निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर किसने अपलोड किया हरियाणा के मुख्यमंत्री का डेथ सर्टिफिकेट!

पुलिस मामला दर्ज कर जांच में जुटी। हरियाणा के सीएम के पिता, नाम और उम्र सभी सही डाले गए थे।
भारत निर्वाचन आयोग
भारत निर्वाचन आयोग

उत्तर प्रदेश। यूपी के सोनभद्र में अराजक तत्वों ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल का फर्जी डेथ सर्टिफिकेट बना दिया। यही नहीं, इस सर्टिफिकेट को भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर भी अपलोड कर दिया है। इस सर्टिफिकेट के अनुसार उनकी मौत की तिथि 5 मई 2022 बताई गई है। जबकि स्थान पन्नूगंज उर्फ शाहगंज पीएचसी बताया गया है। जबकि पन्नूगंज उर्फ शाहगंज में कोई पीएचसी नहीं है। मामला संज्ञान में आने के बाद सोनभद्र प्रशासन ने अराजक तत्वों की पहचान करने और उनके खिलाफ केस दर्ज कराने की तैयारी शुरू कर दी है।

जानिए क्या है पूरा मामला?

सोनभद्र प्रशासन से मिली जानकारी के मुताबिक, कुछ शरारती लोगों ने इस तरह की हरकत को अंजाम दिया है। इसमें हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल का फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनाकर इसे निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर डाला गया है। इस सर्टिफिकेट में मुख्यमंत्री मनोहर लाल का नाम, उम्र, पिता का नाम, पता आदि सही दर्शाया गया है। उनकी मृत्यु की जगह पन्नूगंज उर्फ शाहगंज पीएची दर्शायी गई है। 2 फरवरी 2023 की तारीख वाले इस मृत्यु प्रमाण पत्र पर मृत्यु की तिथि 5 मई 2022 बताया गया है। इस सर्टिफिकेट में मुख्यमंत्री मनोहर लाल का पता प्रेमनगर करनाल हरियाणा लिखा गया है।

भारत निर्वाचन आयोग
मध्य प्रदेश: बीजेपी विधायक ने फर्जी एससी-ओबीसी के सर्टिफिकेट बना आरक्षित सीट पर लड़ा चुनाव!

फर्जी है प्रमाणपत्र

सोनभद्र के सीएमओ आरएस ठाकुर ने बताया, यह प्रमाण पत्र फर्जी है। इसे स्वास्थ्य विभाग की ओर जारी नहीं किया गया है। पन्नूगंज में कोई पीएचसी नहीं है। इस सर्टिफिकेट पर कोई बारकोड नहीं है। निश्चित रूप से यह किसी शरारती तत्व ने इसे कंप्यूटर पर बनाकर डाउनलोड किया है। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग की ओर से मामले की जांच कराई जा रही है। इसी के साथ अज्ञात शरारती तत्वों के खिलाफ पुलिस में केस भी दर्ज कराया जाएगा।

भारत निर्वाचन आयोग
जानिए कौन हैं नकाब में swiggy का बैग कंधों पर लिए पैदल चलने वाली महिला!

निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर डालने से हड़कंप

शरारती तत्वों ने इस सर्टिफिकेट को ना केवल फर्जी तरीके से तैयार किया, बल्कि इसे निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर डाल दिया। इससे हरियाणा से लेकर सोनभद्र तक हड़कंप मच गया। हरियाणा में ही यह सर्टिफिकेट देखे जाने के बाद सोनभद्र प्रशासन को सूचित किया गया। वहीं इस सूचना के बाद सोनभद्र प्रशासन और सोनभद्र पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस यह पता करने की कोशिश कर रही है कि यह सर्टिफिकेट किस कंप्यूटर पर तैयार किया गया है। इसके अलावा यह भी देखा जा रहा है कि किस कंप्यूटर से इस सर्टिफ़िकेट को वेबसाइट पर अपलोड किया गया। पुलिस आईपी एड्रेस की मदद से उस कंप्यूटर और उसे इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति की तलाश कर रही है।

शोषित/वंचित, दलित, आदिवासी, महिला और अल्पसंख्यकों के मुद्दों, समस्याओं को प्रमुखता से उठाने वाली द मूकनायक की जनवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें। द मूकनायक आपके सहयोग से संचालित होता है। आर्थिक मदद के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
logo
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com