'सैप्टिक टेंक की सफाई में मानव श्रम के उपयोग को सख्ती से करें प्रतिबंधित'

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग उपाध्यक्ष ने उदयपुर में अधिकारियों को दी ताकीद, सैप्टिक टेंक हादसा स्थल का लिया जायजा, मृतक आश्रितों को 10-10 लाख के चैक वितरित
मृतक महेंद्र के परिजनों को चैक सौंपती राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की उपाध्यक्ष अंजना पंवार
मृतक महेंद्र के परिजनों को चैक सौंपती राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की उपाध्यक्ष अंजना पंवार

उदयपुर। राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की उपाध्यक्ष अंजना पंवार ने कहा कि जो सफाई कर्मी स्वच्छता के संकल्प को साकार कर रहे हैं, उनके प्रति अधिकारियों, कर्मचारियों तथा आमजन को पूर्ण संवेदनशीलता दिखानी चाहिए। उनकी समस्याओं का त्वरित निस्तारण होना चाहिए। उन्होंने मैनुअल स्केवेजिंग एक्ट की रोकथाम को सख्ती से लागू करते हुए सैप्टिक टेंक की सफाई में मानव श्रम के उपयोग को पूर्णतया प्रतिबंधित करने की हिदायत दी।


पंवार शुक्रवार को संभागीय आयुक्त कार्यालय सभागार में सफाई कर्मचारियों एवं उनके आश्रितों के सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षणिक जीवन का अध्ययन तथा उनके पुनर्वास के लिए स्वरोजगार योजना की समीक्षा बैठक ले रही थी। उन्होंने शहर में गत 14 जुलाई को हुए सैप्टिक टेंक हादसे पर संवेदनाएं व्यक्त की। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की स्पष्ट गाइडलाइन है कि सीवर सफाई के लिए मानव को नहीं उतारा जाएगा। यदि ऐसा पाया गया तो दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के प्रावधान है। इसके बावजूद इस तरह की घटनाएं होना दुर्भाग्यपूर्ण है। उनकी रोकथाम के लिए वृहद स्तर पर जागरूकता अभियान चलाने की आवश्यकता है। उन्होंने बैठक में मौजूद समस्त अधिकारियों को इसके लिए निर्देशित किया।

आयोग उपाध्यक्ष पंवार ने सभी निकायों के अधिकारियां को स्पष्ट शब्दों में आदेशित किया कि सीवर सफाई में किसी भी सूरत में मानवीय श्रम का सीधे तौर पर उपयोग नहीं जाए। यदि ऐसा पाया गया तो संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ भी नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। पंवार ने पीड़ित परिवारों को आर्थिक सहायता संबंधी जानकारी ली। एडीएम सिटी ने अवगत कराया कि दोनों परिवारों को होटल मालिक के माध्यम से 5-5 लाख रूपए की सहायता उपलब्ध करा दी गई हैं। इस पर पंवार ने एमएस एक्ट के तहत दी जाने वाले राशि के संबंध में जवाब-तलब करते हुए हाथों हाथ चैक तैयार कराने के निर्देश दिए। जिला कलक्टर अरविन्द पोसवाल के निर्देशन में प्रशासन ने संवेदनशीलता दिखाते हुए त्वरित कार्यवाही कर गिर्वा पंचायत समिति के माध्यम से दोनों परिवारों के लिए 10.10 लाख के चैक तैयार कराए। श्रीमती पंवार ने एट्रोसिटी एक्ट के प्रावधानों के तहत देय राशि की प्रक्रिया भी जल्द पूर्ण कराकर पीड़ित पक्षां को राहत देने तथा आयोग को अवगत कराने के निर्देश दिए।

बैठक में वाल्मिकी समाज तथा सफाई कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधियों ने विभिन्न प्रतिवेदनाएं भी प्रस्तुत की, जिस पर आयोग उपाध्यक्ष पंवार ने संबंधित अधिकारियों को दिशा-निर्देश देते हुए त्वरित समाधान के लिए निर्देशित किया।

सज्जनगढ़ के समीप घटनास्थल का जायजा लेती राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की उपाध्यक्ष
सज्जनगढ़ के समीप घटनास्थल का जायजा लेती राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की उपाध्यक्ष

