भारतीय टीवी न्यूज चैनलों ने कैसे मुस्लिम समुदाय के खिलाफ लोगों में घोला जहर! NBDSA के जुर्माने और चेतावनी का कितना होगा असर?

बीते एक दशक से भारतीय मुख्यधारा की मीडिया खासकर न्यूज टीवी चैनलों द्वारा अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय को टारगेट करने का आरोप लगाया जाता रहा है. इस बात की गंभीरता तब सामने आई जब एनबीडीएसए ने टीवी चैनलों पर कार्रवाई की.
भारतीय टीवी न्यूज चैनलों ने कैसे मुस्लिम समुदाय के खिलाफ लोगों में घोला जहर! NBDSA के जुर्माने और चेतावनी का कितना होगा असर?

नई दिल्ली: मुस्लिम समुदाय को बदनाम करने और उनके खिलाफ देशभर में नफरत फैलाने के लिए 6 टेलीविजन समाचार कार्यक्रमों के खिलाफ दायर की गई शिकायतों के आधार पर, सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश, न्यायमूर्ति एके सीकरी की अध्यक्षता वाले समाचार प्रसारण और डिजिटल मानक प्राधिकरण (एनबीडीएसए) ने टाइम्स नाउ नवभारत पर 1,00,000 रुपये, न्यूज 18 इंडिया पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया है और आजतक को चेतावनी दी है. इसके अलावा, उक्त तीनों समाचार चैनलों को 7 दिनों के भीतर उल्लंघन करने वाले कार्यक्रमों के ऑनलाइन अपलोड वीडियोज को डिलीट करने के लिए कहा गया है।

एनबीडीएसए ने कहा कि "लव जिहाद" शब्द का इस्तेमाल बड़े संयम और परख के साथ किया जाना चाहिए क्योंकि धार्मिक रूढ़िवादिता आचार संहिता का उल्लंघन है और यह देश के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने को खराब कर सकती है, इससे एक समुदाय को अपूरणीय क्षति पहुंचा सकती है और यह लोगों में धार्मिक असहिष्णुता या वैमनस्य पैदा कर सकती है। प्रत्येक नागरिक को, चाहे वह किसी भी धर्म का हो, अपनी पसंद के व्यक्ति से विवाह करने का अधिकार है, चाहे वह किसी भी धर्म का हो।

“केवल इसलिए कि एक हिंदू लड़की ने दूसरे धर्म के लड़के से शादी कर ली, लव जिहाद के समान नहीं होगा जब तक कि यह स्थापित नहीं हो जाता कि ऐसी हिंदू लड़की को शादी के लिए धोखा दिया गया था या मजबूर किया गया था.”

“इसके अलावा, ऐसे विवाहों की कुछ घटनाओं के कारण, पूरे समुदाय को कलंकित नहीं किया जा सकता है। हत्या और हिंसा के लिए कुछ उपद्रवियों को दोषी ठहराने के बजाय, पूरे समुदाय पर निशाना साधने के लिए ऐसी घटनाओं का इस्तेमाल करना अनुचित था। श्रद्धा वाकर हत्याकांड को 'लव जिहाद' से जोड़ना और उस पर बहस करना अनुचित था.” एनबीडीएसए ने अपने आदेश में कहा.

उक्त मामले पर टीवी समाचार चैनलों द्वारा फैलाई जाने वाली नफरत और गलत सूचनाओं के शिकायतकर्ता इंद्रजीत घोरपड़े द मूकनायक को बताते हैं कि, “इन 3 चैनलों [टाइम्स नाउ नवभारत, न्यूज़ 18 इंडिया और आज तक] के अलावा कई अन्य चैनल मुस्लिम समुदाय, किसानों और सरकार से सवाल पूछने वाले किसी भी व्यक्ति को निशाना बनाकर इसी तरह की रिपोर्टिंग प्रथाओं में लगे हुए हैं। मैंने पहले भी कई चैनलों के खिलाफ कई शिकायतें दर्ज की हैं। दुर्भाग्य से, एनबीडीएसए की कार्रवाई इन चैनलों को नफरत फैलाना बंद करने के लिए मजबूर करने में असमर्थ है।”

“1 लाख रुपये जो कि एनबीडीएसए द्वारा लगाया जा सकने वाला अधिकतम जुर्माना है, इन बेहद अमीर मीडिया घरानों के लिए बहुत छोटा है। हालाँकि, मैं ये मामले दर्ज करना जारी रखूँगा ताकि चैनलों द्वारा किए गए उल्लंघनों का एक सार्वजनिक रिकॉर्ड और दस्तावेज़ीकरण हो। 50-100 वर्षों के बाद जब कोई अध्ययन करता है कि फासीवाद को सक्षम करने में भारतीय मीडिया की भूमिका कैसी है, तो उन्हें एक सेवानिवृत्त सुप्रीम कोर्ट के जज द्वारा लिखित इन आदेशों से लाभ हो सकता है”, इंद्रजीत ने कहा.

