उत्तर प्रदेश: प्रदेशभर में सभी बूचड़खाने, मांस की दुकानें बंद रखने के क्यों जारी हुए निर्देश?

यूपी: 25 नवंबर को सभी बूचड़खाने, मांस की दुकानें बंद रहेंगी
मांस की दुकान
मांस की दुकानफोटो साभार- Getty Images

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि 25 नवंबर को राज्य के सभी बूचड़खाने और मांस की दुकानें बंद रहेंगी. इसके पीछे की वजह साधु टी.एल. वासवानी का जन्मदिन बताया गया है. सरकार के मुताबिक 25 नवंबर को 'नो नॉनवेज डे' (no non-veg day) मनाया जाएगा.

सरकार का कहना है कि साधु टीएल वासवानी की जयंती के अवसर पर 25 नवंबर को 'नो नॉनवेज डे' मनाया जाएगा और इस दिन सभी बूचड़खाने और मांस की दुकानें बंद रहेंगी.

गौरतलब है कि साधु थानवरदास लीलाराम वासवानी का जन्म 25 नवंबर 1879 को हैदराबाद, सिंध में हुआ था। वह एक शिक्षाविद् और समाज सुधारक थे जिन्होंने शाकाहारी जीवन के सार्वभौमिक अभ्यास की पुरजोर वकालत की। उन्होंने साधु वासवानी मिशन की स्थापना की, जो उनके प्रेम, शांति और अहिंसा का संदेश फैलाता रहता है।

राज्य सरकार की ओर से जारी परिपत्र में कहा गया है कि जयंती, गांधी जयंती, साधु टीएल वासवानी और शिवरात्रि के महान त्योहारों पर राज्य के सभी शहरी स्थानीय निकायों में स्थित सभी बूचड़खानों और मांस की दुकानों को बंद रखने के निर्देश समय-समय पर जारी किए गए हैं।

इसी परिपत्र में कहा गया है कि साधु टीएल वासवानी के जन्मदिन 25 नवंबर को मांस-मुक्त दिवस मनाया जाएगा और राज्य के शहरी स्थानीय निकायों में स्थित सभी बूचड़खाने और मांस की दुकानें बंद रखी जाएंगी.

यूपी के बस्ती जिले में खुली रहीं मांस की दुकानें
यूपी के बस्ती जिले में खुली रहीं मांस की दुकानेंफोटो- द मूकनायक

हालाँकि, यूपी में मांस की दुकानों पर इस निर्देश का कोई खास असर नहीं दिखाई दिया. रोजाना की तरह मीट की दुकानों पर अच्छा-ख़ासा भीड़ दिखाई दिया.

जानकारी के मुताबिक, साधु वासवानी मिशन 25 नवंबर को वासवानी के जन्मदिन पर अंतर्राष्ट्रीय मांस रहित दिवस मनाता है, क्योंकि उन्होंने शाकाहारी जीवन की सार्वभौमिक प्रथा की जोरदार वकालत की थी।

मांस की दुकान
उत्तर प्रदेश: सरकारी क्रय केंद्रों पर उपज ले जाने से कतरा रहे किसान, भंडारण की भी चुनौती
मांस की दुकान
चर्चित “ईश्वर और बाज़ार” किताब की लेखिका जसिंता केरकेट्टा ने इंडिया टुडे ग्रुप के अवार्ड को लेने से किया इंकार
मांस की दुकान
उत्तर प्रदेश: योगी सरकार ने मदरसों से मुंह मोड़ा, एक भी मदरसे को नहीं मान्यता!

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com