एससी-एसटी, अल्पसंख्यक और दिव्यांग छात्रों की छात्रवृत्ति में 75 करोड़ रुपए का घोटाला, ईडी की कार्रवाई में सामने आए ये तथ्य..

अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति, अल्पसंख्यकों सहित विकलांग छात्रों की छात्रवृत्ति में 75 करोड़ का घोटाला, ईडी ने 22 जगह पर की छापेमारी
एससी-एसटी, अल्पसंख्यक और दिव्यांग छात्रों की छात्रवृत्ति में 75 करोड़ रुपए का घोटाला, ईडी की कार्रवाई में सामने आए ये तथ्य..

उत्तर प्रदेश। यूपी में अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी) और अल्पसंख्यक छात्रों सहित विकलांग छात्रों की छात्रवृत्ति में धांधली का बड़ा मामला तब सामने आया जब ईडी ने छात्रवृत्ति से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग से केस में छह जिलों में 22 स्थानों पर छापेमारी की। यह कार्रवाई प्राइवेट शैक्षणिक संस्थानों से जुड़ी है। इन शैक्षणिक संस्थानों पर अल्पसंख्यक, दलित और आदिवासी समुदायों के छात्रों के लिए मैट्रिक के बाद की सरकारी छात्रवृत्ति में घोटाला के आरोप हैं। ईडी की ओर से आए एक बयान में कहा गया कि, जांच के बाद सामने आया है कि इन संस्थानों द्वारा 75 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति को हड़प लिया गया है।

जानिये क्या है पूरा मामला?

प्रवर्तन निदेशालय के अनुसार प्राईवेट शिक्षण संस्थानों ने ज्यादा से ज्यादा छात्रवृत्ति का फायदा उठाने के लिए 7 से 12 वर्ष की उम्र के बच्चों और 45 वर्ष और उससे अधिक आयु वर्ग के व्यक्तियों के बैंक खातों का उपयोग किया गया है। अब तक की गई जांच से पता चला है कि इन संस्थानों ने अलग-अलग व्यक्तियों के दस्तावेजों का उपयोग करके लगभग 3,000 ऐसे फर्जी खाते खोले हैं। ईडी ने एक बयान में कहा कि ज्यादातर खाते आम ग्रामीणों के नाम पर हैं, जिन्हें इन बैंक खातों के बारे में पता भी नहीं है और उन्हें कभी भी कोई छात्रवृत्ति नहीं मिली है।

एससी-एसटी, अल्पसंख्यक और दिव्यांग छात्रों की छात्रवृत्ति में 75 करोड़ रुपए का घोटाला, ईडी की कार्रवाई में सामने आए ये तथ्य..
दलित उत्पीड़न: होटल में कुर्सी पर बैठने पर युवक और बोतल से पानी पीने पर छात्र को पीटा

एजेंटों की मिलीभगत से हुआ सारा खेल

ईडी की छापेमारी में रवि प्रकाश गुप्ता नाम के एक शख्स और उसके कुछ साथियों का नाम सामने आ रहा है। यह घोटाला फिनो पेमेंट बैंक के कई एजेंटों की सहायता से किया गया था। इसमें साहिल अजीज, अमित कुमार मौर्य, तनवीर अहमद और जितेंद्र सिंह नाम के लोग शामिल हैं।

मुंबई में खोले गए बैंक खाते

ईडी ने जानकारी दी है कि घोटाला FINO पेमेंट बैंक के प्लेटफॉर्म पर खाता खोलने के लिए अपनाई गई आसान प्रक्रिया का दुरुपयोग करके किया गया था। अपराधियों ने फिनो की लखनऊ और मुंबई शाखाओं में सभी बैंक खाते खोले थे। यह सभी फर्जी खाते थे। नियमों के मुताबिक स्कॉलरशिप का पूरा पैसा छात्रों के खातों में ही आना चाहिए। लेकिन इन संस्थानों ने फर्जी तरीके अपनाकर पूरा पैसा हड़प लिया। जांच के दौरान ईडी ने कई फर्जी सिम सीज कर लिया है।

एससी-एसटी, अल्पसंख्यक और दिव्यांग छात्रों की छात्रवृत्ति में 75 करोड़ रुपए का घोटाला, ईडी की कार्रवाई में सामने आए ये तथ्य..
मध्यप्रदेश: दलित छात्रों को मिड-डे मील में फेंक कर दी जाती थीं रोटियां, बीआरसी की ओर से हुई ये कार्रवाई..

एससी-एसटी सहित विकलांगों की छात्रवृत्ति में हुआ घोटाला

ईडी के मुताबिक अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और शारीरिक रूप से विकलांग छात्रों की शिक्षा की सुविधा के लिए केंद्र और राज्य सरकारें अलग-अलग स्कॉलरशिप जारी करती हैं। इसके अलावा कुछ स्कॉलरशिप अल्पसंख्यक छात्रों और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों (ईडब्ल्यूएस) के छात्रों के लिए होती हैं, जिसमें धांधली सामने आई है।

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com