ग्लोबल वार्मिंग एक संवेदनशील मुद्दा: जीवन को बचाने के लिए करने होंगे साझा प्रयास

ग्लोबल वार्मिंग
ग्लोबल वार्मिंगग्राफिक- द मूकनायक
लेखिका- अलीजे नजफ

दुनिया बहुत तेजी से बदल रही है। 21वीं सदी ने इस गति को और तेज कर दिया है, जहां दुनिया में कई बदलाव हुए हैं, जो नकारात्मक और सकारात्मक दोनों हैं। उन परिवर्तनों में से एक को ग्लोबल वार्मिंग कहा जाता है। तापमान बढ़ रहा है। मनुष्यों ने गलतियाँ की हैं, जिससे विश्व व्यवस्था में उथल-पुथल मच गई है और इसके परिणामस्वरूप होने वाले नकारात्मक प्रभावों में ग्लोबल वार्मिंग भी शामिल है। वैज्ञानिकों ने इसे एक बड़ी आपदा बताया है और इस आपदा के पीछे कई कारण हैं।

वर्तमान समय में अंतरिक्ष में विभिन्न गैसें पाई जाती हैं, जो अर्ध-स्थायी हैं, जिनकी विशेषता यह है कि वे प्राकृतिक रूप से नहीं बल्कि पृथ्वी पर होने वाले विभिन्न कारकों, विशेषकर कार्बन के कारण उत्पन्न होती हैं। कार्बन डाइऑक्साइड, मीथेन, क्लोरोफ्लोरोकार्बन ऐसी गैसें हैं जो बढ़ती हैं। इन्हें हवा में मिलाकर तापमान, पिछले 30 से 35 वर्षों में तेजी से बढ़ा है। इसमें ग्रीनहाउस गैसों की अहम भूमिका है। वायुमंडल में अबाधित वृद्धि के कारण ऐसी अव्यवस्था पैदा हो रही है, यदि समय रहते इसे रोका ना गया तो इसे नियंत्रित करना और समय बीतने के साथ इसे अपने प्राकृतिक स्तर पर लाना मुश्किल हो जाएगा। पृथ्वी के तापमान में इस वृद्धि का कारण मुख्य रूप से मनुष्य और उसके आविष्कार हैं।

जंगलों के कटने से वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ गई है, भाप बनने की दर भी तेज हो गई है। जलवायु प्रणाली पर असर पड़ता है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण दुनिया के कुछ हिस्सों में नमी और कुछ हिस्सों में शुष्कता बढ़ रही है। इससे कृषि और तटीय क्षेत्रों को सबसे ज्यादा नुकसान होगा, क्योंकि ग्लेशियरों के पिघलने से समुद्र का स्तर बढ़ जाएगा, जिससे वृद्धि का खतरा है। बारिश के दौरान इन क्षेत्रों में बाढ़ आने की प्रबल आशंका है और इस जलवायु परिवर्तन के कारण कुछ क्षेत्र सूखे से भी प्रभावित हो सकते हैं, जंगलों में पौधों और पक्षियों को भी खतरा है।

हवा, वर्षा और तापमान सभी एक दूसरे से जुड़े हो सकते हैं, इसलिए उन्हें समान महत्व देना महत्वपूर्ण है। भूमि और पानी दोनों पर काम करने वाले पारिस्थितिकी तंत्र के प्रभाव की संभावित सीमा की भविष्यवाणी करता है, भूख, युद्ध और ऐसी भविष्यवाणियां वास्तव में इसलिए की जाती हैं ताकि हम पहले से ही सर्वोत्तम रणनीतियों द्वारा इन संभावित नुकसानों से बच सकें। यदि हम इस पहलू में गंभीरता से रुचि रखते हैं और पारिस्थितिकी तंत्र को बेहतर बनाने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं, तो यह प्रयास इस सुधार की दिशा में एक सकारात्मक कदम बन सकता है।

हम केवल वर्तमान सभ्यता में पाई जाने वाली विलासिता के प्रति अपना दृष्टिकोण बदलकर ग्लोबल वार्मिंग को नहीं हरा सकते, क्योंकि वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड का मुख्य स्रोत विनिर्माण उद्योगों से जुड़ा हुआ है जब तक कि कोई हानिरहित विकल्प नहीं मिल जाता। इस समस्या की गंभीरता इसी प्रकार बनी रहेगी। कारखाने विभिन्न प्रकार के ईंधन के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के रसायनों का उपयोग करते हैं और अपने सभी जहरीले कचरे और कचरे को भूमि पर या नदियों और महासागरों में फेंक देते हैं। नकारात्मक प्रभावों के कारण, समुद्री जानवरों का जीवन खतरे में पड़ गया है और कई जानवरों की प्रजातियाँ भी विलुप्त हो रही हैं।

वैश्विक तापमान में निरंतर वृद्धि के बारे में जलवायु वैज्ञानिकों के बीच व्यापक सहमति ने कई राज्यों और निगमों और व्यक्तियों को ग्लोबल वार्मिंग को रोकने और पर्यावरण को वापस सामान्य स्थिति में लाने के लिए प्रेरित किया है। इसने सुझाव दिया कि पारिस्थितिकी तंत्र को प्रभावित करने वाले व्यक्तियों और निगमों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए कि लोग इसकी गंभीरता से वाकिफ रहें।

