उत्तर प्रदेश: बुनकरों की कोई सुनने वाला नहीं- Ground Report

द मूकनायक ने टांडा में करघा श्रमिकों (loom workers) के कामकाजी जीवन की गहराई से पड़ताल की, जिसमें आर्थिक असमानताओं, सब्सिडी नहीं मिलने से लेकर आधुनिक तकनीक को अपनाने की चुनौतियों जैसी असंख्य कठिनाइयों पर प्रकाश डाला गया।
बड़े व्यापारी छोटे करघा मालिकों को कच्चा माल उपलब्ध कराते हैं, जो बदले में उन्हें तैयार कपड़ा एक निश्चित दर पर उपलब्ध कराते हैं।
बड़े व्यापारी छोटे करघा मालिकों को कच्चा माल उपलब्ध कराते हैं, जो बदले में उन्हें तैयार कपड़ा एक निश्चित दर पर उपलब्ध कराते हैं।फोटो- प्रतीक्षित सिंह, द मूकनायक

अम्बेडकर नगर। जब आप टांडा की गलियों में प्रवेश करते हैं तो पावरलूम की चटक-खटक आपके कानों पर पड़ती है। इस कस्बे का लगभग हर दूसरा घर आजीविका के लिए इन मशीनीकृत करघों का उपयोग करता है। समय के साथ इस क्षेत्र में तेजी से प्रगति हुई है और यह पावरलूम के केंद्र के रूप में उभरा है, जिसने समय के साथ हथकरघा की जगह ले ली। टांडा टेररिकोट एक ऐसा कपड़ा है जो विश्व प्रसिद्ध है. अंबेडकर नगर जिले में बिजली करघों की संख्या में वृद्धि देखी गई है, जिससे शहर की वित्तीय स्थिति में सुधार हुआ है।

टांडा, अंबेडकर नगर जिले का शहर, उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से लगभग 200 किलोमीटर दूर स्थित है। नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड द्वारा संचालित एक पावर प्लांट इस जगह की एक पहचान बना हुआ है, लेकिन यह पावरलूम ही है जिस पर आंबेडकर नगर ज़िले की इस तहसील की अर्थव्यवस्था निर्भर करती है। ये करघे क्षेत्र के लोगों को स्वरोजगार प्रदान करते हैं और पूरे देश में लोगों द्वारा पहने जाने वाले कपड़े तैयार करते हैं। 2018 में, सरकार ने एक जिले से कम से कम एक उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए एक जिला एक उत्पाद योजना शुरू की। टांडा टेररिकोट, जिसमें गमछा, लुंगी आदि का उत्पादन शामिल है, इस योजना में अंबेडकर नगर का प्रतिनिधित्व करता है।

सब्सिडी ने उद्योग के विकास को बढ़ावा दिया

बुनकर परिवार से सम्बन्ध रखने वाले एक युवा तनवीर आलम अंसारी कहते हैं, “पहले, पावरलूम बहुत कम थे, और टांडा में हमारे पास ज्यादातर हैंडलूम थे, लेकिन 2006 में, समाजवादी पार्टी सरकार ने बुनकरों को सब्सिडी प्रदान की और 65 रुपये प्रति मशीन प्रति माह की दर से बिजली प्रदान की। यह सब्सिडी टांडा के लोगों के लिए वरदान साबित हुई, क्योंकि लोगों ने मशीनें खरीदीं और इससे क्षेत्र में समृद्धि आई।"

मोहम्मद राशिद का मानना है कि तेज महंगाई के दौर में 3 रुपये प्रति मीटर की श्रम दर बहुत कम है।
मोहम्मद राशिद का मानना है कि तेज महंगाई के दौर में 3 रुपये प्रति मीटर की श्रम दर बहुत कम है।फोटो- प्रतीक्षित सिंह, द मूकनायक

