मणिपुर के पहाड़ी और घाटी जिलों में तलाशी अभियान, कुकी बाहुल्य क्षेत्रों में हथियार बरामदगी के पीछे का सच

चुराचांदपुर के निवासी एक युवक ने बताया कि हाल ही में बरामद हुआ मोर्टार मैन-मेड है, इसे स्थानीय लोगों ने बनाया होगा.
कुकी बाहुल्य क्षेत्र चुराचांदपुर जाने वाले रास्ते में सुरक्षाकर्मियों द्वारालगाया गया बैरिकेट
कुकी बाहुल्य क्षेत्र चुराचांदपुर जाने वाले रास्ते में सुरक्षाकर्मियों द्वारालगाया गया बैरिकेट फोटो- सत्य प्रकाश भारती, द मूकनायक

इम्फाल: मणिपुर में सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करने के लिए एक ठोस प्रयास में, सुरक्षा बलों ने क्षेत्र के संवेदनशील पहाड़ी और घाटी जिलों में व्यापक तलाशी अभियान चलाया है। इन सक्रिय उपायों के परिणामस्वरूप चुराचांदपुर जिले में एक लंबी दूरी के मोर्टार (पंपी) को एक जिंदा गोले के साथ बरामद किया गया।

अभियानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग 37 और 2 पर क्रमशः 319 और 184 वाहनों की सुरक्षित आवाजाही सुनिश्चित की, जिससे आवश्यक वस्तुओं के परिवहन में सुविधा हुई। सुरक्षा बनाए रखने के लिए, सख्त सुरक्षा प्रोटोकॉल लागू किए गए थे, जिसमें निर्बाध आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए संवेदनशील क्षेत्रों से वाहनों को एस्कॉर्ट करने वाले काफिले थे।

बरामद किया गया मोर्टार (पंपी)
बरामद किया गया मोर्टार (पंपी)

विभिन्न जिलों में कुल 125 नाके और चेकपॉइंट स्थापित किए गए, जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न उल्लंघनों के लिए 68 व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया। ये सख्त सुरक्षा उपाय मणिपुर में शांति और स्थिरता बनाए रखने की दिशा में एक पहल हैं।

राजधानी इम्फाल से लगभग 63 किमी दूर आदिवासी बाहुल्य पहाड़ी क्षेत्र में बसे चुराचांदपुर (Churachandpur) जिले के आईबी रोड जिला अस्पताल के पास YVA (Young Vaiphei Association) की ओर से एक पुराने ब्वॉयज हॉस्टल को रिलीफ कैम्प में तब्दील किया गया है। इस रिलीफ कैम्प के वालेंटियर जैरी द मूकनायक को बताते हैं कि, आर्मी फोर्स मणिपुर पुलिस के साथ मिलकर जगह-जगह पर तलाशी अभियान चलाते रहते हैं. यह तलाशी ओपरेशन ज्यादातर रात में या सुबह में चलाया जाता है. इस बीच वह विलेज वालेंटियर (आदिवासी इलाकों में गांव की रखवाली करने वाला हथियार बंद व्यक्ति) को पकड़ लेते हैं, और बताते हैं कि इनके पास से उन्हें आर्म्स मिला है. 

हाल ही में बरामद हुए मोर्टार के बारे में जैरी ने बताया कि यह मैन-मेड है, इसे स्थानीय लोगों ने बनाया होगा. क्योंकि अत्याधुनिक हथियार खरीदने के लिए इन पहाड़ी के लोगों के पास कोई फंड नहीं होता है. इसलिए स्थानीय मैकेनिक इसे खुद बनाते हैं, जिसका उद्देश्य अपनी और अपने समुदाय के लोगों की रक्षा करना होता है.

