देवरिया हत्याकांड मामला: देवेश दुबे की इच्छा पर परिवार से मिलने पहुंचे पूर्व सीएम अखिलेश यादव लेकिन...

इस वीभत्स हत्याकांड में 27 नामजद सहित 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। पुलिस ने इस मामले में अभी तक 21 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है जबकि अन्य आरोपियों की तलाश में गोरखपुर, बलिया, मऊ और आजमगढ़ में तलाश कर रही है। इस मामले में प्रशासन ने प्रेम यादव के घर को अवैध घोषित कर दिया।
घटना स्थल पर मौजूद अखिलेश यादव
घटना स्थल पर मौजूद अखिलेश यादवफोटो साभार- सोशल मीडिया

देवरिया- यूपी के देवरिया में हुए वीभत्स हत्याकांड में मारे गए दोनों परिवार के लोगों के परिजनों से मिलने पूर्व सीएम अखिलेश यादव सोमवार को देवरिया पहुंचे। एक दिन पूर्व देवेश दुबे ने अखिलेश यादव के मिलने की इच्छा जाहिर की थी। 16 अक्टूबर की सुबह देवेश दुबे का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसमें वह अखिलेश यादव से न मिलने की बात कर रहा था। इसके साथ ही अखिलेश सरकार के दौरान खेत पर अवैध कब्जे किये जाने की बात कही। हालांकि अखिलेश यादव दोनों परिवारों से मिलने पहुंचे।

सत्य प्रकाश दुबे के घर कोई मौजूद नहीं था। जबकि प्रेमचंद यादव के परिजनों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी। अखिलेश यादव ने पुलिस और प्रशासन द्वारा परिवार को सुरक्षा के नाम पर परेशान किये जाने के आरोप लगाए हैं। वहीं देवेश के बयान को लेकर अखिलेश यादव ने भी कहा -" यह उस बच्चे का बयान नहीं है। इसके पीछे राजनेता बोल रहे हैं। जिन्होंने उसे ऐसा करने को कहा। उन राजनेताओं ने उससे बोला होगा कि मुझसे न मिलना। मुझे नीचा दिखाओ।"

प्रेम चंद यादव के घर पर श्रद्धाजंलि देते अखिलेश यादव
प्रेम चंद यादव के घर पर श्रद्धाजंलि देते अखिलेश यादवफोटो साभार- सोशल मीडिया

जानिए क्या है पूरा मामला?

देवरिया जिले के थाना रुद्रपुर के फतेहपुर गांव के लेहड़ा टोला में एक जमीन को लेकर पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रेम यादव और सत्य प्रकाश दुबे के बीच विवाद चल रहा था। सत्य प्रकाश दूबे का आरोप था कि प्रेम यादव ने 2014 में उनके भाई ज्ञानप्रकाश दूबे उर्फ साधू की सम्पत्ति अपने नाम बैनामा करा ली थी। जिसके बाद सत्य प्रकाश दूबे ने एक मुकदमा दायर किया था। इस जमीनी विवाद को लेकर अक्सर दोनों में तनातनी हो जाती थी। बीते 2 अक्टूबर 2023 को सुबह लगभग 7:30 बजे प्रेमचंद यादव की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। जिसके बाद आक्रोशित भीड़ ने सत्य प्रकाश दूबे उसकी पत्नी और तीन बच्चों सहित पांच लोगों को पीटा, फावड़े और कुल्हाड़ी से हमला कर घायल किया और फिर बाद में गोली मारकर हत्या कर दी थी।

देवेश दुबे के घर श्रद्धांजलि देते अखिलेश यादव
देवेश दुबे के घर श्रद्धांजलि देते अखिलेश यादवफोटो साभार- सोशल मीडिया

इस वीभत्स हत्याकांड में 27 नामजद सहित 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। पुलिस ने इस मामले में अभी तक 21 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। जबकि अन्य आरोपियों की तलाश में गोरखपुर, बलिया, मऊ और आजमगढ़ में तलाश कर रही है। इस मामले में प्रशासन ने प्रेम यादव के घर को अवैध घोषित कर दिया। इसके साथ ही लगभग 32 हजार का हजार का जुर्माना भी ठोक दिया था। वहीं प्रेम यादव की पत्नी ने इसके विरोध में तहसील में अर्जी दाखिल की थी। तहसीलदार ने प्रेम की पत्नी की अर्जी खारिज करते हुए लगभग दो लाख पचास हजार का जुर्माना ठोक दिया। अब पीड़ित परिवार ने जिलाधिकारी के कोर्ट में अर्जी दाखिल की है।

प्रेम चंद यादव के घर पर अखिलेश यादव
प्रेम चंद यादव के घर पर अखिलेश यादवफोटो साभार- सोशल मीडिया

अखिलेश को देखते ही बिलखने लगी प्रेमचंद की बेटियां

16 अक्टूबर 2023 को सपा अध्यक्ष और पूर्व सीएम रहे अखिलेश यादव देवरिया में दोनों ही परिवारों से मिलने पहुंचे थे। अखिलेश यादव फतेहपुर में सत्य प्रकाश दुबे के घर पहुंचे। उन्होंने देवेश के मृत परिजनों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान देवेश दुबे घर पर मौजूद नहीं था। इसके बाद अखिलेश प्रेमचंद यादव के घर पहुंचे। अखिलेश को देखते ही प्रेमचंद के बच्चों के आंख से आंसू बहने लगे। प्रेमचंद के बच्चे अखिलेश को बड़ी आस से देख रहे थे। अखिलेश यादव को प्रेमचंद यादव की बेटी ने पुलिस और प्रशासन द्वारा की जा रही प्रताड़ना को बताया। बच्चों ने आरोप लगाया कि उन्हें कहीं आने जाने नहीं दिया जा रहा है। रोजमर्रा की जरूरत के सामान को भी लाना मुश्किल हो गया है।

