दिल्लीः स्वाती मालीवाल का दावा- "LG द्वारा निकाले गए 223 कर्मचारियों में कई एसिड और रेप विक्टिम"

दिल्ली महिला आयोग के 200 से ज्यादा संविदा कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया है। LG ने आज एक आदेश जारी करके यह कार्रवाई की।
रेप विक्टिम के साथ स्वाती मालीवाल। (फाइल फोटो)
रेप विक्टिम के साथ स्वाती मालीवाल। (फाइल फोटो)

दिल्ली महिला आयोग के 223 कर्मचारी नौकरी से निकाल दिए गए हैं। बर्खास्तगी के आदेश LG वीके सक्सेना ने जारी किए। आरोप हैं कि आयोग की पूर्व अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने बिना अनुमोदन के नियमों का उल्लंघन करके निकाले गए कर्मचारियों को भर्ती किया था, इसलिए उन्हें बर्खास्त किया जाता है। वहीं स्वाति मालीवाल ने बर्खास्तगी के आदेश को तुगलकी फरमान बताया। वहीं कहा कि भगवान सब देख रहा है, निकाले गए 223 कर्मचारियों में कई एसिड और रेप विक्टिम हैं।

अवैध करार दी गईं नियुक्तियां

LG ऑफिस की ओर से जारी आदेशों में कहा गया है कि दिल्ली महिला आयोग में 40 स्टाफ की भर्ती होनी थी, लेकिन LG से मंजूरी लिए बिना 200 से ज्यादा कर्मचारी भर्ती कर दिए गए थे, जबकि आयोग के पास संविदा के आधार पर मर्जी से ज्यादा कर्मचारी भर्ती करने की शक्तियां नहीं हैं। इसलिए नियुक्तियों को अवैध करार देते हुए संज्ञान लिया गया और आदेश जारी करके भर्ती किए गए कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया गया। नियुक्तियां अवैध मानी गईं है और आयोग को कर्मियों की सेवाएं जारी रखने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

क्या कहा स्वाति मालीवाल ने?

LG की ओर से जारी बर्खास्तगी के आदेशों पर आयोग की पूर्व अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के आदेश को तुगलकी फरमान बताया और कहा कि महिला आयोग में 90 कर्मचारी हैं, लेकिन सिर्फ 8 कर्मी काम कर रहे हैं। अगर कर्मचारियों को हटा दिया गया तो आयोग पर ताला जड़ जाएगा। सरकार को स्टाफ देना चाहिए, लेकिन छीनकर आयोग को खत्म करने की कोशिश की जा रही है, लेकिन जब तक मैं जिंदा हूं, दिल्ली महिला आयोग को बंद नहीं होने दूंगी। चाहे मुझे जेल में डाल दो, लेकिन महिलाओं पर अत्याचार नहीं होने दूंगी।

मालीवाल ने दे दिया था इस्तीफा

उल्लेखनीय है कि स्वाति मालीवाल को आम आदमी पार्टी की ओर से राज्यसभा प्रत्याशी बनाया गया था. इसके बाद दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने जनवरी 2024 में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. मालिवाल को दिल्ली सरकार ने 2015 में दिल्ली महिला आयोग का अध्यक्ष बनाया था. मालीवाल वर्तमान में राज्यसभा सांसद है.

रेप विक्टिम के साथ स्वाती मालीवाल। (फाइल फोटो)
दिल्ली: डीयू से निकाले गए एडहॉक प्रोफेसरों के समर्थन में उतरे विधायक जिग्नेश मेवाणी

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

Related Stories

No stories found.
The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com