उन्होंने सुदर्शन टीवी न्यूज चैनल के बारे में कहा कि, “सुदर्शन नियमित रूप से गलत सूचना और घृणास्पद भाषण को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। यदि भारत में सभी जांच और संतुलन ठीक से काम कर रहे होते, तो चैनल ऑन एयर नहीं होता। लेकिन अशोक चव्हाणके जिस तरह की रिपोर्टिंग करते हैं, उससे एक निश्चित राजनीतिक वर्ग को फायदा होता है, इसलिए सुदर्शन को छूट प्राप्त है। यह एक कड़वी सच्चाई है जो हम सभी के सामने उजागर है। सुदर्शन एनबीडीए का हिस्सा नहीं है इसलिए इसके खिलाफ एनबीडीए में मामला दर्ज करना संभव नहीं है. सुदर्शन के खिलाफ किसी भी कार्रवाई के लिए सीधे प्रसारण मंत्रालय या अदालत से संपर्क करना होगा।”

न्यूज चैनलों के वह कार्यक्रम जिसने मुस्लिम समुदाय को बनाया निशाना

टीवी न्यूज चैनल: टाइम्स नाउ नवभारत - कार्यक्रम होस्ट हिमांशु दीक्षित

मुख्य समाचार और टिकर

लिंक: https://www.youtube.com/watch?v=8QyT7gnEXZ0&ab_channel=TIMESNOWNavbharat

Love तो बहाना है... Hindu बेटियां निशाना है

Jihadiyo se Beti Bachao

Desh mein Love Jihad ka Sach: Church ka dava, 10,000 isali ladkiya bani shikar 

Desh mein Love Jihad ka Sach: VHP Ke muatbik 2009-2022 mein 400 case

Desh mein Love Jihad ka Sach: Sirf 2023 mein Love jihad ke 153 case

Desh mein Love Jihad ka Sach: Hyderabad mein 2000 ladkiya gayab, love jihad ka shak

टीवी चैनल द्वारा उल्लंघन: निष्पक्षता, तटस्थता, धार्मिक सद्भाव और बहस आयोजित करने के लिए कार्यक्रम के बारे में कहा गया कि श्रद्धा वॉकर हत्याकांड को गलत और दुर्भावनापूर्ण तरीके से लव जिहाद से जोड़ा गया, ताकि पूरे मुस्लिम समुदाय को हिंदू महिलाओं के खिलाफ "संगठित अपराध" करने के लिए बर्बर और दोषी बताया जा सके।

टीवी न्यूज चैनल: न्यूज़ 18 इंडिया - होस्ट अमन चोपड़ा और अमीश देवगन 

शो 1: https://youtu.be/fPdb4xSj9m4

शीर्षक: Love Jihad बहाना, एक मज़हब निशाना? Desh Nahin Jhukne Denge Aman Chopra के साथ | Debate News

शो 2: https://youtu.be/ijFojLMfq_g

शीर्षक: Desh Nahin Jhukne Denge Aman Chopra के साथ | Shraddha murder case | Aaftab | Mehrauli Murder

शो 3: (Skipped by NBDSA due to pending FIR in Rajasthan): https://youtu.be/fJgK2tfhwTA

शीर्षक: Aar Paar Amish Devgan के साथ | Love Jihad | Shraddha Murder | Aftab Amin | Debate News

शो 4: https://youtu.be/ohASUyyP-k8?list=PLl9a-rLzMUxs7uRoeg05hOjEVJOz1S_dc

शीर्षक: Aar Paar Amish Devgan के साथ LIVE | Shraddha Murder Case | Aftab Narco Test | Love Jihad

टीवी चैनल द्वारा उलंघन: निष्पक्षता, तटस्थता, धार्मिक सद्भाव और बहस आयोजित करने के लिए कार्यक्रमों के बारे में बताया गया कि श्रद्धा वॉकर हत्याकांड को गलत और दुर्भावनापूर्ण तरीके से लव जिहाद से जोड़ा गया, ताकि पूरे मुस्लिम समुदाय को हिंदू महिलाओं के खिलाफ "संगठित अपराध" करने के लिए बर्बर और दोषी बताया जा सके।

टीवी न्यूज चैनल: आजतक, होस्ट - सुधीर चौधरी 

लिंक: https://youtu.be/vXhaQpm9hRU

मुख्य समाचार और टिकर:

Aaj Muslim ilaake, Kal Muslim Bharat   

Aaj ilaaka, kal zilla, parso desh

Aapne kabhi sikh ya parsi ilaaka suna hai?

टीवी चैनल द्वारा उलंघन: एनबीडीएसए की आचार संहिता और प्रसारण मानक, धार्मिक सद्भाव और बहस आयोजित करने के लिए कार्यक्रम के बारे में कहा गया कि, रामनवमी हिंसा के बाद, सुधीर चौधरी गलत सूचना, नकारात्मक रूढ़िवादिता और सामान्यीकरण का उपयोग करके मुस्लिम लोगों के खिलाफ भय और नफरत फैला रहे हैं। मुस्लिम परिवारों की आबादी वाले क्षेत्रों की सीमाओं की तुलना भारत-पाकिस्तान सीमा से की जा रही है। यह झूठा दावा किया गया कि कोई अन्य धार्मिक समुदाय विशिष्ट क्षेत्रों में नहीं रहता है।

टाइम्स नाउ नवभारत, न्यूज़ 18 इंडिया और आज तक टीवी चैनलों के खिलाफ एनबीडीएसए की कार्रवाई का कितना असर होगा यह आने वाले समय में देखना दिलचस्प होगा. हालांकि, लोगों का मानना है कि सिर्फ उक्त तीन ही चैनल ऐसे नहीं हैं जिन्होंने किसी एक समुदाय को बदनाम करने के मनोभाव से कार्यक्रमों का प्रसारण किए हैं, इस मामले के सामने आते ही सोशल मीडिया पर लोग सुदर्शन टीवी चैनल को भी इसी कैटेगरी के चैनलों में गिन रहे हैं. 

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com