राजस्थान: आखिर कार्तिक भील के परिवार को किसके इशारे पर किया जा रहा प्रताड़ित?

सीएम सलाहकार पर लग रहे आरोपों की पड़ताल करती रिपोर्ट.
कार्तिक भील का परिवार जिस जगह पर 6 महीने से धरना देकर बैठा है। वहां बीते दिनों रोड लाइटों को बंद करवा दिया गया। मासूम बच्चों को धूप से बचाने के लिए धरना स्थल पर लकड़ियों के सहारे लगाए कपड़े को हटाने का दबाव बनाया गया।
कार्तिक भील का परिवार जिस जगह पर 6 महीने से धरना देकर बैठा है। वहां बीते दिनों रोड लाइटों को बंद करवा दिया गया। मासूम बच्चों को धूप से बचाने के लिए धरना स्थल पर लकड़ियों के सहारे लगाए कपड़े को हटाने का दबाव बनाया गया।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आमजन को राहत देने की बात कर रहे हैं, लेकिन पीड़ित आदिवासी, दलित, मुस्लिम और पिछड़ों को न्याय में राहत नहीं मिल रही है। सिरोही के कांतिलाल उर्फ कार्तिक भील हत्या से जुड़ा मामला हो या फिर भरतपुर के घटमिका का नासिर-जुनैद हत्याकांड। दोनों मामलों में पीड़ित परिवार लम्बे समय से न्याय व आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। अभी तक मांग तो पूरी नहीं हुई, लेकिन प्रशासन द्वारा न्याय मांग रहे परिवारों को प्रताड़ित करने की खबरें लगातार आ रही हैं।

कांतिलाल उर्फ कार्तिक भील की हत्या के मुख्य आरोपियों की गिरफ्तारी करने सहित अन्य मांगों के साथ परिवार के लोग सिरोही जिला मुख्यालय पर 6 महीने से अधिक समय से धरना देकर बैठे हैं। कार्तिक के परिवार को अब प्रशासन प्रताड़ित करने लगा है। कार्तिक के मासूम बच्चे, पत्नी और परिवार न्याय मांग रहा है, लेकिन न्याय की जगह उन्हें प्रताड़ना मिल रही है।

कार्तिक भील का परिवार जिस जगह पर 6 महीने से धरना देकर बैठा है। वहां बीते दिनों रोड लाइटों को बंद करवा दिया गया। परिवार ने रोड लाइट बन्द करने की शिकायत की तो, प्रताड़ना का दायरा और बढ़ा दिया गया।

कार्तिक भील का परिवार जिस जगह पर 6 महीने से धरना देकर बैठा है। वहां बीते दिनों रोड लाइटों को बंद करवा दिया गया। मासूम बच्चों को धूप से बचाने के लिए धरना स्थल पर लकड़ियों के सहारे लगाए कपड़े को हटाने का दबाव बनाया गया।
कार्तिक भील मामला: सरकार ने काटी बिजली, धरना स्थल पर अंधेरे में बैठने को मजबूर हुआ परिवार

कथित तौर पर जिला कलक्टर के निर्देश पर गत सोमवार दोपहर बाद तहसीलदार पुलिस कर्मियों के साथ कार्तिक के परिवार के पास धरना स्थल पर पहुंच गए।

कार्तिक के भाई प्रवीण ने बताया मासूम बच्चों को धूप से बचाने के लिए धरना स्थल पर लकड़ियों के सहारे लगाए कपड़े को हटाने का दबाव बनाया गया।

कार्तिक के पिता और परिवार ने हाथ जोड़ कर मिन्नत की। उन्होंने कहा यह कपड़ा केवल बच्चों को धूप से बचाने के लिए लगाया गया है, लेकिन अधिकारियों ने एक नहीं सुनी।

कार्तिक के भाई ने 6 महीने से इसी स्थान पर बैठ कर धरना देने की बात कही। इस पर तहसीलदार ने धरना देने की लिखित परमिशन मांग ली। इस पर परिवार के लोगों ने कहा कि वह तो न्याय के लिए जयपुर जा रहे थे। पुलिस और प्रशासन के लोगों ने ही दिसम्बर 2022 में उन्हें यहां लाकर बैठाया है। तब से निरन्तर इसी स्थान पर हैं।

