दलित रोहित वेमुला पर बीजेपी मंत्री के बयान की हो रही आलोचना, जानिए क्या है मामला?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राहुल गांधी पर साधा निशाना,संसद में की गई टिप्पणियों पर दोबारा गौर करने को कहा,सीतारमण ने कहा घटना को गलत तरीके से पेश करने के लिए राहुल माफी मांगें.
3 मई को प्रदर्शन में शामिल छात्र।
3 मई को प्रदर्शन में शामिल छात्र।

हैदराबाद। हैदराबाद में चर्चित दलित छात्र रोहित वेमुला की मौत पर कोर्ट में पेश की गई क्लोजर रिपोर्ट ने एक नए राजनितिक बहस को छेड़ दिया। क्लोजर रिपोर्ट को लेकर भाजपा नेताओं ने कांग्रेस प्रतिनिधियों को आड़े हाथ ले लिया। रोहित वेमुला की मौत के कई साल बाद आई इस क्लोजर रिपोर्ट के कारण शुरू हुए नए विवाद के बीच तेलंगाना पुलिस ने पूरे मामले में दोबारा जांच करने की ठान ली है। तेलंगाना पुलिस की इस घोषणा से रोहित के परिवार और दलित संगठनों में एक बार फिर न्याय की उम्मीद जाग गई है। हालांकि तेलंगाना पुलिस की इस घोषणा के बाद जांच में कोई तेजी नहीं आई है।

अंबेडकर स्टूडेंट्स एसोसिएशन के सदस्यों ने बताया अभी इस मामले में पुलिस ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया है। अंबेडकर स्टूडेंट्स एसोसिएशन के महासचिव रितिक लालन ने द मूकनायक से बातचीत के दौरान कहा है, "जब आंदोलन चल रहा था तो मामला पहले ही सुलझ चुका था। रोहित ने बार-बार स्पष्ट किया था कि वह एक दलित है जो अंबेडकर को पढ़ता है, यही एक कारण है कि उस पर लगातार हमले किए गए। हम आरोपों से लड़ते रहे हैं और भाजपा के झूठ को उजागर करने वाले बयान जारी कर रहे हैं।"

जब आगे के प्रदर्शनों की संभावना के बारे में सवाल किया गया तो रितिक ने कहा-'इस मामले में कैंपस में काफी चर्चा हैं। जल्दी ही कैम्पस में कोई ठोस फैसला लिया जायेगा। लेकिन हम इस विशेष जांच के लिए में सरकार के आश्वासन पर विचार कर रहे हैं।'

3 मई को प्रदर्शन में शामिल छात्र।
रोहित वेमुला केसः क्लोजर रिपोर्ट पर मां-भाई ने उठाए सवाल, जानिए अब तक क्या हुआ?

इस मामले में केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने राहुल गांधी पर निशाना साधा है। सीतारमण ने राहुल से कहा है है कि रोहित वेमुला की दुखद आत्महत्या को शोषण के रूप में देखने के लिए उन्हें संसद में माफी मांगनी चाहिए। सीतारमण ने इस बात पर प्रकाश डाला कि कांग्रेस के नेतृत्व वाली राज्य सरकार के तहत काम कर रही तेलंगाना पुलिस ने निष्कर्ष निकाला है कि वेमुला की मौत उनकी दलित पृष्ठभूमि से जुड़ी नहीं थी, जो पहले के दावों के विपरीत थी। उन्होंने इस बात पर भी जोर किया है कि राहुल गांधी ने इस मामले को कथित तौर पर दलित मुद्दे के रूप में पेश किया है। इसके कारण उन्होंने वर्तमान केंद्र सरकार को इसका जिम्मेदार बताते हुए घटना का राजनीतिकरण किया।

सीतारमण ने गांधी से आग्रह किया कि वे संसद में अपनी पिछली टिप्पणियों पर दोबारा गौर करें और घटना को गलत तरीके से पेश करने और राजनीतिक उद्देश्यों के लिए दलित समुदाय के कथित शोषण के लिए माफी मांगें।