प्रेमचंद यादव की बेटी ने पुलिस पर गम्भीर आरोप लगाए हैं। प्रेमचंद की बेटी ने अखिलेश यादव को बताया, "पुलिस हमें टॉर्चर कर रही है। मेरे दादा और चाचा को भी पुलिस ने झूठे तरीके से फंसा दिया है। मेरे दादा बुजुर्ग हैं। मेरे चाचा देवरिया में रहते हैं, मैं भी उनके साथ वहीं रहकर पढ़ाई करती थी।"

"जिस दिन यह घटना हुई, हमारे घर से फोन आया था। हमें बताया गया कि हमारे पिता की हत्या कर दी गई है। जिसके बाद मैं और मेरे चाचा गांव पहुंचे थे। पुलिस ने दूबे परिवार की शिकायत पर मेरे बुजुर्ग बाबा और मेरे चाचा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया," प्रेमचंद की बेटी ने अखिलेश यादव को बताया।

देवेश के बयान को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि यह उस बच्चे का बयान नहीं है। इसके पीछे राजनेता बोल रहे हैं। जिन्होंने उसे ऐसा करने को कहा। उन राजनेताओं ने उनसे बोला होगा कि उनसे न मिलना। उन्हें नीचा दिखाओ। वहीं बुलडोजर के सवाल पर अखिलेश भड़क गए। उन्होंने कहा है कि बुलडोजर की राजनीति मत करिए। ऐसे कई घटना क्रम है जिसमें बुलडोजर चलना चाहिए था। लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं किया। अखिलेश ने कहा कि यहां की जनता इस मकान पर बुलडोजर नहीं चलने देगी।

घटना स्थल पर मौजूद अखिलेश यादव
घटना स्थल पर मौजूद अखिलेश यादवफोटो साभार- सोशल मीडिया

हत्याकांड को लेकर शुरू हुई जातीय राजनीति

देवरिया में हुए इस हत्याकांड में BJP और समाजवादी पार्टी आमने-सामने आ गए हैं। देवरिया से सदर विधायक सहित BJP के सांसद और विधायक सत्य प्रकाश दूबे के परिवार के पक्ष में खड़े हैं। BJP विधायक और सांसद ने मिलकर सत्य प्रकाश दुबे के बेटे को 20 लाख से अधिक की आर्थिक सहायता दी। इसके साथ ही पूरे मामले की पैरवी कर न्याय दिलाने का आश्वासन दिया है। वहीं दूसरी तरफ प्रेमयादव के पक्ष में समाजवादी पार्टी के पदाधिकारियों सहित अखिलेश यादव समर्थन में आ गए हैं। अखिलेश यादव ने 16 अक्टूबर 2023 को देवरिया जाकर परिवार से मिलने का ऐलान किया है। इस मामले में यूपी के गोंडा के कैसरगंज सीट से बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने यूपी में बुल्डोजर की कार्रवाई पर ही सवालिया निशान खड़ा कर दिया है। बुधवार को बृजभूषण शरण सिंह बस्ती पहुंचे थे। इस दौरान पत्रकारों को यह बयान जारी किया।

देवरिया के फतेहपुर गांव में हुई घटना के बाद गांव के अधिकांश पुरुष घर छोड़कर फरार हो गए है, घरों पर महिला और बच्चे हैं। कई घरों में रोजमर्रा की चीजें नहीं मिलने से दिनचर्या प्रभावित हो रही है। घटना के बाद से ही गांव में फेरी वाले भी नहीं आ रहे हैं। गांव में दहशत है। पुलिस के कड़े पहले के बीच रोजमर्रा के सामान भी न मिल पाने से लोगों को जीवन प्रभावित हुआ है। एक रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार को गांव के बाहर भटौली गांव निवासी नगीना निषाद पहुंचे थे। वह मोपेड से घर-घर जाकर सब्जी बेचते हैं। गांव के मोड़ पर पुलिस का पहरा देख लौट गए। उन्होंने कहा कि हर मोड़ पर पुलिस जांच कर रही है। ऐसे में गांव में जाने पर भय बना है। घटना के 12 दिन बीतने के बाद भी हालात सामान्य नहीं देख रहे। बच्चों का खिलौना बेचने वाले भी गांव में नहीं जा रहे।

घटना स्थल पर मौजूद अखिलेश यादव
देवरिया हत्याकांड ग्राउंड रिपोर्ट: प्रेमचंद यादव परिवार का पुलिस पर टॉर्चर का आरोप, दुबे पक्ष सत्ता संरक्षण में!
घटना स्थल पर मौजूद अखिलेश यादव
राजस्थान के सरकारी स्कूलों में 2019 से ही बंद है उर्दू तालीम, राज्य में शिक्षा की इस कदर हुई है अनदेखी!
घटना स्थल पर मौजूद अखिलेश यादव
राजस्थान: धम्म दीक्षा दिवस पर मंगल मैत्री कार्यक्रम का आयोजन

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com