जैरी अपने लाइसेंसी बन्दूक को दिखाते हुए
जैरी अपने लाइसेंसी बन्दूक को दिखाते हुएफोटो- राजन चौधरी, द मूकनायक

पिछले साल अगस्त में द मूकनायक की ग्राउंड रिपोर्ट में जैरी ने हमें दिखाया था कि उनके पास खुद की एक बन्दूक थी जिसका लाइसेंस भी था. जैरी ने बताया कि, “हम लोग विलेज वालेंटियर के तौर पर आर्म्स रखते हैं, क्योंकि हम पहाड़ी क्षेत्र में रहते हैं इसलिए जानवरों के हमले से अपनी सुरक्षा के लिए रखना पड़ता है. इसका लाइसेंस भी हमारे पास होता है. जब से हिंसा शुरू हुई है तब से हमारे कई लाइसेंसी आर्म्स को पुलिस ने जब्त कर लिया है, वह अभी तक हमें लौटाए नहीं गए.” 

मणिपुर में विलेज वालेंटियर का ओहदा किसी एक आर्मी पर्सन से कम नहीं होता है. वह अक्सर बार्डर लाइन एरिया में आर्मी फोर्स के साथ अपने हथियारों या सिंगल बैरर के साथ बैठता है. वह यह सुनिश्चित करता है कि उसका क्षेत्र उसकी निगरानी में किसी भी हमले से सुरक्षित है.

उसने बताया कि, “लेकिन हमारे क्षेत्रों में कई सारे मिलिटेंट ग्रुप भी हैं जिनके पास हथियार हैं. पूरे मणिपुर में 40 से अधिक ऐसे ग्रुप्स हैं. एक ग्रुप में लगभग 50 से 100 के आसपास की संख्या होती है. हालांकि, इन समूहों, कुकी-जो समुदाय के लोगों और केंद्र सरकार के बीच लगभग 7 साल पहले, 2015 में एक शांति समझौता हुआ था, जिसके कारण अब वह केंद्र सरकार के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाते. इन समूहों का पूरा ब्यौरा केंद्र सरकार के पास मौजूद है.” 

कुकी क्षेत्रों में मौजूद मिलिटेंट समूहों का केंद्र सरकार के साथ शांति समझौता होने के बाद हमारे प्रोटेक्शन के लिए कोई नहीं है. इसलिए हमें विलेज वालेंटियर तैयार करना पड़ रहा है.
जैरी, रिलीफ कैम्प वालेंटियर

“कई बार इस आपरेशन में हमारे विलेज वालेंटियर के लोगों के हथियार भी जब्त किये गए हैं, जिन्हें मीडिया में प्रोपेगेंडा की तरह इस्तेमाल किया गया है. मीडिया में बताया जाता है कि यह कुकी लोगों के पास से मिला है. लेकिन इसके आगे का सच नहीं बताया जाता है”, जैरी ने बताया.

जैरी का आरोप है कि, “जबकि, मैतेई क्षेत्रों में आरमबाई टेंगोल, मैतेई लिपुन पूरे आटोमैटिक हथियारों से लैस होकर पब्लिक के बीच जाते हैं. इनके पास जो हथियार हैं वह कंपनी-मेड हैं. इसमें एके47 और मशीनगन सहित कई अत्याधुनिक हथियार शामिल हैं. कोई भी इनके सोशल मीडिया एकाउंट्स में यह चीजें देख सकता है.”

कुकी बाहुल्य क्षेत्र चुराचांदपुर जाने वाले रास्ते में सुरक्षाकर्मियों द्वारालगाया गया बैरिकेट
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: दवाई, पेट्रोल, खाद्य सामग्री की कमी से जूझ रहा ट्राइबल बाहुल्य चुराचांदपुर, सप्लाई चेन ब्रेक
कुकी बाहुल्य क्षेत्र चुराचांदपुर जाने वाले रास्ते में सुरक्षाकर्मियों द्वारालगाया गया बैरिकेट
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: रिलीफ कैम्प में गंभीर बीमारियों से जूझ रहीं ये कुकी महिलाएं, तीन लाख आबादी के बीच एक सरकारी अस्पताल
कुकी बाहुल्य क्षेत्र चुराचांदपुर जाने वाले रास्ते में सुरक्षाकर्मियों द्वारालगाया गया बैरिकेट
मणिपुर हिंसा ग्राउंड रिपोर्ट: रिलीफ कैंपों के कम स्पेस में करवटों में दिन गुजारती गर्भवती महिलाएं, नवजातों की जिंदगियां दांव पर

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com