संसद से क्यों निष्कासित की गईं महुआ मोइत्रा?

सवाल यह नहीं बस्तियां किसने जलाई, सवाल यह है पागल के हाथों में माचिस किसने दी'- जैसे बयानों से रहीं चर्चा में।
महुआ मोइत्रा
महुआ मोइत्रा

नई दिल्ली। फायर ब्रांड तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा की कैश फॉर क्वेरी मामले में संसद सदस्यता चली गई है। इस मामले में महुआ मोइत्रा ने कहा है, "मेरे खिलाफ कोई सबूत नहीं है। मैंने अडानी का मुद्दा उठाया था और आगे भी उठाती रहूंगी। किसी भी उपहार की नकदी का कोई सबूत नहीं है।"

महुआ मोइत्रा ने कहा कि निष्कासन की सिफारिश पूरी तरह से इस आधार पर है कि मैंने अपना पोर्टल लॉगिन साझा किया है। इसको नियंत्रित करने के लिए कोई भी नियम नहीं है। एथिक्स कमेटी के पास निष्कासित करने का कोई अधिकार नहीं है। यह आपके (बीजेपी) अंत की शुरुआत है।

आगे मोइत्रा कहती हैं, "अगर मोदी सरकार ने सोचा है कि मुझे चुप कराकर अडानी मुद्दे को खत्म कर देंगे तो बता दूं कि आपने जो जल्दबाजी और उचित प्रक्रिया का दुरुपयोग किया है, वह दर्शाता है कि अडानी आपके लिए कितना महत्वपूर्ण है। आप एक महिला सांसद को किस हद तक परेशान करेंगे।"

सांसद जॉन ब्रिटास ने कहा कि मोदी सरकार को घेरने वाली महुआ मोइत्रा की सदस्यता रद्द कर दी गई है। यह सही नहीं है। महुआ मोइत्रा के समर्थन में तमाम विपक्षी सांसद संसद भवन के बाहर आ गए। इसमें कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी भी शामिल थीं। वहीं स्पीकर ओम बिरला ने कहा कि लोकसभा की कार्यवाही 11 दिसंबर की सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया है। जानकारी के मुताबिक महुआ मोइत्रा की लोकसभा सदस्यता रद्द करने की एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट को लोकसभा में स्वीकार कर लिया गया। जिसके बाद यह निर्णय लिया गया है।

महुआ मोइत्रा
मध्य प्रदेश: आदिवासी विधायक कमलेश्वर डोडियार की क्यों हो रही है चर्चा!
महुआ मोइत्रा
केरल: डॉक्टर सुसाइड मामले में दूल्हा पक्ष पर हत्या का मामला दर्ज करने की मांग
महुआ मोइत्रा
हरियाणा: 26 छात्राओं के सामूहिक शिकायत के बाद प्रिंसिपल गिरफ्तार, लगाए थे ये आरोप..

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com