Google News Initiative की मदद से The Mooknayak वेबसाइट को लगे पंख, लाखों पाठकों तक पहुंच बनी आसान

दिग्गज टेक कंपनी गूगल समर्थित GNI के अंतर्गत Readwhere द्वारा द मूकनायक को मिले तकनीकी मदद के बाद दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यक और महिलाओं के मुद्दों को उठाने वाले वेबसाइट की बढ़ी पहुंच।
गूगल न्यूज़ इनिशिएटिव की ओर से मूकनायक को मिली तकनीकी मदद।
गूगल न्यूज़ इनिशिएटिव की ओर से मूकनायक को मिली तकनीकी मदद। ग्राफिक- द मूकनायक

नई दिल्ली: दुनिया की सबसे दिग्गज टेक कंपनी गूगल समर्थित GNI (Google News Initiative) इंडियन लैंग्वेज प्रोग्राम के तहत Readwhere द्वारा हाशिये के समुदाय की आवाज बनने वाले द मूकनायक को तकनीकी रूप में मदद मिली जिससे न्यूज वेबसाइट आज कई बड़े मीडिया वेबसाइटों के बीच खुद को स्थापित करने के लिए तैयार है। 

Readwhere के तकनीकी मदद के बाद, हमें अब अच्छी ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक मिलना शुरू हो गई है। हमारा डिस्कवर ट्रैफ़िक पहले से 14 गुना बेहतर हुआ है। इसके अलावा हमारी वेबसाइट पर दिखने वाले विज्ञापनों की CPC भी बढ़ गई है, जिसका फ़ायदा हमें रेवेन्यू में मिलेगा।

जीएनआई कार्यक्रम से पहले, हमारी वेबसाइट पर मासिक पेज व्यू 25 हजार से 30 हजार थे, लेकिन अब हमने कार्यक्रम की शुरुआत से अपने पेज व्यू में 170% की वृद्धि देखी है।

GNI प्रोग्राम के तहत द मूकनायक टीम को दिए गए ऑनलाइन प्रशिक्षण के बाद मीडिया समूह ने GA4 को लागू करके, सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली खबरों की प्रकृति का पता लगाने में सक्षम है, और उसी दिशा में सुधार कर रही है। अब लक्षित शहरों के लोगों को न्यूज़लेटर भेजना और उनके मुद्दों पर लेख बनाना आसान हो गया है।

GNI कार्यक्रम के बाद द मूकनायक के पास कई नए विचार हैं। द मूकनायक टीम लगातार नई स्टोरी और नए कंटेंट पर काम कर रही है। इससे इसे भविष्य में मीडिया समूहों के बीच बने रहने के लिए आय के नए स्रोतों के बारे में भी विचार मिले हैं।

Google News Initiative के तहत द मूकनायक को मिलने वाली मदद

1- GNI Indian Languages Program: GNI भारतीय भाषा कार्यक्रम एक संरचित प्रारूप को फॉलो करता है जिसमें प्रकाशकों को समर्थन और सशक्त बनाने के लिए विभिन्न घटक शामिल हैं। कार्यक्रम कुल 9 भाषाओं में वितरित किया गया है, जो इसे समाचार प्रकाशकों के लिए Google का सबसे विविध प्रौद्योगिकी कार्यक्रम बनाता है। इस प्रोग्राम में प्रकाशक के रूप में द मूकनायक के चुने जाने के बाद द मूकनायक टीम को तमाम तकनीकी प्रशिक्षण प्राप्त हुए साथ ही द मूकनायक वेबसाइट की न्यूज अप्लीकेशन भी प्लेस्टोर पर बनाई गई जिससे इसके पाठकों की संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी देखी जा रही है।

2- GNI स्टार्टअप लैब: GNI स्टार्टअप लैब इंडिया कार्यक्रम डिजिटल समाचार संगठनों को उनके व्यवसाय को बढ़ाने में मदद करने के लिए तैयार किया गया है। इसने द मूकनायक को अपना रेवेन्यू मॉडल बनाने वेबसाइट के रेवेन्यू को बढ़ाने में मदद की।  

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com