कार्तिक के भाई ने धरना स्थल पर पहुंचे अधिकारी से पूछा की आखिर हमें प्रताड़ित करने के लिए कौन दबाव दे रहा है? इस सवाल पर मौके पर मौजूद अधिकारी चुप्पी साध गए।

मुख्यमंत्री के सलाहकार पर आरोप

कार्तिक भील के भाई प्रवीण ने आरोप लगाया कि उन्हें मुख्यमंत्री के सलाहकार एवं क्षेत्रीय विधायक संयम लोढ़ा के इशारे पर प्रताड़ित किया जा रहा है। हमारे शिवगंज वाले प्लॉट के लिए ही कार्तिक की हत्या करवाई गई है। अब विधायक के इशारे पर पुलिस कार्तिक के हत्यारों को बचा रही है। उन्हें भी अब इसी नेता के इशारे पर प्रताड़ित किया जा रहा है।

कार्तिक भील का परिवार जिस जगह पर 6 महीने से धरना देकर बैठा है। वहां बीते दिनों रोड लाइटों को बंद करवा दिया गया। मासूम बच्चों को धूप से बचाने के लिए धरना स्थल पर लकड़ियों के सहारे लगाए कपड़े को हटाने का दबाव बनाया गया।
कार्तिक भील हत्याकांड: मासूम बच्चे अपने दादा-दादी के साथ चार माह से लगा रहे हैं न्याय की गुहार

प्रवीण ने बताया कि कार्तिक मौत से पहले बनाएँ वीडियो में सब कुछ बता कर गया है। किस तरह कुछ पूंजी पति लोग उनके शिवगंज वाले मकान को हड़पना चाह रहे हैं। उन्होंने कहा, "घर को बचाने के लिए संघर्ष करते हुए समाज की आवाज उठाने के कारण कार्तिक पूंजीपतियों की आंख की किरकिरी बन गया था।"

आम आदमी की आवाज संघ के राष्ट्रीय महासचिव भंवर सिंह आदिवासी ने कहा कि कार्तिक भील के परिवार ने सीएम सलाहकार पर यह गम्भीर आरोप लगाए हैं। ऐसे में सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि इन आरोपों पर अपना जवाब सार्वजनिक रूप से दें। साथ ही पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए कड़े कदम उठाएं।

इधर भी प्रताड़ित है परिवार

घाटमिका के नासिर-जुनैद हत्याकांड में मुख्य आरोपी रहे कथित गौरक्षक मोनू मानेसर सहित सभी आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर टावर पर चढ़ने पर हाफिज जाबिर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तारी का विरोध करने व पथराव का आरोप लगाते हुए पुलिस ने जाबिर सहित परिवार के लोगों पर संगीन धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कर ली। यह बात अलग है कि जाबिर ने गिरफ्तारी से पूर्व एक वीडियो जारी कर एक क्षेत्रीय महिला मंत्री व उसके पति पर नासिर और जुनैद के हत्यारोपियों को बचाने के लिए उसे व मृतकों के परिवार को प्रताड़ित करने के आरोप भी लगाए थे। हाफिज जाबिर घटना के बाद से आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर आंदोलित है।

कार्तिक भील के परिवार को न्याय नहीं मिलने और प्रताड़ना के कारणों को जानने के लिए द मूकनायक संवाददाता अब्दुल माहिर ने सिरोही जिला कलक्टर से दूरभाष से सम्पर्क कर बात करना चाहा, लेकिन उनसे बात नहीं हो सकी।

कार्तिक भील का परिवार जिस जगह पर 6 महीने से धरना देकर बैठा है। वहां बीते दिनों रोड लाइटों को बंद करवा दिया गया। मासूम बच्चों को धूप से बचाने के लिए धरना स्थल पर लकड़ियों के सहारे लगाए कपड़े को हटाने का दबाव बनाया गया।
राजस्थान: प्रिंसिपल कर रहा था छात्राओं से दुष्कर्म, सामने आया ये घिनौना सच...

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com