मजदूरों को लाभ नहीं मिलता लाभ

व्यापार से मिलने वाला लाभ सभी वर्गों तक समान रूप से नहीं पहुंच पाया है। करघों की संख्या में वृद्धि का एक पहलु यह भी है कि इस स्व- रोजगार में वर्ग विभाजन हुआ है। बड़े व्यापारी छोटे करघा मालिकों को कच्चा माल उपलब्ध कराते हैं, जो बदले में उन्हें तैयार कपड़ा एक निश्चित दर पर उपलब्ध कराते हैं। मोहम्मद राशिद, एक छोटे करघा संचालक है जो बड़े व्यापारियों से कच्चा माल खरीदते है और कपड़ा तैयार करते है। उन्हें 3 रुपये प्रति मीटर की दर से मजदूरी मिलती है. वह कहते हैं, "हर चीज़ का रेट बढ़ गया है. पंद्रह साल पहले सरसों का तेल 60 रुपये था, तब भी हमें 3 रुपये प्रति मीटर मिलता था. अब उसी खाद्य तेल की कीमत 160 रुपये है, और अब भी हमें प्रति मीटर 3 रुपये मिलते हैं।"

तनवीरुल ईमान का मानना है कि सब्सिडी ने टांडा के परिवर्तन में मदद की
तनवीरुल ईमान का मानना है कि सब्सिडी ने टांडा के परिवर्तन में मदद कीफोटो- प्रतीक्षित सिंह, द मूकनायक

तनवीर ईमान का कहना है कि 2020 में सरकार ने फ्लैट रेट खत्म कर दिया और मीटर व्यवस्था फिर से शुरू कर दी. पावरलूम श्रमिकों के सरकार तक पहुंचने के बाद, सरकार ने एक फ्लैट दर लागू करने का वादा किया, लेकिन फ्लैट दर बहुत अधिक थी - 60 इंच से नीचे की मशीनों के लिए 400 रुपये और 60 इंच से ऊपर की मशीनों के लिए 800 रुपये, जो पहले 140 रुपए था। सब्सिडी के लिए यह शर्त जोड़ी गई थी कि केवल 5 किलोवाट कनेक्शन या उससे काम की मशीन वाले संचालकों को ही सब्सिडी मिलेगी, जो बहुत अन्यायपूर्ण था। फिनिशिंग मशीनें, जो प्रयोग लायक उत्पाद तैयार करती हैं, 20 किलोवाट से अधिक पर चलती हैं। इसके परिणामस्वरूप लागत बढ़ जाती है, क्योंकि सरकार धागों पर सब्सिडी नहीं देती है, जो उसे देनी चाहिए।

अजीमुल अंसारी, जो प्रयोगलायक उत्पाद तैयार करते हैं और सरकार की इस नीति से भी दुखी हैं। उनके पास 15 किलोवाट की मशीन है और इसलिए वह सब्सिडी के लिए पात्र नहीं हैं, जो 5 किलोवाट मशीन वाले लोगों तक ही सीमित है। वह कहते हैं, "मेरी हालत बहुत दयनीय है. पहले हम 2800 रुपये देते थे और अब 1600 रुपये है. मुझे लगता है कि सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए और बिजली कनेक्शन की दरें नहीं बढ़ानी चाहिए."

नरीमुद्दीन जो अपने घर में पावरलूम भी चलाते हैं, कि मांग है कि घरेलू मीटर और वाणिज्यिक मीटर के बीच कोई अलगाव नहीं होना चाहिए।

महिलाओं की भूमिका

टांडा में महिलाएं करघा उद्योग की अर्थव्यवस्था में योगदान देती हैं, जिसका अधिकांश हिस्सा उनके घरेलू परिसर के अंदर स्थित है। उनमें से अधिकांश पिर्न वाइंडिंग मशीन पर काम करते हैं और पैकिंग में भी शामिल होते हैं। शाहनवाज बज़्मी कहते हैं, "करघा उद्योग में महिलाएं प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से प्री-प्रोडक्शन से पोस्ट-प्रोडक्शन चरण तक शामिल होती हैं, लेकिन उन्हें उनके श्रम का उचित मेहनताना नहीं मिलता है, क्योंकि महिला करघा श्रमिकों के लिए कोई योजनाएं नहीं हैं। मुझे लगता है कि जब महिला आरक्षण बिल पारित हो रहा है तो सरकार को महिला बुनकरों के लिए भी कुछ करना चाहिए।"

