विचार आज भी प्रासंगिक हैं। वे एक अधिक न्यायपूर्ण और न्यायसंगत समाज का निर्माण कैसे किया जाए, इसके बारे में सोचने के लिए एक अमूल्य रूपरेखा प्रदान करते हैं।

डॉ. बी. आर. अंबेडकर
[दलित हिस्ट्री मंथ विशेष] महात्मा ज्योतिराव फुले: जनकल्याणकारी कार्यों और वैज्ञानिक विचार मानवता का चिरकाल तक करते रहेंगे मार्गदर्शन
डॉ. बी. आर. अंबेडकर
दलित हिस्ट्री मंथ: महिला समानता व अधिकारों के पैरोकार थे बाबा साहब डॉ. अंबेडकर
डॉ. बी. आर. अंबेडकर
[दलित हिस्ट्री मंथ विशेष] लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार: जब सोते हुए 58 दलितों को गोलियों से भूनकर क्रूरता से की गई थी हत्या

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com