मध्य प्रदेश: नियुक्ति की मांग को लेकर चयनित शिक्षकों की भूख हड़ताल!

शिक्षक भर्ती के लिए चयनित उम्मीदवारों ने बताया कि सितंबर 2018 में भर्ती का नोटिफिकेशन जारी हुआ था। 5 साल बीते, नहीं मिली नौकरी
मध्य प्रदेश: नियुक्ति की मांग को लेकर चयनित शिक्षकों की भूख हड़ताल!

भोपाल। लोक शिक्षण संचालनालय के बाहर चिलचिलाती धूप में तरपाल के बने शेड में पिछले छह दिनों से 2018 के चयनित शिक्षक नियुक्ति की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर बैठे हैं। शिक्षकों में लगातार आक्रोश बढ़ रहा है। इससे पहले 11 दिन से नियुक्ति देने की मांग को लेकर यह शिक्षक लगातार आंदोलन कर रहे थे। इसमें कई जिलों के चयनित शिक्षकों में ईडब्ल्यूएस कैटेगरी, ओबीसी कैटेगिरी समेत सभी कैटेगिरी के चयनित शिक्षक शामिल हैं।

शिक्षक भर्ती के लिए चयनित उम्मीदवारों ने बताया कि सितंबर 2018 में भर्ती का नोटिफिकेशन जारी हुआ था। परीक्षा समय पर नहीं हुई तो उम्मीदवारों ने धरना प्रदर्शन किए। इसके बाद करीब 6 महीने बाद फरवरी-मार्च 2019 में प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) ने पात्रता परीक्षा कराई थी। इसके बाद लोकसभा चुनाव का बहाना बनाकर 6 महीने तक रिजल्ट अटकाकर रखा।

मध्य प्रदेश: नियुक्ति की मांग को लेकर चयनित शिक्षकों की भूख हड़ताल!
दिल्ली: "योनि पवित्रता की जिम्मेवारी थोपने के कारण महिलाओं की दोयम स्थिति" — आशा काचरू

उच्च माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा का रिजल्ट 28 अगस्त 2019 को आया और माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा का रिजल्ट 26 अक्टूबर 2019 को आया। अब रिजल्ट आए हुए पांच साल से ज्यादा हो चुका है, लेकिन चयनित उम्मीदवारों को नियुक्ति नहीं दी जा रही है। भूख हड़ताल पर बैठे चयनित शिक्षकों ने कहा कि हम परीक्षा में 100 से भी ज्यादा अंक लाकर मेरिट में शामिल है, इसके बावजूद भी नियुक्ति नहीं दी जा रही।

बता दें कि प्रदेश में करीब 10 हजार शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ष 2018 और 2020 में पास कर चुके हैं, लेकिन इनकी नियुक्ति करने की बजाय स्कूल शिक्षा विभाग नई भर्ती की तैयारी कर रहा है। चयनित शिक्षकों की मांग है कि काउंसलिंग में उन्हें रिक्त पदों पर नियुक्त किया जाए।

द मूकनायक से बातचीत करते हुए पात्रता शिक्षक संघ की संयोजक रक्षा जैन ने बताया कि हमने सरकार से मांग की है कि 2018 शिक्षक भर्ती को तृतीय काउंसिलिंग के साथ पूर्ण किया जाए। जो अभ्यर्थी रह गए हैं, उनकी लिस्ट क्लियर करते हुए पद वृद्धि के साथ काउंसिलिंग की जाए। ईडब्लूएस वर्ग के 1049 पद शेष हैं। उन पर भी नियोजन प्रक्रिया शुरू की जाए। हम इस मामले में मुख्यमंत्री से भी मिल चुके हैं। उन्होंने कहा था कि वह न्याय करेंगे। हम अपेक्षा करते हैं कि उन्होंने जो घोषणाएं की हैं वो कोरी साबित ना हो जाएं। हमारे साथ कुछ भी हाेता है तो उसकी जिम्मेदारी शासन-प्रशासन की होगी। हम कहना चाहते हैं कि हाल में 2023 का परीक्षा नोटिफिकेशन जारी हुआ है। जब अभ्यर्थी उपलब्ध हैं, तो पहले उन पोस्ट को भरा जाए ना कि नई परीक्षा करवाई जाए।

यह हैं मांगें

  • 2018 शिक्षक भर्ती में उच्च माध्यमिक और माध्यमिक शिक्षक के हिंदी, संस्कृत विषय में 500-500 पदों की वृद्धि कर नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की जाए।

  • उच्च माध्यमिक शिक्षकों की फर्स्ट काउंसिलिंग ईडब्ल्यूएस वर्ग के 1039 पदों पर नियुक्ति शुरू की जाए।

  • वर्ग 1 और 2 के गणित विषय के साथ अन्य विषयों की अतिरिक्त सूची क्लियर करते हुए उच्च माध्यमिक और माध्यमिक के सभी विषयों में पद वृद्धि कर थर्ड काउंसिलिंग की जाए।

मध्य प्रदेश: नियुक्ति की मांग को लेकर चयनित शिक्षकों की भूख हड़ताल!
दिल्ली: 30 बच्चों से रेप व हत्या के दोषी युवक को मिली उम्र कैद की सजा

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com