यूपी: दलित कैदी पर नाली सफाई करने का बनाया गया दबाव, विरोध पर पिटाई कर की गई हत्या!

जेल से छूटकर कर आए साथी ने किया खुलासा,मजिस्ट्रेट जांच में स्पष्ट होगा मामला.
दलित युवक की मौत के बाद लोगों ने किया था प्रदर्शन. फाइल फोटो
दलित युवक की मौत के बाद लोगों ने किया था प्रदर्शन. फाइल फोटोतस्वीर- द मूकनायक

फिरोजाबाद। उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले में चोरी के आरोप में जेल भेजे गए दलित युवक की मौत का राज खुलकर सामने आया है। कथिततौर पर दलित युवक के साथ जेल भेजे गए साथी कैदी ने यह खुलासा किया है। कैदी ने बताया कि दलित युवक से जेल में नाली साफ़ कराई जाती थी। जब वह इसका विरोध करता था तो उसकी पिटाई की जाती थी। उस दिन भी यही हुआ था। इस कारण उसकी पिटाई से हालत बिगड़ गई और इलाज के दौरान मौत हो गई।

गौरतलब है कि 21 जून 2024 को जिला जेल में बंद दलित युवक आकाश पुत्र वीर सिंह निवासी नगला पचिया थाना दक्षिण की मौत हो गई थी। परिजनों ने द मूकनायक को बताया था कि आकाश को 17 जून को बाइक चोरी के आरोप में पुलिस उठाकर चौकी ले गई थी, जिसके बाद 20 जून को जेल भेज दिया था। इस दौरान जेल में आकाश की अचानक तबीयत बिगड़ गई और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान आकाश की मौत हो गई थी।

वहीं जेल प्रशासन ने दावा किया था कि आकाश के पेट में अचानक दर्द हुआ था। उसे जिला अस्पताल भिजवाया गया, जहां उसकी मौत हो गयी। इस घटना से गुस्साए लोगों ने जमकर बवाल भी किया था। परिजनों का आरोप था कि आकाश की मौत पिटाई से हुई है। परिजनों ने जाम लगा दिया था। जाम खुलवाने गयी पुलिस के साथ प्रदर्शनकारियों की भिड़ंत हुई थी। पथराव,फायरिंग और आगजनी में कई लोग घायल हुए है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हेड इंजरी के साथ आंख,गर्दन और कंधे पर थी चोट

प्रशासन ने पांच लाख का चेक देकर मामले को शांत कराया था। 117 लोगों के खिलाफ बवाल करने के आरोप में केस भी दर्ज किया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि हुई कि आकाश के शरीर पर चोट के 14 निशान थे।। उसे हेड इंजरी के साथ आंख के नीचे, गर्दन और कंधे पर भी चोट के निशान थे।। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पिता ने एक बार फिर आरोप लगाया है कि उनके बेटे की हत्या हुई है। दोषी पुलिसवालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

जेल भेजे गए साथी ने बताई अपने भाई को मौत की हकीकत

आकाश के साथ पुलिस ने शिवम को भी जेल भेज था। शिवम से मिलने जब उसका भाई अभिषेक जेल गया तो शिवम ने आकाश पर हुए अत्याचारों की कहानी बताई। आकाश के साथी शिवम ने दावा किया कि आकाश की मौत पिटाई से ही हुई है और उसे जेल में पीटा गया है। शिवम ने यह भी बताया कि यह बात आकाश ने खुद दूसरे दिन उसे बतायी थी। आकाश काफी परेशान था और बैरक बदलवाने की मांग कर रहा था। आकाश ने शिवम को बताया था कि उससे नाली साफ़ करने का काम करवाया जाता है। विरोध करने पर पिटाई की जाती थी।

फिरोजाबाद जेल में दलित कैदी आकाश की मौत के बाद शहर में जमकर बवाल हुआ था। तभी से राजनैतिक हलचलें भी तेज हो गई। मायावती और अखिलेश यादव और चंद्रशेखर ने एक्स हैंडल पर घटना की निंदा की थी। सपा ने अपने राज्यसभा सांसद रामजीलाल सुमन को फिरोजाबाद भेजा था। उसी कड़ी में बुधवार को भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी फिरोजाबाद पहुंचे। पीड़ित परिजनों से मुलाकात की और अपने अंदाज में ही प्रशासन को चेतावनी भी दी।

भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन सिंह ने मृतक के परिजनों को ढांढ़स बंधाते हुए उनको हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। परिजनों से करीब 20 मिनट तक बात की। उसके बाद वह एसपी सिटी सर्वेश कुमार के कार्यालय पर जाकर मिले। जहां उन्होंने घटना की कड़ी निंदा करते हुए हत्यारोपियों की जानकारी कर जल्द से जल्द कार्रवाई किए जाने की मांग की। साथ ही चेतावनी दी कि जल्द हत्या का खुलासा न होने पर आगे ठोस कदम उठाए जाएंगे। आकाश के परिजनों को न्याय दिलाने के लिए वह भरसक प्रयास करेंगे।

पीड़ित परिवार से मिलते भीम आर्मी के सह-संस्थापक विनय रतन सिंह.
पीड़ित परिवार से मिलते भीम आर्मी के सह-संस्थापक विनय रतन सिंह. तस्वीर- द मूकनायक

उन्होंने कहा कि प्रशासन ये बताए कि दलितों के साथ ये बर्बरता क्यों। क्या वो इंसान नही हैं। इस मामले में बेगुनाहों को न सताया जाए। सही जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की जाए। पीड़ित परिवार के मुआवजे को भी बढ़ाया जाए।

द मूकनायक को जेल अधीक्षक एके सिंह ने बताया, -"इस पूरे मामले की मजिस्ट्रेट जांच की जा रही है। जांच में सबकुछ स्पष्ट हो जायेगा।"

दलित युवक की मौत के बाद लोगों ने किया था प्रदर्शन. फाइल फोटो
यूपीः दलित युवक को पानी पीने से रोका,विरोध करने पर मां की पिटाई कर कपड़े फाड़े

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com