दिल्ली: डीटीसी बस चालक क्यों नहीं रोकते महिला सवारियों के लिए वाहन, पढ़ें कारण

सीएम केजरीवाल ने लिया एक्शन, बस चालक व कंडक्टर पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश
दिल्ली: डीटीसी बस चालक क्यों नहीं रोकते महिला सवारियों के लिए वाहन, पढ़ें कारण

दिल्ली सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था के हालात क्या हैं, इसे बताने की जरूरत नहीं है। चिंता की बात यह है कि जितनी सुविधा और क्षमता पब्लिक ट्रांसपोर्ट की है, ड्राइवरों और कंडक्टरों की लापरवाही की वजह से उसका भी कुशलतम इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है। डीटीसी ड्राइवरों के मनमाने रवैये की वजह से डीटीसी में सफर करने वाले लोगों को आये दिन परेशान होना पड़ता है, लेकिन अब डीटीसी ड्राइवर ऐसा नहीं कर पाएंगे। ऐसा इसलिए कि महिला यात्रियों की शिकायत दिल्ली सरकार तक पहुंचने के बाद सीएम अरविंद केजरीवाल हरकत में आ गए हैं। उन्होंने ट्विट कर कहा कि इस तरह की लापरवाही बर्दाश्त के काबिल नहीं है।

दिल्ली सरकार ने डीटीसी और क्लस्टर बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा की सुविधा दी है। लेकिन अक्सर शिकायतें मिलती हैं, कि बस स्टॉप पर महिला यात्रियों को देखकर ड्राइवर बस नहीं रोकते। गत गुरुवार को एक ऐसी ही घटना की तरफ दिल्ली सरकार का ध्यान आकर्षित किया। इस पर सरकार ने तुरंत एक्शन लेते हुए घंटे भर के अंदर बस के स्टाफ की पहचान की और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी की।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार तिलक ब्रिज के पास सिकंदरा रोड के बस स्टॉप पर हुई एक घटना का वीडियो सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर कर इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई गई थी। वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि रूट 623 की एक क्लस्टर बस के ड्राइवर ने जानबूझकर बस स्टॉप से कुछ दूर बस रोककर एक सवारी को उतारा, लेकिन जब बसटॉप पर खड़ी तीन महिलाएं बस में बैठने के लिए आने लगी, तो ड्राइवर ने बस नहीं रोकी और वहां से चलता बना। महिलाओं ने कुछ दूर बस का पीछा भी किया। लेकिन बस नहीं रोकी गई।

सोशल मीडिया से यह शिकायत दिल्ली सरकार तक पहुंची तो परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने क्लस्टर बसों का जिम्मा संभालने वाली कंपनी डिम्ट्स के अधिकारियों को तुरंत इस घटना की जांच करके, बस ड्राइवर की पहचान करने और उसके ड्राइवर बस कंडक्टर के खिलाफ एक्शन लेने का निर्देश दिया।

द मूकनायक ने मामले को लेकर डीटीसी की एक महिला ड्राइवर से बात की तो उन्होंने बताया कि अधिकांश पुरुष ड्राइवर महिलाओं को देखकर बस नहीं रोकते हैं, क्योंकि उनको लगता है कि इनका बैठना तो मुफ्त में है, तो यह इस बस में ना सही पीछे आने वाली बस में भी चढ़ जाएंगे। कहीं ना कहीं कंडक्टर और ड्राइवर में थोड़ी ईर्ष्या की भावना भी आ जाती है, कि महिलाओं की टिकट मुफ्त है।

आगे वह कहती है कि महिला ड्राइवर हूं। मैं हमेशा महिला और पुरुषों दोनों के लिए ही बस स्टैंड पर बस रोकती हूं, लेकिन पुरुष ड्राइवर ऐसा नहीं करते क्योंकि उनको हमेशा जल्दी होती है। जो समझ के बाहर है और वैसे दिल्ली सरकार इस पर पूरी तरह से नजर रखी हुई है।

सीएम केजरीवाल ने ट्वीट करके नाराजगी जताई

सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस घटना पर संज्ञान लेते हुए नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने भी घटना का वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट में लिखा, "ऐसी शिकायतें आ रही हैं कि कुछ ड्राइवर महिलाओं को देखकर बस नहीं रोकते क्योंकि महिलाओं का सफर फ्री है इसे बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस बस के ड्राइवर के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जा रहा है।"

दिल्ली: डीटीसी बस चालक क्यों नहीं रोकते महिला सवारियों के लिए वाहन, पढ़ें कारण
[मदर्स डे स्पेशल] लाचार माँ की खोज: दिल्ली में लापता हुई 18 साल की लड़की

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें व्हाट्सअप पर प्राप्त करने के लिए आप हमारे व्हाट्सअप ग्रुप से भी जुड़ सकते हैं। व्हाट्सअप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
logo
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com