पर्यावरण की सुरक्षा और उसे क्षरण से बचाने की जिम्मेदारी सिर्फ सरकार की ही नहीं बल्कि आम नागरिकों की भी है, क्योंकि यह एक वैश्विक समस्या है, जिसमें हर कोई मौलिक भूमिका निभा सकता है। इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए नीतियों का निर्धारण, उसके क्रियान्वयन में जो सख्ती और ईमानदारी दिखनी चाहिए, वह प्रायः देखने को नहीं मिलती। संसाधनों के संरक्षण और नए संसाधन परियोजनाओं के साथ-साथ आधुनिक तकनीक से पर्यावरण को बेहतर बनाने के प्रयास भी जारी रहने चाहिए।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया की आबादी फिलहाल 68 अरब है और 2030 तक इसके बढ़कर 83 अरब होने का अनुमान है। जनसंख्या कुछ अधिक है, जिससे संसाधनों पर दबाव बढ़ता है और गरीबी और बीमारी भी बढ़ती है, इसलिए इस संबंध में एक राष्ट्रीय नीति की आवश्यकता है, जिससे मानव जनसंख्या के अनुपात के साथ-साथ संसाधनों में भी वृद्धि हो सके।

इन सबका सार यह है कि हमें पर्यावरणीय क्षरण को रोकने और नियंत्रित करने के लिए हर संभव प्रयास करते रहना चाहिए क्योंकि इसके बिना सतत विकास संभव नहीं है। इसके लिए स्वच्छ ऊर्जा के विकल्पों को अपनाना सबसे महत्वपूर्ण है, हम सदियों से कोयला, तेल, गैस का उपयोग करते आ रहे हैं, जिनसे बड़ी मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड और हरित गैसें निकलती हैं और जारी हैं। इसलिए इस पर ध्यान देने की जरूरत है। पवन, सौर और जल विद्युत जैसी नवीकरणीय ऊर्जा का उपयोग करने पर, क्योंकि ऐसी ऊर्जा से हरित गैसों का उत्सर्जन बहुत कम होता है।

ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के लिए ऐसे कानून बनाने की तत्काल आवश्यकता है। कार्बन टैक्स और ऊर्जा कुशल प्रथाओं, इसके लिए सरकारी सब्सिडी को बढ़ावा दें, इसलिए प्रत्येक नागरिक को अपने राजनीतिक नेताओं को वोट देना चाहिए जो जलवायु परिवर्तन से निपटने को प्राथमिकता देता है और ग्लोबल वार्मिंग को कम करने की कोशिश करता है और ऐसे व्यवसायों का समर्थन करता है जो पर्यावरण के अनुकूल हैं।

दुनिया के जंगल एक स्पंज की तरह काम करते हैं जो वायुमंडल में छोड़े गए कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं, इसलिए यह निश्चित है कि बड़े पैमाने पर वनीकरण और पुनर्वनीकरण प्रयासों के माध्यम से ग्लोबल वार्मिंग के खतरे से निपटा जा सकता है। इसके अलावा, हमारे कार्बन फुटप्रिंट को कम करने में मदद करने के लिए परिवहन के सही साधनों जैसे पैदल चलना, बाइक चलाना, सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करना या हाइब्रिड या इलेक्ट्रिक कारों को चलाकर इस जोखिम को कम किया जा सकता है। घरों में बिजली के अनावश्यक उपयोग को कम करना भी एक प्रभावी प्रक्रिया हो सकती है, ऐसे उपायों से ऊर्जा की बचत हो सकती है, जिससे कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी।

निस्संदेह, ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के लिए परिवर्तनकारी, ठोस और निरंतर प्रयास की आवश्यकता है। इसके लिए व्यक्तिगत और सामूहिक रूप से प्रयास करना जरूरी है, नए संसाधनों का उपयोग करने की हमारी क्षमता, हमारा लचीला रवैया और लाखों लोगों में पैदा हुई पर्यावरणीय चेतना इस उम्मीद को साकार कर सकती है कि पृथ्वी एक बार फिर रहने के योग्य होगी। हम सभी एक ही ग्रह पर रहते हैं और इसके निवासियों के रूप में, पृथ्वी पर सभी जीवन के अस्तित्व के लिए ग्लोबल वार्मिंग को रोकना हमारी साझा जिम्मेदारी है। क्योंकि हमारा भविष्य हमारे आज के कर्मों पर निर्भर करता है।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण): इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति The Mooknayak उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार The Mooknayak के नहीं हैं, तथा The Mooknayak उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.
ग्लोबल वार्मिंग
मध्य प्रदेश: ट्रक-बस ड्राइवर्स की हड़ताल का असर, पेट्रोल पंप पर लंबी कतारें लगी, सब्जियों के दाम हुए दोगुने
ग्लोबल वार्मिंग
महिला अपराध में यूपी टॉप पर, सरकारी दावों के पोल खोलते आंकड़े!
ग्लोबल वार्मिंग
उत्तर प्रदेश: किसान नेता के घर पुलिस का धावा, मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित संदीप पाण्डेय ने उठाए सवाल

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com