लोकसभा चुनाव 2024- "बनारस को बताएंगे PM मोदी के जुमलों की हकीकत- श्याम रंगीला

वाराणसी में मोदी को चुनौती देने वाले कॉमेडियन श्याम ने द मूकनायक से साझा की चुनावी रणनीति, आगे पढ़ें क्यों लड़ रहे है चुनाव...।
श्याम रंगीला.
श्याम रंगीला.

नई दिल्ली। "मैं यह चुनाव फेमस होने के लिए नहीं, देश बचाने के लिए लड़ रहा हूं। बनारस की जनता को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जुमलों की हकीकत बताकर उनसे मत और समर्थन की अपील करूंगा। मुझे उम्मीद ही नहीं पूरा विश्वास है की जनता जानार्दन इस बार देश बचाने को मतदान करेगी।" प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ बनारस से चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद चर्चा में आए कॉमेडियन श्याम रंगीला ने द मूकनायक से खास बातचीत में यह विचार व्यक्त किए। श्याम राजस्थान के मूलनिवासी है और पिछड़ा वर्ग के प्रजापत (बढ़ई) समाज से आते है।

श्याम ने आगे कहा-"चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद से बनारस के स्थानीय लोगों ने सोशल मीडिया और व्यक्तिगत तौर पर मुझसे सम्पर्क किया। मैं एक बार बनारस पहुंचने के बाद उनसे मिलकर स्थानीय मुद्दों पर चर्चा करूंगा। इसके बाद चुनाव प्रचार की रणनीति बनाएंगे।"

"हेट स्पीच से लोगों को बरगलाकर वोट लेने की रणनीति की काट के लिए हम लोकसभा क्षेत्र की जनता से रोजगार, भ्रष्टाचार, महंगाई जैसे बुनियादी मुद्दों पर बात करेंगे।" श्याम ने कहा।

जनता के सहयोग से लड़ेंगे चुनाव

एक सवाल के जवाब में रंगीला ने कहा- "इस बार संविधान और देश को बचाने के लिए जनता चुनाव लड़ रही है। मैं बस उनका प्रतिनिधि हूं। जनता के सहयोग से ही चुनाव लड़ेंगे। हालांकि श्याम रंगीला के पास चुनाव में नामांकन करने के 25 हजार रुपए भी नहीं है। उनके पास केवल एक ताकत है, वह है 25 लाख फालोअर्स की। रंगीला ने कहा- "क्राउड फंडिंग से पैसे जुटाकर नामांकन भी भरूंगा। पोस्टर गाड़ी की व्यवस्था भी क्राउड फंडिंग से करूंगा।"

10 मई को वाराणसी में नामांकन करेंगे श्याम रंगीला

श्याम रंगीला ने कहा “पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ मैं पक्का चुनाव लडूंगा। 10 मई नामांकन भरूंगा। मुझे कोई बिठा नहीं सकता। मैं यह बताना चाहता हूं कि बीजेपी या पीएम सभी को बिठा सकते हैं फिर भी मैं नहीं बैठूंगा।” राजनीतिक पारी के लिए वाराणसी को चुनने के सवाल पर श्याम रंगीला ने कहा “मैंने देखा सूरत और इंदौर में। कांग्रेस के प्रत्याशी बैठ गए या बीजेपी में शामिल हो गए। अब वहां कोई बीजेपी के सामने लड़ने वाला रहा ही नहीं। यदि वाराणसी में सभी बैठ जाएंगे तो भी मैं खड़ा रहूंगा।”

क्राउड फंडिंग से जुटाएंगे 25 हजार रुपये

श्याम रंगीला ने कहा “मेरे पास खर्च करने के लिए पैसे नहीं हैं। क्राउड फंडिंग से मैं नामांकन के लिए 25 हजार रुपये जुटा लूंगा।” उन्होंने आगे कहा कि भारत का नागरिक कहीं से भी चुनाव लड़ सकता है। वोट की परवाह नहीं हैं। जमानत जब्त होगी तो भी 25 हजार मोदी की जेब में तो नहीं जाएंगे। चुनाव आयोग में जाए, वह देश के ही काम आएंगे।”

कौन है श्याम रंगीला?

राजस्थान के सीमावर्ती जिले श्रीगंगानगर के एक छोटे से गांव मोखमवाला में श्याम रंगीला का जन्म हुआ। वे मात्र 12 वीं पास हैं। उनकी उम्र मात्र 29 साल है। हास्य रचनाओं और कॉमेडी से लोगों का मनोरंजन ही उनका पेशा है। इसके चलते वे युवाओं में बहुत पॉपुलर हैं। सोशल मीडिया पर उनके 25 से 30 लाख फालोअर्स हैं। बीते दिनों उन्होंने उत्तर प्रदेश की वाराणसी लोकसभा सीट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ लोकसभा चुनाव 2024 में ताल ठोकने की घोषणा कर दी।

बनारस लोकसभा क्षेत्र का चुनावी चौसर

धर्म, अध्यात्म, शिक्षा और अब राजनीति के एक बड़े केंद्र के रूप में स्थापित हो चुके बनारस का चुनाव अंतिम चरण यानी 1 जून को होना है. पूर्वांचल की कई सीटों के साथ बनारस में होने वाले लोकसभा चुनाव का एक अलग ही महत्व है.

क्योंकि, बनारस की इस सबसे हॉट सीट से खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनाव लड़ रहे हैं. माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी 13 या 14 मई को अपना नामांकन दाखिल करेंगे. हालांकि, अभी आधिकारिक घोषणा होना बाकी है, लेकिन पीएम मोदी के नामांकन को लेकर भी तैयारियां तेज हो गई है.

इन सबसे अलग पीएम मोदी को भाजपा 10 लाख वोटों से जिताने का नारा अलग से बनारस में लेकर चल रही है. पिछले बार के जीत के अंतर को और बड़ा करने और विकास कार्यों के बल पर बड़ी जीत हासिल करने का दवा बीजेपी का है 19 लाख से ज्यादा वोटरों में से 10 लाख वोट के अंतर से जितना कुछ मुश्किल है, लेकिन भाजपा अपने दावों पर अलग है और कहीं ना कहीं से इन दावों को अब विपक्ष भी खुद बल दे रहा है.

इसकी बड़ी वजह यह है कि भाजपा के इस एजेंडे के खिलाफ इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी अजय राय और बहुजन समाज पार्टी की तरफ से मुस्लिम कैंडिडेट नियाज अली मंजू के अलावा ओवैसी और अपना दल कमेरावादी गठबंधन के प्रत्याशी गगन यादव भी मैदान में है. अब इसमें कॉमेडियन श्याम रंगीला का भी नाम जुड़ गया है। इससे मुकाबला और रोचक होने की संभावना है.

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com