इसके जवाब में कई प्रगतिशील संगठन 'जस्टिस फॉर रोहित वेमुला' के बैनर तले एकजुट हुए। सामूहिक ने केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण की टिप्पणियों की निंदा की है। उन्होंने कहा, “हम केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण के बयानों की निंदा करते हैं क्योंकि वे देश भर के दलितों और जागरूक, तर्कसंगत सोच वाले लोगों को फंसाते हैं, जिन्होंने रोहित वेमुला के लिए न्याय की लड़ाई लड़ी। यह दलित आंदोलनों पर बेहद अपमानजनक बयान है। वह भाजपा के नेतृत्व वाले केंद्रीय मंत्रियों के राजनीतिक हस्तक्षेप को नजरअंदाज कर रही हैं, जिसके परिणामस्वरूप अंबेडकर छात्र संघ के पांच दलितों का अवैध सामाजिक बहिष्कार हुआ था।

संगठन ने आगे कहा कि रोहित वेमुला के लिए न्याय की मांग का संघर्ष दस्तावेजी सबूतों पर आधारित है, न कि "जातिवादी व्यक्तियों और राजनीतिक दलों द्वारा प्रचारित काल्पनिक बयानों पर।" अपने सहयोगी की भावनाओं को दोहराते हुए, गृह मंत्री अमित शाह ने भी रिपब्लिक टीवी के साथ एक साक्षात्कार के दौरान रोहित वेमुला के संबंध में कांग्रेस पार्टी के अभियान का उपहास करते हुए कहा कि इसमें कोई दम नहीं है।

उन्होंने टिप्पणी की थी कि , "कांग्रेस के तमाम हंगामे के बावजूद, कोई चुनावी लाभ नहीं हुआ। यह व्यापक रूप से ज्ञात था कि रोहित वेमुला दलित समुदाय से नहीं थे। यह सब बिना किसी वास्तविक महत्व के शोर और हंगामा था।"

हालाँकि, रोहित वेमुला के भाई राजा वेमुला सहित दलित कार्यकर्ताओं ने हैदराबाद विश्वविद्यालय के शोध छात्र के लिए न्याय मांगने के उनके प्रयासों का उपहास करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की आलोचना की है। उनके और साथी कार्यकर्ताओं द्वारा जारी एक बयान में, उन्होंने कहा है कि रोहित की दलित पहचान उनके साथ हुए भेदभाव और चुनौतियों के बारे में बहुत कुछ बताती है। उनका तर्क है कि प्रमुख जाति हितों का प्रतिनिधित्व करने वाले अमित शाह और भाजपा को दलितों के संघर्षों की समझ नहीं है, जैसा कि उनकी टिप्पणियों से स्पष्ट है।

संगठन ने कहा है कि , “रोहित वेमुला दलित है, जिसके लिए किसी बचाव की आवश्यकता नहीं है क्योंकि उसका जीवन स्वयं भेदभाव और संघर्ष की मात्रा को बयां करता है, जिसके बारे में अमित शाह और भाजपा के समर्थकों को कोई अंदाज़ा नहीं है।” वे प्रमुख जाति हितों का प्रतिनिधित्व करते हैं।” संगठन के अनुसार, रोहित वेमुला ने 15 साल की उम्र में इंटरमीडिएट कॉलेज में प्रवेश पर अपना एससी जाति प्रमाण पत्र जमा किया था, और इस स्थिति को उनकी शैक्षिक यात्रा के दौरान मान्यता दी गई थी।

गुंटूर के हिंदू कॉलेज से, जहां उन्होंने स्नातक की उपाधि प्राप्त की, हैदराबाद विश्वविद्यालय तक, जहां उन्होंने 2016 तक अपने बाद के वर्ष बिताए, उनकी जाति लगातार एससी के रूप में दर्ज की गई थी।

विशेष रूप से, एबीवीपी के नंदनम सुशील कुमार, पोडिले अप्पाराव या भाजपा मंत्रियों सहित किसी भी आरोपी ने जीवित रहते हुए अपनी एससी स्थिति पर विवाद नहीं किया। इसके बजाय, उन्होंने कथित तौर पर उनकी दलित पहचान और अंबेडकर के प्रति उनकी प्रशंसा के कारण उनके खिलाफ अन्याय किया।

