मणिपुर: छात्र-छात्रा की हत्या मामले में पांच दिन की सीबीआई कस्टडी में आरोपी

सांकेतिक
सांकेतिक

नई दिल्ली। भारत का पूर्वोत्तर राज्य इन दिनों दो समुदायों के बीच हिंसा की घटनाओं के चलते सुलग रहा है। जुलाई में दो छात्रों (एक छात्र और एक छात्रा थी) का शव मिलने के बाद राज्य में हिंसा फैल गई। अब इस मामले सीबीआई ने दोनों छात्रों की बेरहमी से हत्या करने के मामले में 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इस मामले में सीएम बीरेन सिंह ने ऐलान किया है कि उनकी सरकार दोषियों को कड़ी सजा दिलवाएगी। मुख्य आरोपित की पत्नी समेत चार आरोपितों को विशेष विमान से 'राज्य के बाहर' ले जाया गया है।

दो नाबालिग लड़कियों को किया गया रिहा

अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई ने इस सिलसिले में चुराचांदपुर जिले से दो पुरुषों और दो महिलाओं को गिरफ्तार किया। मुख्यमंत्री सचिवालय के अधिकारियों ने कहा कि इस मामले में 11 और नौ साल की दो नाबालिग लड़कियों को हिरासत में लिया गया था, लेकिन बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया। दोनों मुख्य आरोपित की बेटियां हैं।

गुवाहाटी लाए गए आरोपी

मीडिया रिपोर्ट में सीबीआई ने मुख्य आरोपी की पत्नी और एक अन्य महिला सहित चार लोगों को हिरासत में लिया है। चारों की पहचान पाओमिनलुन हाओकिप, एस मालसन हाओकिप, लिंगनेइचोंग बैतेकुकी और टिनेइलहिंग हेंथांग के रूप में की गई है। उन्हें गुवाहाटी ले जाया गया, जहां उन्हें अदालत में पेश किया जाएगा। सीबीआई ने एक बयान में कहा कि वयस्कों के साथ आए दोनों बच्चों को गुवाहाटी में जिला बाल संरक्षण अधिकारी को सौंप दिया गया।

मामला ऐसे बढ़ा

जब इम्फाल पश्चिम जिले की 17 वर्षीय लड़की हिजाम लिंथोइनगांबी और 20 वर्षीय युवक फिजाम हेमजीत सिंह के लापता होने के बाद दोनों छात्रों के शवों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर सामने आईं तो इम्फाल घाटी में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए। प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह के आवास पर भी धावा बोलने की कोशिश की। इससे राज्य में तनाव बढ़ गया। राज्य 3 मई ही सांप्रदायिक संघर्ष की चपेट में है, जिसमें 175 से अधिक लोग मारे गए और कई सौ घायल हो चुके हैं।

सांकेतिक
मणिपुर सीएम के पैतृक आवास पर क्यों हुआ हमला?

आखरी बार 6 जुलाई को नजर आए थे दोनों छात्र

दोनों छात्रों को आखिरी बार 6 जुलाई को इम्फाल के कीशमपट जंक्शन से एक साथ दोपहिया वाहन चलाते हुए देखा गया था, उसी दिन बिष्णुपुर जिले के नंबोल में सीसीटीवी फुटेज में उन्हें कैद किया गया था। लिंथोइनगांबी के मोबाइल फोन का पता आखिरी बार चुराचांदपुर जिले की सीमा से लगे बिष्णुपुर क्षेत्र क्वाथा में चला था। कॉल रिकॉर्ड ने संकेत दिया कि हेमंत के फोन का इस्तेमाल चुराचांदपुर में रहने वाले किसी व्यक्ति ने किया होगा।

इंटरनेट पर बैन जारी है

मुख्यमंत्री के बंगले की ओर मार्च करने का प्रयास कर रहे कम से कम 100 छात्र सुरक्षा बलों के साथ झड़प के बाद घायल हो गए। इनमें लड़कियां भी शामिल थीं। छात्रों के आंदोलन को देखते हुए राज्य सरकार ने राज्य के सभी स्कूलों को 29 सितंबर तक बंद कर दिया था और मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर अस्थायी रूप से फिर से प्रतिबंध लगा दिया था।

मुख्यमंत्री ने की शांति की अपील

मुख्यमंत्री बीरेन सिंह ने सुरक्षा दलों की त्वरित कार्रवाई की प्रशंसा की और दोषियों को कानून के तहत अनुकरणीय सजा सुनिश्चित करने के लिए अपनी सरकार की प्रतिबद्धता की पुष्टि की। उन्होंने इन गिरफ्तारियों को मामले में एक महत्वपूर्ण सफलता बताया। मुख्यमंत्री ने मणिपुर के लोगों से शांति बनाए रखने और कानून-व्यवस्था बनाए रखने की अपील करते हुए अधिकारियों को कार्रवाई करने और संकट के बीच हाल की त्रासदियों के लिए न्याय पाने की अनुमति देने की आवश्यकता पर जोर दिया।

सांकेतिक
बिहार में जाति आधारित जनगणना के आंकड़े जारी होना सकारात्मक विकास और सामाजिक न्याय की दिशा में एक बड़ा कदम!
सांकेतिक
दिल्ली: मंदिर में चढ़ाए गए प्रसाद को उठाने पर मुस्लिम की मॉब-लिंचिंग का क्या है पूरा मामला, पढ़िए ग्राउंड रिपोर्ट
सांकेतिक
मणिपुर में धरना प्रदर्शन कर रहे कई गंभीर रूप से घायल, छात्रों पर सख्ती का आरोप

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com