उत्तर प्रदेश: क्या सुपरवाइजर और ठेकेदार से डांट खाने के बाद घर पहुंची महिलाकर्मी की हुई है मौत?

ऑन ड्यूटी महिला कर्मचारी की तबीयत बिगड़ी, इलाज के दौरान मौत, सुपरवाइजर और ठेकेदार पर प्रताड़ित करने का आरोप।
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा औद्योगिक सेक्टर साइट-5 स्थित गारमेंट्स कंपनी के सुपरवाइजर और ठेकेदार के डांटने के बाद महिला की मौत का मामला सामने आया है। महिलकर्मी राजमती (42) घर पहुंची तो उसकी तबीयत बिगड़ गई। उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया। साथी महिलाकर्मी की मौत की सूचना के बाद कर्मचारियों ने कंपनी परिसर में तोड़फोड़ शुरू कर दी और मृतका के परिवार के लिए मुआवजे की मांग की।

मूलरूप से मऊ के इकबालपुर निवासी राजमती, पति सुभाष और दो बच्चों के साथ ही कसाना में रहती थी और वह साइट-5 स्थित गारमेंट्स कंपनी राजलक्ष्मी में काम करती थीं। जहां रोजाना की तरह गत मंगलवार को ड्यूटी पर गई थीं। सहकर्मियों ने बताया कि उनको दिया गया काम अधूरा रह गया था। जिससे नाराज होकर ठेकेदार और सुपरवाइजर ने अभद्रता कर पंचिंग कार्ड छीन लिया था। उसे एक सप्ताह के लिए छुट्टी पर भेजने की बात कही, जिससे महिला को गहरा सदमा पहुंचा। ऐसे में तबीयत खराब होने पर राजमती को घर भेज दिया गया। जहां उसकी तबीयत और बिगड़ गई और रविवार रात को उसे कासना स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसके बाद गत बुधवार तड़के करीब 4 बजे उसने दम तोड़ दिया। डॉक्टरों ने हार्ट अटैक से महिला की जान जाने की बात कही है।

कंपनी में कर्मियों ने किया हंगामा

घटना की जानकारी मिलते ही सुबह करीब 10 बजे कर्मचारी कंपनी में हंगामा करने लगे। उन्होंने सुपरवाइजर और ठेकेदार पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए परिजनों को मुआवजा दिए जाने की मांग की। अधिकारियों से झड़प होने के बाद कर्मचारियों ने कंपनी में तोड़फोड़ कर दी। मौके पर मची अफरातफरी के बीच प्रदर्शन कर रहीं करीब 30 महिलाकर्मी बेहोश हो गईं। इनमें बबली, कमलेश, रजनी, प्रेम लता, प्रिया, नीतू, करिश्मा, रजनी, मोनिका, बीना, चांदनी, मीनू आदि समेत अन्य को अस्पतालों में भर्ती कराया गया। इनमें से चार आईसीयू में भर्ती हैं, जबकि अन्य को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई।

अधिक काम देकर किया जा रहा था परेशान

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार राजमती के देवर जितेंद्र कुमार का आरोप है कि सुपरवाइजर और ठेकेदार कई दिन से महिला को अधिक काम देकर परेशान कर रहे थे। दिया गया काम पूरा नहीं होने पर दोनों अभद्र व्यवहार करते थे। इससे राजमती तनाव में आ गई थीं। कुछ देर बाद ही बेचैनी बढ़ गई थी। तबीयत खराब होने पर निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

राजलक्ष्मी कॉटन मिल्स प्राइवेट लिमिटेड एचआर प्रमुख विशाल श्रीवास्तव ने कहा कि महिला कर्मचारी की मौत घर पर तबीयत खराब होने के कारण हुई है। कंपनी में जो कुछ भी हुआ, वह कुछ कर्मचारियों की अफवाह के कारण हुआ। हंगामे के दौरान भीड़ के कारण कुछ महिलाएं बेहोश हो गईं थीं। कुछ ही देर में सब सामान्य हो गया। महिला के परिजन की हर संभव मदद की जाएगी। इधर, अशोक कुमार, एडीसीपी ग्रेटर नोएडा ने कहा कि महिला की हार्टअटैक से मौत होने की जानकारी मिली है। परिजन शव को गांव लेकर चले गए हैं।

सांकेतिक तस्वीर
यूपी में पुलिस कार्रवाई से नाराज दलित युवक ने पेट्रोल डालकर खुद को आग लगाई, मचा हड़कंप
सांकेतिक तस्वीर
'सेव दी गर्ल चाइल्ड' की ब्रांड एम्बेसडर पर कई संगीन आरोप, जानिये देश की ये पहली आदिवासी मॉडल क्यों हैं सुर्ख़ियों में?
सांकेतिक तस्वीर
उत्तर प्रदेश: "एडिशनल एसपी ने मेरा रेप किया,मेरे पास सबूत हैं"- पीड़िता

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com