तमिलनाडु: दलितों का प्रवेश रोकने का सप्ताह भर में दूसरा मामला, मंदिर सील

तमिलनाडु: दलितों का प्रवेश रोकने का सप्ताह भर में दूसरा मामला, मंदिर सील

तमिलनाडु। राज्य में सप्ताह के भीतर प्रवेश को लेकर एक और मंदिर सील कर दिया गया। पहले विल्लपुरम के मेलापथी गांव में दलितों के प्रवेश को लेकर हुए विवाद के बाद द्रौपदी अम्मन का मंदिर सील किया गया था। अब कुलीथलाई के पास वीरानमपट्टी में कालियाम्मन मंदिर को सील कर दिया गया।

जनिये क्या है पूरा मामला?

तमिलनाडु के करुर के कदावुर संघ के वीरानापट्टी में कुलीथलाई प्रसिद्ध कालियाम्मन मंदिर स्थित है। वर्तमान में, इस कालियाम्मन मंदिर में एक उत्सव चल रहा है। यह त्योहार मंदिर के आसपास के आठ गांवों के लोगों द्वारा मनाया जाता है, जहां पटियालीना समुदाय के 80 परिवार स्थानीय वीरानमपट्टी में रहते हैं जहां मंदिर स्थित है। गांव में रहने वाले समुदाय विशेष के 200 परिवार बहुसंख्यक हैं। सूचीबद्ध लोगों की ओर से लगातार जातिगत समस्याएं हैं। दलित जाति के लोगों की ओर से लगातार आरोप लगाया जा रहा था कि उन्हें मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा है।

6 जून को एक दलित युवक ने मंदिर में प्रवेश किया था। जिसके बाद उसे उच्च जाति के समुदाय के सदस्यों ने कमीज पकड़कर और 'मंदिर में प्रवेश नहीं करने' की बात कहकर धक्का दे दिया। उसी दिन कुछ समय बीतने के बाद दलित व्यक्ति ने मंदिर में झुककर पानी मांगा लेकिन उसे पानी देने से मना कर दिया गया। इस घटना के बाद दोनों गुटों के बीच हुई अनबन के चलते कदावुर जिलाधिकारी मुनिराज के नेतृत्व में अधिकारी उस गांव में पहुंचे। अधिकारियों ने चेतावनी दी कि अनुसूचित जाति के प्रवेश को रोकने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ एससी/एसटी अधिनियम के तहत मामले दर्ज किए जाएंगे और सरकारी भूमि पर बने मंदिर को सरकार अपने कब्जे में ले लेगी। इसके बाद दोनों पक्षों में बात न बन पाने के कारण पूजा स्थगित कर दी गई। इस दौरान मौके पर पुलिस बल तैनात कर दिया गया। मामला ठंडा हो गया।

तमिलनाडु: दलितों का प्रवेश रोकने का सप्ताह भर में दूसरा मामला, मंदिर सील
तमिलनाडु: दलित के प्रवेश पर विरोध के बाद सील हुआ मंदिर, जानिए पूरा मामला..

8 जून को जब दोबारा पूजा शुरू हुई तो सवर्ण हिंदुओं ने एक बार फिर अनुसूचित जाति को मंदिर में प्रवेश करने से रोक दिया। दोनों समुदायों के लोगों ने परिसर के सामने विरोध प्रदर्शन किया। इसको लेकर अनुसूचित जाति के लोगों ने सड़क जाम कर विरोध प्रदर्शन किया। सूचना पाकर आरडीओ पुष्पा देवी के नेतृत्व में राजस्व विभाग के अधिकारियों ने कुलीथलाई के पास वीरानमपट्टी में कालियाम्मन मंदिर पहुंच गई। उन्होंने दोनों गुटों से बातचीत की। जब सवर्ण हिंदुओं ने उनके निर्देश को मानने से इनकार कर दिया, तो आरडीओ ने मंदिर को सील कर दिया। कानून व्यवस्था को लेकर मंदिर में पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया है।

सप्ताह भर पहले दूसरे जिले में मंदिर किया जा चुका सील

तमिलनाडु में मदुरई के विल्लपुरम में मेलपाथी गांव आता है। पुलिस ने बताया कि इस साल अप्रैल में एक दलित व्यक्ति मंदिर में पूजा करने गया था, जिसे लेकर ऊंची जाति वालों को परेशानी हुई थी। उन्होंने दलित लोगों की मंदिर में एंट्री बंद कर दी थी। इसके बाद दोनों समुदायों के बीच कई बार इसे लेकर तनातनी हुई। मामलों को लेकर दोनों पक्षों से 4 एफआईआर भी दर्ज कराई गई। जिला प्रशासन ने इसे लेकर कई बार बात करके मामले को सुलझाने की कोशिश की, लेकिन बात नहीं बनी। इसके बाद अंत में मंदिर को सील करने का फैसला लिया गया।

तमिलनाडु: दलितों का प्रवेश रोकने का सप्ताह भर में दूसरा मामला, मंदिर सील
तमिलनाडु: मन्दिर उत्सव के दौरान आखिर क्यों टूटा दलित बस्ती पर कहर, क्या थी वजह?

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com