यह भी दिए निर्देश


पंवार ने सभी निकायों में सफाई कर्मचारियों के लिए प्रति तीन माह में संपूर्ण स्वास्थ्य जांच तथा जागरूकता शिविर आयोजित किए जाने, सफाई कर्मचारियों को आईकार्ड, मौसम के अनुसार युनिफार्म, सफाई कार्य के लिए गुणवत्तायुक्त जरूरी संसाधन उपलब्ध कराने, शहर में बने सफाई जोन में महिला-पुरूषों के लिए पृथक-पृथक चेजिंग रूम मय प्रसाधन सुविधा की व्यवस्था करने, डीपीसी कराकर सफाई कर्मचारियों की पदोन्नति करने, सफाई कर्मियों को सेवानिवृत्ति के समय ग्रेज्यूटी आदि के परिलाभ तत्काल उपलब्ध कराने के लिए आवश्यक प्रक्रिया सेवानिवृत्ति तिथि से 6 माह पहले से ही प्रारंभ करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार सफाई कर्मचारी के पद पर भर्ती होने के बावजूद मूल कार्य के बजाए अन्य कामों में नियोजित कार्मिकों को मूल कार्य में लगाकर आयोग को रिपोर्ट प्रेषित करने, सफाई कर्मचारियों के लिए आवासीय कॉलोनी के प्रस्ताव तैयार कर प्रेषित करने, महिला कर्मचारियों को ड्यूटी समय में राहत दी जाए तथा उन्हें हैवी ड्यूटी नहीं कराने, सफाई कर्मचारियों की बस्ती में सामुदायिक भवनों को सुव्यवस्थित कराने, शहर के लेबर चौराहा पर स्थित पार्क में वाल्मीकि प्रतिमा स्थापित कराने, कर्मचारियों का वर्दी भत्ता बढ़ाने के लिए प्रस्ताव राज्य सरकार को प्रेषित करने, सफाई कर्मचारियों के उपचार के लिए पैनल हॉस्पीटल की सूची सभी सेंटर ऑफिस पर चस्पा कराने, सफाई कर्मचारियों का न्यूनमत मानदेय बढ़ाने के प्रस्ताव राज्य सरकार को प्रेषित करने के भी निर्देश दिए।

हादसा स्थल का लिया जायजा

बैठक के पश्चात श्रीमती पंवार शहर के सज्जनगढ़ के समीप स्थित उस होटल पर पहुंची, जहां गत 14 जुलाई को हादसे में दो युवकों की मृत्यु हुई थी। उन्होंने घटनास्थल का अवलोकन कर एडीएम तथा पुलिस अधिकारियों को निष्पक्ष जांच कर नियमानुसार कानूनी कार्रवाई के निर्देश दिए।


पीड़ित परिवारों को बंधाया ढांढस, चैक सौंपे

इसके पश्चात आयोग उपाध्यक्ष किशनपोल क्षेत्र स्थित मृतक महेंद्र पुत्र रमेश कण्डारा के निवास पर पहुंची। यहां परिजनों को ढांढस बंधाया। गिर्वा प्रधान सज्जनदेवी कटारा की मौजूदगी में एमएस एक्ट के प्रावधानों के तहत गिर्वा पंचायत समिति की ओर से 10 लाख 10 हजार रूपए का चैक मृतक के पिता रमेशचंद्र व मां शांतिदेवी को सौंपा। इस पश्चात इंद्रानगर बीड़ा में मृतक विजय पुत्र किशन कल्याणा के घर पहुंच कर उसकी बेवा ज्योति, मां तथा बच्चों को सांत्वना दी। यहां भी गिर्वा पंचायत समिति की ओर से परिजनों को 10 लाख 10 हजार रूपए का चैक सौंपा। साथ ही उन्होंने उक्त राशि का सदुपयोग करने की हिदायत भी दी। मौके पर मौजूद समाजजनों से सीवर सफाई के लिए सैप्टिक टेंक में नहीं उतरने तथा दूसरों को भी इसके प्रति जागरूक करने की अपील की। इस दौरान गिर्वा विकास अधिकारी गजराज मेनारिया सहित अन्य मौजूद रहे।

मृतक महेंद्र के परिजनों को चैक सौंपती राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की उपाध्यक्ष अंजना पंवार
मध्य प्रदेश: राज्य में फैला आई फ्लू, स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एडवाइजरी
मृतक महेंद्र के परिजनों को चैक सौंपती राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की उपाध्यक्ष अंजना पंवार
दिल्ली: युगांडा की दो महिलाओं से जबरन कराई जा रही थी वेश्यावृत्ति

द मूकनायक की प्रीमियम और चुनिंदा खबरें अब द मूकनायक के न्यूज़ एप्प पर पढ़ें। Google Play Store से न्यूज़ एप्प इंस्टाल करने के लिए यहां क्लिक करें.

The Mooknayak - आवाज़ आपकी
www.themooknayak.com