एनसीआरटी द्वारा ट्रांसजेंडर छात्रों के लिए तैयार की गई क्या है नई गाइड लाइन!

एनसीआरटी द्वारा ट्रांसजेंडर छात्रों के लिए तैयार की गई क्या है नई गाइड लाइन!

नई दिल्ली। राष्ट्रीय शिक्षा अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीआरटी) ने ट्रांसजेंडर बच्चों की बेहतरी के लिए ताजा दिशा निर्देश तैयार किए हैं, जिसमें लिंग निरपेक्षता पर खास जोर दिया गया है। नए मसौदे में जातीय भेदभाव से बचने के साथ-साथ अभद्र भाषा का प्रयोग करने पर सख्त कार्रवाई के निर्देश हैं। सुझाव में यह भी है कि स्कूल में लड़कियों, लड़के जैसे संबोधन से बचते हुए छात्र और बच्चों से लिंग समावेशी भाषा का उपयोग किया जाना चाहिए।

ट्रांसजेंडर स्टूडेंट्स को मिले फेलोशिप

एनसीईआरटी के लैंगिक अध्ययन विभाग की प्रमुख ज्योत्सना तिवारी द्वारा तैयार की गई नई 16-सदस्यीय समिति इंटीग्रेटिंग ट्रांसजेंडर कंसर्न्स इन स्कूलिंग प्रोसेसेस शीर्षक में, मसौदा के अनुसार लिंग निरपेक्ष पोशाक व्यवस्था लागू करने का भी सुझाव दिया है। साथ ही ट्रांसजेंडरों की प्रतिनिधित्व को ध्यान में रखते हुए यह भी कहा गया है कि विभिन्न अकादमिक और गैर अकादमिक और अन्य पदों पर लैगिंक भेदभाव के बिना ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों की नियुक्ति होनी चाहिए। इतना ही नहीं सभी पाठ्यक्रमों के प्रमाणपत्रों में ट्रांसजेंडर श्रेणी को शामिल किया जाए, उनके लिए फेलोशिप का प्रबंधन करने के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य का भी ध्यान रखा जाएगा।

एनसीआरटी द्वारा ट्रांसजेंडर छात्रों के लिए तैयार की गई क्या है नई गाइड लाइन!
जानिए कौन हैं नकाब में swiggy का बैग कंधों पर लिए पैदल चलने वाली महिला!

ट्रांसजेंडर छात्रों की कॉउंसलिंग की जाएगी

स्कूलों में ट्रांसजेडर छात्रों के साथ होते भेदभाव को देखते हुए ट्रांसजेंडर छात्रों की कॉउसलिंग के लिए प्रशिक्षित लोग भी रखें जाएंगे। मसौदे में यह भी कहा गया है कि छात्रों को स्थानीय और राष्ट्रीय आपात हेल्पलाइन नंबर की जानकारी हो।

एनसीआरटी द्वारा ट्रांसजेंडर छात्रों के लिए तैयार की गई क्या है नई गाइड लाइन!
उत्तर प्रदेश: मऊ में दलित महिला पर भूत का साया बताकर मौलवी करता रहा रेप, गाजियाबाद में बीकॉम की छात्रा से गैंगरेप

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com