ऑनलाइन व्यापार तक पहुंच नहीं

जहां एक ओर, शहर में स्थित एनटीपीसी संयंत्र की वजह से सुचारू बिजली आपूर्ति के कारण हथकरघा बिजली करघे में बदल गया है, वहीं करघा उद्योग ने दुनिया तक पहुंचने के लिए खुद को ऑनलाइन कारोबार से अनुकूलित नहीं किया है। सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहने वाले बुनकर परिवार के युवा तनवीरुल ईमान कहते हैं, "यहां के लोग जीएसटी पंजीकरण के चक्कर में नहीं पड़ना चाहते, क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे उनके व्यवसाय में सरकार का हस्तक्षेप बढ़ सकता है। एक और कारण यह है कि हमारे उत्पाद का अंतिम उपभोक्ता समाज के सबसे निचले तबके से आने वाला व्यक्ति है।" चूंकि सभी उद्योगों के लोग ई-कॉमर्स क्रांति में समृद्ध भूमिका निभा रहे हैं, अब समय आ गया है कि टांडा 'टांडा टेराकोटा' को दुनिया भर में ले जाने के लिए इंटरनेट का उपयोग करें।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, पावरलूम देश में निर्मित लगभग 60% कपड़े का उत्पादन करता है।
सरकारी आंकड़ों के अनुसार, पावरलूम देश में निर्मित लगभग 60% कपड़े का उत्पादन करता है।फोटो- प्रतीक्षित सिंह, द मूकनायक

शिक्षा: अच्छे संस्थानों की कमी भी रोक रही टांडा का विकास

शहर में कुछ डिग्री कॉलेज हैं, लेकिन उसके अलावा कोई नामचीन शैक्षणिक संस्थान नहीं है और आजीविका का सबसे बड़ा साधन स्वरोजगार ही है। शाहनवाज़ बज़्मी, जो बज़्मी फाउंडेशन नाम से बुनकर कल्याण के लिए एक संस्था चलाते हैं, कहते हैं, "यहां के छात्र किसी तरह कक्षा 10 तक की शिक्षा प्राप्त कर लेते हैं, लेकिन इससे आगे, अगर वे इंजीनियरिंग या मेडिकल करना चाहते हैं तो उन्हें तो यहाँ पर वह मुश्किल लगता है क्योंकि यहां कोई अच्छे कोचिंग संस्थान भी नहीं हैं। यहां की महिलाएं स्नातक हैं, लेकिन फिर भी बेरोजगार हैं।" सरकार ने कुछ योजनाएं शुरू की होंगी, लेकिन यहां के लोग उनका लाभ नहीं उठा पा रहे हैं।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, पावरलूम देश में निर्मित लगभग 60% कपड़े का उत्पादन करता है। टांडा टेररिकोट समाज के सबसे निचले वर्ग की क्रय क्षमता के अनुकूल तैयार किया जाता है। उम्मीद है कि सरकार उद्योग से जुड़े लोगों की शिकायतों का समाधान करेगी और स्वरोजगार के इस स्रोत को बढ़ावा देने के लिए कदम उठाएगी।

बड़े व्यापारी छोटे करघा मालिकों को कच्चा माल उपलब्ध कराते हैं, जो बदले में उन्हें तैयार कपड़ा एक निश्चित दर पर उपलब्ध कराते हैं।
माई सोशल फिलॉसफी: राष्ट्रवाद पर डॉ. भीमराव आंबेडकर के क्या विचार थे?
बड़े व्यापारी छोटे करघा मालिकों को कच्चा माल उपलब्ध कराते हैं, जो बदले में उन्हें तैयार कपड़ा एक निश्चित दर पर उपलब्ध कराते हैं।
दिल्ली: मंदिर में चढ़ाए गए प्रसाद को उठाने पर मुस्लिम की मॉब-लिंचिंग का क्या है पूरा मामला, पढ़िए ग्राउंड रिपोर्ट
बड़े व्यापारी छोटे करघा मालिकों को कच्चा माल उपलब्ध कराते हैं, जो बदले में उन्हें तैयार कपड़ा एक निश्चित दर पर उपलब्ध कराते हैं।
बिहार में जाति आधारित जनगणना के आंकड़े जारी होना सकारात्मक विकास और सामाजिक न्याय की दिशा में एक बड़ा कदम!

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com