उनकी मृत्यु के बाद ही भाजपा ने रोहित वेमुला की दलित स्थिति को चुनौती देते हुए एक शिकायत शुरू की थी। यह शिकायत दर्शनपु श्रीनिवास राव द्वारा दर्ज की गई थी, जो बाद में 2019 में वेमुरु विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के टिकट के लिए दौड़े थे। इस शिकायत से पहले, गुंटूर के जिला कलेक्टर ने रोहित वेमुला की एससी स्थिति की पुष्टि की थी, और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने भी इसे दोहराया था।

"आप क्रोनोलॉजी समझिए, अमित शाह!" - अम्बेडकर स्टूडेंट्स एसोसिएशन

एक तीखे बयान में, एएसए ने घटनाओं के कालानुक्रमिक अनुक्रम पर प्रकाश डाला, जिसमें उनका आरोप है कि अंबेडकरवादी विद्वानों को अपराधी बनाने के लिए भाजपा नेताओं द्वारा सत्ता का दुरुपयोग प्रदर्शित होता है। एबीवीपी के महासचिव कृष्ण चैतन्य ने एएसए सदस्यों पर तत्कालीन एबीवीपी-एचसीयू अध्यक्ष नदानम सुशील कुमार पर हमला करने का आरोप लगाते हुए झूठी शिकायत दर्ज की। हालाँकि, प्रॉक्टोरियल बोर्ड ने ड्यूटी सुरक्षा अधिकारी और चिकित्सा अधिकारी के साक्ष्य के आधार पर आरोपों को खारिज कर दिया था। इसके बजाय, नंदनम सुशील कुमार को उनकी आपत्तिजनक पोस्ट के लिए चेतावनी दी गई और एएसए सदस्यों ने उनसे सवाल करने के लिए माफी मांगी।

भाजपा एमएलसी रामचंद्र राव ने सुशील द्वारा दायर धोखाधड़ी मामले के आधार पर एएसए सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए विश्वविद्यालय परिसर में धरना दिया। तत्कालीन श्रम और रोजगार राज्य मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने झूठी शिकायत का समर्थन किया और मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) पर अंबेडकरवादी छात्रों के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव डाला।

एमएलसी के हस्तक्षेप और बंडारू दत्तात्रेय के पत्रों के बाद, एएसए सदस्यों को निलंबित कर दिया गया। हालांकि, कुलपति आरपी शर्मा ने अनियमितताओं के कारण निलंबन रद्द कर दिया और नए सिरे से जांच के आदेश दिए। स्मृति ईरानी की अध्यक्षता वाले मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तथ्यों की जांच किए बिना हैदराबाद विश्वविद्यालय को पत्र जारी कर अंबेडकरवादी छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

3 मई को प्रदर्शन में शामिल छात्र।
रोहित वेमुला केस: पुलिस पर भटकाने का आरोप, जानिए क्लोजर रिपोर्ट के किन तथ्यों पर उठे सवाल?

भाजपा शासन के दौरान नियुक्त नए कुलपति अप्पाराव पोडिले ने नए सिरे से जांच के आदेश को नजरअंदाज कर दिया और इसके बजाय प्रॉक्टोरियल बोर्ड की निरस्त कार्यवाही की समीक्षा की। उन्होंने रोहित वेमुला सहित एएसए के पांच दलित विद्वानों पर अवैध रूप से सामाजिक बहिष्कार लागू कर दिया, जिससे उनकी संस्थागत हत्या हो गई। एएसए का बयान भाजपा नेताओं द्वारा अंबेडकरवादी विद्वानों को कथित रूप से व्यवस्थित रूप से निशाना बनाने और उत्पीड़न को उजागर करता है, जिसके परिणामस्वरूप अंततः रोहित वेमुला की दुखद मौत हुई।

अनुवाद-सत्यप्रकाश भारती

3 मई को प्रदर्शन में शामिल छात्र।
“मेरे लिए आंसू मत बहाना, जान लो कि मैं जिंदा रहने से ज्यादा मरकर खुश हूं”, रोहित वेमुला का वह पत्र जो आज भी छात्रों को कचोटता है!

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com