चुराचांदपुर में कमिश्नरेट के सामने मौजूद कुकी आदिवासी समुदाय के लोग।
चुराचांदपुर में कमिश्नरेट के सामने मौजूद कुकी आदिवासी समुदाय के लोग। फोटो- राजन चौधरी, द मूकनायक

मणिपुर: लोकसभा चुनाव में कुकी-जो आदिवासी समुदाय ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारने का फैसला क्यों किया?

पिछले साल मई से अब तक भारत का पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर जातीय हिंसा की चपेट में है। यहां के दो प्रमुख समुदायों - मैतेई और कुकी समुदाय के बीच संघर्ष में अबतक लगभग 200 से अधिक लोग मारे गए हैं। लोकसभा चुनाव को लेकर कुकी समुदाय निराश और दुखी है।

मणिपुर। पिछले साल (2023) मई में शुरू हुई कुकी और मैतेई समुदायों के बीच जातीय हिंसा के लगभग 10 महीने बाद भी अभी तक राज्य में शांति नहीं लौट पाई है। देश में भारतीय चुनाव आयोग द्वारा लोकसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा भी हो चुकी है। इन सबके बीच अब राज्य का दूसरा प्रमुख आदिवासी समुदाय कुकी-जो आगामी लोकसभा चुनाव में अपना प्रतिनिधि नहीं उतारने की बात कर रहा है। 

अधिकांश पहाड़ी क्षेत्रों में बसे कुकी-ज़ो समुदायों का प्रतिनिधित्व करने वाले संगठनों ने सोमवार को जानकारी दी कि वह लोकसभा क्षेत्र में अपने उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। 

आपको बता दें कि राज्य में घाटी क्षेत्रों में बसे मैतेई समुदायों की संख्या सबसे अधिक है, इसके बाद कुकी, नागा और मुस्लिम समुदाय के लोगों की बसाहट है। मैतेई बाहुल्य क्षेत्र घाटी है, जबकि कुकी बाहुल्य क्षेत्र पहाड़ी के हिस्से हैं। हिंसा शुरू होने के बाद यह दोनों हिस्से अलग-थलग पड़े हैं। दोनों समुदायों को जोड़ने वाले रास्तों और जगहों पर अभी तक भारी सुरक्षाबल तैनात किए गए हैं। इन सबके बावजूद राज्य में छिटपुट हिंसा की घटनाएं सामने आती रही हैं। 

कुकी बाहुल्य क्षेत्र चुराचांदपुर की निवासी मैरी हमर द मूकनायक को बताती हैं कि “राज्य सरकार पूरे कुकी-ज़ो समुदाय और उसके इतिहास को खत्म करने की कोशिश कर रही है। यह स्पष्ट है कि चाहे हमारा कोई प्रतिनिधि हो या न हो, अगर वह मणिपुर सरकार के अधीन है, तो कुकी-जो समुदाय के लिए इसका कोई फायदा नहीं है।”

चुराचांदपुर स्थित कुकी समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाले संगठन, इंडिजिनस ट्राइबल लीडर्स फोरम (आईटीएलएफ) के सदस्य गिन्ज़ा वुआलज़ोंग ने बताया कि, “संघर्ष के कारण हमारे मुद्दे अभी तक हल नहीं हुए हैं।”

ज्ञात हो कि मणिपुर में कुल 2 लोकसभा सीटें हैं। 2014 के आम चुनाव में बीजेपी ने 1 सीट और एनपीएफ (naga people's front) ने 1 सीट जीती थी. आंतरिक मणिपुर सीट से बीजेपी उम्मीदवार डॉ. राजकुमार रंजन सिंह और बाहरी मणिपुर लोकसभा क्षेत्र से लोरहो एस. पफोज़े ने जीत हासिल किए थे। 

कुकी क्षेत्र के निवासी सोंग्थिन सांग ने द मूकनायक से कहा कि, “हां.. यह सच है कि कुकी-ज़ो समुदाय से कोई उम्मीदवार नहीं है। हम सभी सदमे में हैं और ठीक से भी काम नहीं कर पा रहे है। मुझे विश्वास नहीं है कि अगर हम चुनाव लड़ेंगे तो हम जीतेंगे। अगर दूसरे चुने जाएंगे तो वे हमारी बात नहीं सुनेंगे। हमारी बात सुनने के लिए केंद्र सरकार के हस्तक्षेप की जरूरत है।”

चुराचांदपुर में कमिश्नरेट के सामने मौजूद कुकी आदिवासी समुदाय के लोग।
‘90 प्रतिशत जनता को इलेक्टोरल बॉन्ड की सच्चाई पता ही नहीं, मतदाता जान गए तो 400 पार की जगह 40 भी पार नहीं होंगे’
चुराचांदपुर में कमिश्नरेट के सामने मौजूद कुकी आदिवासी समुदाय के लोग।
यूपी: बसपा 7 सीटों पर मुस्लिम प्रत्याशी उतारकर बिगाड़ना चाहती है इंडिया गठबंधन का खेल?
चुराचांदपुर में कमिश्नरेट के सामने मौजूद कुकी आदिवासी समुदाय के लोग।
क्या गिरफ्तारी के बावजूद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल चला सकते हैं सरकार?

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com